Sunday, January 23, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशमथुरा की तैयारी है...केशव मौर्य के नए नारे से गरमाई यूपी की सियासत, अखिलेश बोले-बीजेपी को मदद नहीं मिलने वाली

मथुरा की तैयारी है...केशव मौर्य के नए नारे से गरमाई यूपी की सियासत, अखिलेश बोले-बीजेपी को मदद नहीं मिलने वाली

प्रमुख संवाददाता ,आगरा Ajay Singh
Thu, 02 Dec 2021 06:26 AM
मथुरा की तैयारी है...केशव मौर्य के नए नारे से गरमाई यूपी की सियासत, अखिलेश बोले-बीजेपी को मदद नहीं मिलने वाली

उत्तरप्रदेश के विधानसभा चुनाव में अब ‘मथुरा’ की एंट्री हो गई है। बुधवार को प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशवप्रसाद मौर्य के ट्वीट ने सियासी सरगर्मी बढ़ा दी है। मौर्य ने लिखा है- अयोध्या, काशी में भव्य मंदिर निर्माण जारी है। मथुरा की तैयारी है। जयश्रीराम, जय शिवशंभू, जय राधेकृष्ण। विपक्षी दल अब ट्वीट को लेकर हमलावर हैं। हिन्दुत्व के मुद्दे को हवा देने के आरोप के साथ सवाल भी पूछा है कि चुनाव से पहले ही भाजपा को भगवान क्यों याद आते हैं? सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि बीजेपी को किसी भी नारे या मंत्र से मदद नहीं मिलेगी।

केशव मौर्य के दो लाइन के ट्वीट ने बड़ा संदेश देने की कोशिश की है। भाजपा का संगठन या सत्ता से जुड़ा कोई और नेता इस मुद्दे पर सामने नहीं आया है। हालांकि यूपी सरकार में ही कैबिनेट मंत्री स्वामीप्रसाद मौर्य ने अलग सुर अलापा है। उन्होंने कहा- अयोध्या, काशी व मथुरा न कभी चुनाव का मुद्दा था, न आज है और न ही भविष्य में रहेगा। प्रधानमंत्री हमेशा विकास के मुद्दे की बात करते हैं। कौशांबी में बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्र ने मौर्य को आड़े हाथ लेते हुए कहा- जनता उनका असली चेहरा पहचान चुकी है। मौर्य अगर यह सोचते हैं कि वह ध्रुवीकरण कर लेंगे, तो यह सबसे बड़ी भूल है। सपा प्रवक्ता आशुतोष वर्मा कहने से नहीं चूके कि चुनाव में हिन्दुत्व की लाचारी है। कुछ दिन में आचार संहिता लगने वाली है, इससे पहले ही इस तरह का दांव खेला जा रहा है।

मथुरा पर विशेष फोकस

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार का मथुरा पर विशेष फोकस रहा है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्यात बरसाने की लठामार होली को राजकीय मेले का दर्जा ही नहीं किया बल्कि जन्माष्टमी के आयोजनों में भी भव्य स्वरूप प्रदान किया। हिन्दु महासभा, श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्तिदल, नारायणी सेना समेत कुछ अन्य संगठनों ने छह दिसंबर को श्रीकृष्ण जन्मस्थली के विवादित स्थल तक संकल्प यात्रा निकालने और जलाभिषेक का भी सोशल मीडिया पर आह्वान किया था।

पुराना आंदोलन

श्रीकृष्ण जन्मभूमि की मुक्ति के लिए वर्ष 1996 में विश्व हिंदु परिषद ने मथुरा में विष्णु महायज्ञ का आयोजन कर आंदोलन की घोषणा की थी। तत्कालीन केंद्र सरकार ने जन्मभूमि की सुरक्षा के लिए जमीन से आसमान तक कड़ी सुरक्षा की थी। कोई आंदोलनकारी नहीं पहुंच सका। इसके बाद सुरक्षा घेरा बढ़ा दिया गया।

