ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशनई दिल्ली-दरभंगा एक्सप्रेस की स्लीपर बोगी में भीषण आग, कूद-कूदकर बचाई जान, धूं-धूंकर जल गए दो कोच

नई दिल्ली-दरभंगा एक्सप्रेस की स्लीपर बोगी में भीषण आग, कूद-कूदकर बचाई जान, धूं-धूंकर जल गए दो कोच

नई दिल्ली से दरभंगा जा रही एक्सप्रेस ट्रेन में इटावा के पास बुधवार की शाम भीषण आग लग गई। आग ट्रेन की स्लीपर बोगी में लगी। आग लगते ही यात्रियों ने कूद-कूदकर जान बचाई। उतरने की कोशिश में कई चोटिल हुए।

नई दिल्ली-दरभंगा एक्सप्रेस की स्लीपर बोगी में भीषण आग, कूद-कूदकर बचाई जान, धूं-धूंकर जल गए दो कोच
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,इटावाWed, 15 Nov 2023 10:21 PM
ऐप पर पढ़ें

नई दिल्ली से दरभंगा जा रही स्पेशल ट्रेन में बुधवार शाम इटावा में भीषण आग लग गई। जसवंत स्टेशन से निकलने के बाद इटावा से करीब छह किमी पहले सराय भूपत के पास एस-वन कोच में चिंगारी उठी जो देखते ही देखते लपटों में तब्दील हो गई। एस-वन सहित उससे जुड़े अन्य कोच में हाहाकार मच गया। यात्री कूदने लगे। आठ यात्री झुलस गए और 18 कूदने पर घायल हुए हैं। एस-वन और एसएलआर कोच जलकर खाक हो गए हैं। आग पर काबू पा लिया गया है। घायलों का इलाज जारी है। रेलवे अफसरों ने कहा कि जांच की जा रही है। कोई जनहानि नहीं हुई है।

नई दिल्ली से दरभंगा जा रही 02570 स्पेशल क्लोन हमसफर सुफर फास्ट ट्रेन में आग करीब 5:29 बजे लगी। उस वक्त रफ्तार 20 किमी प्रति घंटा थी। सराय भूपत स्टेशन से बढ़ते ही स्लीपर कोच एस-वन में धुआं उठने लगा फिर तेज विस्फोट हुआ। लपटें उठने लगीं। गार्ड ने लपटें व धुआं देख ट्रेन रुकवाई। तब तक कई यात्री कूद कर भागने लगे। भगदड़ मच गई। कुछ यात्रियों ने खिड़कियां तोड़ दीं, तो कुछ दूसरों को धक्का देकर गेट से कूदे। मिनटों में पूरी ट्रेन खाली हो गयी। सभी घायल 26 यात्री एस-वन में सवार थे। घायलों को जिला अस्पताल भेजा गया, जहां चार की हालत गंभीर बतायी जा रही है।

घायल यात्रियों के मुताबिक आग स्लीपर एस-वन व एसएलआर कोच दोनों में लगी थी। जो आंशिक रूप से एस-टू में भी पहुंची। बोगी में क्षमता से लगभग डेढ़ गुने (72 के स्थान पर 118 ) यात्री सवार थे। ढाई घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। कानपुर- दिल्ली पर रेल मार्ग पर ओएचई बंद कर दी गई। रात 8:18 बजे रूट पर ट्रेनों का संचालन चालू हो सका। पहली ट्रेन दरभंगा स्पेशल ही कानपुर को रवाना की गई है। इस दौरान सात राजधानी, दो शताब्दी समेत 54 ट्रेनें जहां की तहां रोक दी गईं। आग के कारणों की जांच का आदेश दिया गया है।

एसएसपी संजय वर्मा के अनुसार एक बोगी में सराय भूपत के पास अचानक आग लगी थी। सूचना पर पुलिस व अन्य अफसर पहुंच गये। बड़ा नुकसान हुआ है, इसमें चार यात्री घायल हुये हैं। सतर्कता के चलते सभी की जान बचा ली गयी है। प्रयागराज रेल मंडल के पीआरओ अमित सिंह ने बताया कि आग से किसी यात्री को कोई बड़ी क्षति नहीं हुई है। सभी यात्री सुरक्षित हैं। आग एस-1 कोच में लगी थी। उसके आगे और पीछे के कोच एस -2, एस-3 और एसएल आर को भी एहतियातन अलग किया गया। आग पूरी तरह बुझा दी गई है। ट्रेन रवाना कर दी गई है। कानपुर में तीन नए कोच लगा कर यात्रियों को उनके गंतव्य तक भेजा जाएगा।

इटावा में ट्रेन अग्निकांड में झ़ुलसे लोग
1. दयानंद 45 वर्ष पुत्र हरदेव मंडलनंद, निवासी ग्राम शंकर लोहार, जिला दरभंगा
2. रौनक राज 12 वर्ष पुत्र दयानंदमंडल निवासी ग्राम शंकर लोहार जिला दरभंगा पुत्र
3.  मनोज चोपाल 37 वर्ष पुत्र राम चोपाल निवासी बेनीपुर जिला दरभंगा
4. हरेंद्र यादव 26 वर्ष पुत्र रामविलास ग्राम उसमामठ थाना पतोंर जिला दरभंगा
5 . टिल्लू मुखिया 18 वर्ष पुत्र कारी मुखिया ग्राम गुसवा थाना अलीनगर जनपद दरभंगा
6. कंचन देवी पत्नी दयानंद 40 वर्ष
7. सुनीता देवी पत्नी मोहनलाल 65 वर्ष (दयानंद की मां)
8. आकृति 9 वर्ष पुत्री दयानन्द

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें