ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशलोकसभा चुनाव में हार के कारणों पर मायावती 23 को करेंगी बड़ी बैठक, आकाश को बुलावा नहीं

लोकसभा चुनाव में हार के कारणों पर मायावती 23 को करेंगी बड़ी बैठक, आकाश को बुलावा नहीं

बसपा सुप्रीमो मायावती ने लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद 23 जून को सबसे महत्वपूर्ण बैठक करने जा रही हैं। इस बैठक में देशभर के पदाधिकारियों को बुलाया गया है लेकिन भतीजे आकाश आनंद नहीं रहेंगे।

लोकसभा चुनाव में हार के कारणों पर मायावती 23 को करेंगी बड़ी बैठक, आकाश को बुलावा नहीं
Yogesh Yadavहिन्दुस्तान,लखनऊSat, 15 Jun 2024 08:33 PM
ऐप पर पढ़ें

बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद 23 जून को सबसे महत्वपूर्ण बैठक करने जा रही हैं। इस बैठक में देशभर के पार्टी के पदाधिकारियों को बुलाया गया है। यूपी से प्रमुख रूप से कोआर्डिनेटर और जिलाध्यक्षों को भी बुलाया गया है, लेकिन चर्चाओं की मानें तो इस बैठक से मायावती ने भतीजे आकाश आनंद को दूर ही रखा है। उन्हें बैठक के लिए बुलावा नहीं भेजा गया है। पिछले छह चुनावों से बसपा लगातार न सिर्फ हार रही बल्कि उसकी सीटें कम होती जा रही हैं और वोट प्रतिशत भी घट रहे हैं। 2012 से लगातार तीन विधानसभा चुनाव और 2014 से लगातार चार लोकसभा चुनाव बसपा हार चुकी है। अभी तक ऐसा लग रहा था कि उसका वोट अभी भी उसके साथ है या बहकावे में भाजपा के साथ चला गया है। लेकिन इस बार उसके वोटर पहली बार सपा और कांग्रेस गठबधन की ओर चले गए। इससे मायावती को बड़ा झटका लगा है। 

लोकसभा चुनाव के बीच में ही सीतापुर में चुनावी सभा के बाद एफआईआर होने के बाद मायावती ने भतीजे आकाश आनंद को अपने उत्तराधिकारी और राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर के पद से हटा दिया था। चुनाव समाप्त होने के बाद यह चर्चाएं तेजी से शुरू हुई कि आकाश जल्द ही दोबारा मुख्य धारा में आएंगे। सूत्रों के अनुसार कुछ पदाधिकारियों ने भी आकाश आनंद को लेकर मायावती से चर्चा की, लेकिन मायावती फिलहाल उनको आगे नहीं करने के मूड में दिखाई नहीं दे रही हैं। इस महीने 23 जून को होने वाली बैठक में भी आकाश के दूर रहने की उम्मीद जताई जा रही है।

सेक्टर प्रभारियों की रिपोर्ट पर चर्चा
बसपा सुप्रीमो ने लोकसभा चुनाव में हार के कारणों को लेकर सबसे पहले राष्ट्रीय पदाधिकारियों से रिपोर्ट ली थी। इसके आधार पर सेक्टरवार रिपोर्ट ले चुकी हैं। कुछ सेक्टरों से अभी भी रिपोर्ट नहीं मिली है। मायावती बैठक में सेक्टर प्रभारियों की रिपोर्ट पर चर्चा करेंगी। चर्चा के दौरान यह भी पूछा जाएगा कि बसपा से कहां चूक हुई जो पार्टी को लोकसभा चुनाव में इतनी बड़ी हार का सामना करना पड़ा। बताया जा रहा है कि इस महत्वपूर्ण बैठक के बाद बसपा संगठन में एक और बड़ा फेरबदल होगा, इसमें कुछ राष्ट्रीय और प्रदेश पदाधिकारियों के दायित्वों में भी बदलाव किया जा सकता है। जातीय समीकरण के हिसाब से नए सिरे से जिम्मेदारियां दी जा सकती हैं।