जन्मभूमि प्रकरण में एक साल में दायर हुए 10 वाद

श्रीकृष्ण जन्मस्थान और ईदगाह प्रकरण को लेकर अदालत में अब तक कुल 10 वाद दायर हो चुके हैं। इनमें 1968 में श्री कृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान और ईदगाह ट्रस्ट के मध्य हुए समझौते (डिक्री) को रद करने और 13.37 एकड़ जमीन से ईदगाह का अवैध कब्जा हटाना, जिओ रेडियोलॉजी सिस्टम और जीपीआर सिस्टम से खुदाई कराने की मांग शामिल है। इन्हें लेकर सबसे पहला वाद 25 सितंबर 2020 को मथुरा कोर्ट में दायर किया गया, जिस पर सुनवाई जारी है।

अब कोर्ट पर निगाहें

डिप्टी सीएम के ट्वीट के बाद सियासत भले ही बुधवार को गरमाई हो लेकिन सबकी निगाहें मथुरा जिला कोर्ट में चल रहे दस विभिन्न वादों और उनके आने वाले फैसलों पर ही टिकी हैं।

श्रीकृष्ण विराजमान मामले और 13.37 एकड़ जमीन से कब्जा हटाए जाने को लेकर सबसे पहला वाद 25 सितंबर 2020 को रंजना अग्निहोत्री, प्रवेश कुमार, राजेश मणि त्रिपाठी, करुणेश कुमार शुक्ला ने यूपी सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड, कमेटी ऑफ मेनेजमेंट ट्रस्ट शाही मस्जिद ईदगाह, श्रीकृष्ण जन्मभूमि ट्रस्ट व श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान को पक्षकार बनाते हुए सिविल जज सीनियर डिविजन की कोर्ट में दायर किया था। इसे लिंक कोर्ट एडीजे एफटीसी प्रथम की अदालत ने सुना और 30 सितंबर 2020 को इसे खारिज कर दिया था। उक्त आदेश के खिलाफ रंजना अग्निहोत्री आदि ने 12 अक्तूबर 2020 को जिलाजज की अदालत में चुनौती दी थी, जिसे अब प्रकीर्ण वाद में तब्दील कर उसकी सुनवाई जारी है।

घरों पर जलाभिषेक कर आह्वान किया

अखिल भारत हिन्दू महासभा द्वारा छह दिसंबर को लड्डू गोपाल का जलाभिषेक करने की घोषणा से माहौल गरम होना शुरू हुआ। महासभा की जिलाध्यक्ष छाया गौतम ने भी वीडियो डालकर लोगों से इसकी अनुमति न मिलने पर घरों पर ही जलाभिषेक करने की अपील की थी। श्रीकृष्ण जन्मसाथान के सदस्य और हिन्दूवादी नेता गोपेश्वर चतुर्वेदी का कहना है कि भगवान श्रीकृष्ण का मंदिर तोड़कर ईदगाह का निर्माण किया गया है। अदालत में हम हर बार जीते हैं।

13.37 एकड़ जमीन (ईदगाह सहित) पर मालिकाना हक हमारा है। इनका टैक्स नगर निगम को कृष्ण जन्मस्थान नहीं दे रहा है। भगवान श्री कृष्ण का मंदिर तोड़कर यहां से भगवान कृष्ण की मूर्ति ले जाकर आगरा की नगीना मस्जिद में सीढ़ियों पर लगाई गई है। कृष्ण जन्मस्थान ट्रस्ट ने कोई समझौता नहीं किया। यदि यह समझौता लागू होता तो नगर निगम में रेवेन्यू रिकॉर्डों में ईदगाह का नाम आ चुका होता। लेकिन आज तक ईदगाह का नाम रिकॉर्ड में नहीं है। ईदगाह के अलावा उस स्थान पर जो 30 घोसी रह रहे हैं, उनके मालिक के कॉलम में जन्मभूमि ट्रस्ट का नाम है। श्री चतुर्वेदी ने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण का मंदिर जरूर बनेगा।

श्रीकृष्ण जन्मस्थान पर मंदिर भगवान श्रीकृष्ण के प्रपौत्र बज्रनाथ ने अपने पूर्वज की याद में बनवाया था। इसके बाद महाराजा विक्रमादित्य ने चौथी सदी में यहां भगवान श्रीकृष्ण का मंदिर बनवाया। 1016 में महमूद गजनवी यहां आया और उसने इस भव्य मंदिर को तोड़ा। 21 दिन तक मंदूर को लूटा गया।गजनवी के मीर मुंशी अल उलवी ने अपनी पुस्तक तारीखे यामनी में इसका उल्लेख किया है। 1250 के आसपास महाराजा विजयपाल सिंह के बनाए मंदिर को सिकंदर लोधी ने 15वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में तोड़ दिया। ओरछा के राजा वीर सिंह बुंदेला ने 1610 में भगवान श्रीकृष्ण का मंदिर बनवाना चालू किया।

1618 में औरंगजेब ने इस मंदिर को तोड़ा। पटनीमल के प्रपौत्र ने 13.37 एकड़ (ईदगाह सहित) जमीन का बैनामा मदन मोहन मालवीय, प्रो. अत्रे और गणेश दत्त बाजपेयी के नाम 1944 में किया। जुगल किशोर बिड़ला ने 1950 में श्री कृष्ण जन्मभूमि ट्रस्ट बनाया। सारे अधिकार ट्रस्ट में निहित हो गए। तब से ट्रस्ट ही मालिक है। 1953 में यहां कारसेवा शुरू हुई। हनुमान प्रसाद पोद्दार ने 1957 में मंदिर का शिलान्यास किया। 1958 में केशवदेव मंदिर तैयार हुआ। इसी मंदिर पर जन्माष्टमी उत्सव हर साल मनाया जाता है।

दायर दस वादों पर बहस के बाद आएगा फैसला

-15 दिसंबर 2020 को सिविल जज सीनियर डिविजन की अदालत में हिन्दू आर्मी चीफ मनीष यादव ने वाद दायर किया था। इस दावे को स्वीकार किया।

-23 दिसंबर 2020 को सिविल जज सीनियर डिविजन की अदालत में ठाकुर केशव देव महाराज विराजमान मंदिर कटरा केशव देव, जय भगवान गोयल, सौरभ गोड़, राजेन्द्र माहेश्वरी व महेन्द्र प्रताप सिंह की ओर से वाद दायर किया गया।

-2 फरवरी को कटरा केशवदेव के सेवायत पवन कुमार शास्त्रत्त्ी ने सिविल जज सीनियर डिविजन की अदालत में दायर किया।

-इसके कुछ दिन बाद ही अनिल कुमार त्रिपाठी की ओर से सिविल जज सीनियर डिविजन की अदालत में वाद दायर किया गया।

-दिनेश चंद शर्मा की ओर से जन्मस्थान ईदगाह प्रकरण में सिविल जज सीनियर डिविजन की अदालत में वाद दायर किया गया।

श्रीकृष्ण जन्मभूमि ट्रस्ट के नाम पर श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संघ मथुरा ने 12 अक्टूबर 1968 को समझौता किया था। जमीन ट्रस्ट की थी, तब सेवा संघ समझौता कैसे कर सकता है।

विष्णु जैन, वकील सुप्रीम कोर्ट

आगामी विधानसभा चुनाव में रथयात्रा और नया चुनावी मंत्र भाजपा की मदद नहीं करने वाले हैं। बीजेपी को किसी भी नारे या मंत्र से मदद नहीं मिलेगी। जनता अब उन्हें समझ चुकी है।

अखिलेश यादव, अध्यक्ष, सपा

 

epaper

संबंधित खबरें