Sunday, January 23, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशमनीष गुप्ता मर्डर केस : हत्यारोपी पुलिसकर्मियों की न्यायिक हिरासत 14 दिन बढ़ी

मनीष गुप्ता मर्डर केस : हत्यारोपी पुलिसकर्मियों की न्यायिक हिरासत 14 दिन बढ़ी

वरिष्ठ संवाददाता, गोरखपुरShivendra Singh
Wed, 01 Dec 2021 07:27 PM
मनीष गुप्ता मर्डर केस : हत्यारोपी पुलिसकर्मियों की न्यायिक हिरासत 14 दिन बढ़ी

मनीष गुप्ता की हत्या के आरोपित बनाए गए पुलिस वालों को सीबीआई अभी कस्डटी रिमांड पर नहीं लेगी बल्कि जेल जाकर ही उनसे पूछताछ करेगी और उनका बयान भी दर्ज करेगी। बुधवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए आरोपित पुलिसवालों की कोर्ट में पेशी हुई। सीबीआई की तरफ से न्यायिक हिरासत बढ़ाने की अर्जी दी गई थी। लिहाजा कोर्ट ने उसे स्वीकार करते हुए 15 दिसम्बर तक उनकी न्यायिक हिरासत की अवधि बढ़ा दी है।

सीबीआई ने आरोपित पुलिसवालों से जेल में पूछताछ करने के साथ ही उनका बयान दर्ज करने के लिए कोर्ट में आवेदन दिया था। उसे कोर्ट ने मान लिया। अब गुरुवार से लेकर किसी भी समय जेल पहुंच कर सीबीआई सभी आरोपितों का बयान दर्ज कर सकती है। इससे पहले सीबीआई ने मनीष गुप्ता के दोस्तों से पूछताछ के बाद मंगलवार को उनका बयान दर्ज करने का सिलसिला जारी रखा। एनेक्सी भवन में उनसे पहले अलग-अलग फिर एक साथ पूछताछ हुई। उसके बाद उनका पूरा बयान सिलसिलेवार नोट किया गया है। 

इस दौरान करीब 45 मिनट के लिए मनीष के दोस्तों को लेकर सीबीआई एक बार फिर होटल पहुंची और जिस कमरे में मनीष के साथ घटना हुई थी उसे आज फिर खोला गया। एसआईटी ने अपनी जांच के दौरान 11 गवाह बनाए थे जिसमें मनीष के दोस्त भी थे। सीबीआई भी दोस्तों को गवाह बना रही है लिहाजा किसी के बयान में कोई अंतर तो नहीं है इसे सीबीआई ने बार-बार क्रास चेक किया। माना जा रहा है यही बयान अब मुकदमे में ट्रायल के दौरान कोर्ट में भी काम आने वाला है।

दोपहर तक दीवानी में ही रही सीबीआई
बुधवार को आरोपित छह पुलिसवालों की वीडियोकांफ्रेंसिंग के जरिये पेशी होनी थी लिहाजा सीबीआई सुबह 10:30 बजे ही कोर्ट पहुंच गई और वहां न्यायिक हिरासत बढ़ाने की अर्जी देने के साथ ही जेल में आरोपितों से पूछताछ के लिए भी अनुमति मांगी। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ज्योत्सना यादव की कोर्ट ने उनकी अर्जी स्वीकार कर ली और आरोपितों की न्यायिक हिरासत 15 दिसम्बर तक बढ़ाने के साथ ही जेल जाकर पूछताछ की अनुमति दे दी। 12:45 बजे के करीब सीबीआई दीवानी कचहरी से एनेक्सी भवन के लिए निकली।

मनीष के दोस्तों से लिया बयान, गवाह बना सकती है सीबीआई 
इससे पहले मनीष गुप्ता के दोस्तों को सीबीआई ने रोक रखा था। एनेक्सी भवन पहुंचने पर सीबीआई ने पहले प्रदीप और हरबीर को बुलाया। उससे पूछताछ करने बाद चंदन, राणा चंद और धनंजय को पूछताछ के लिए बुलाया। सीबीआई ने सभी से अलग-अलग पूछताछ करने के साथ फिर एक साथ भी पूछताछ की। पूछताछ के बाद करीब चार बजे सीबीआई उन्हें लेकर एक बार फिर होटल पहुंच गई। कमरा नम्बर 512 खोला गया और एक बार फिर सीबीआई ने होटल में घटनावाली रात उनकी मौजूदगी के आधार पर पूछताछ की। होटल के मैनेजर से भी सीबीआई ने पूछा। पौने पांच बजे यहां से टीम निकली और मनीष के दोस्त भी निकल गए। बताया जा रहा है कि मनीष के दोस्तों से गोरखपुर में पूछताछ और बयान दर्ज करने की प्रक्रिया बुधवार को पूरी कर ली गई है। उन्हें अब जरूरत पड़ने पर दिल्ली आने के लिए कहा गया है।

हरियाणा के दोस्त लौटे अब गोरखपुरवालों को जाना पड़ेगा दिल्ली
पूछताछ के बाद हरियाणा के दोनों दोस्त हरबीर और प्रदीप बुधवार को लौट गए। पिछले दो दिन में सीबीआई ने उनसे कई राउंड पूछताछ के बाद उनका बयान दर्ज किया और उन्हें घर जाने की इजाजत मिल गई। वहीं मनीष गुप्ता के गोरखपुर के दोस्त चंदन, राणा चंद और धनंजय का भी बयान दर्ज हो गया लिहाजा उन्हें भी फिलहाल पूछताछ के चक्कर से मुक्ति मिल गई। केस का ट्रायल दिल्ली में होना है लिहाजा अब जब ट्रायल शुरू होगा तब गोरखपुर के गवाहों को दिल्ली जाना पड़ेगा। वहीं हरियाणा के दोस्त तो वहीं से दिल्ली आ जाएंगे। सूत्रों के मुताबिक पांचों दोस्तों को सीबीआई ने गवाह बनाया है।

कल पुलिसवालों से पूछताछ कर सकती है सीबीआई 
मनीष के हत्या में आरोपित बनाए गए जेएन सिंह, अक्षय मिश्र, विजय यादव व अन्य पूछताछ करने गुरुवार को सीबीआई जेल जा सकती है। हालांकि कोर्ट से जो अनुमति मिली है उसमें किसी दिन के लिए निर्धारित नहीं है, लिहाजा यह तय नहीं है कि सीबीआई कब जाएगी। विवेचना के दौरान आरोपित को भी अपना पक्ष रखने का मौका होता है। माना जा रहा है कि आरोपित अपने बचाव में क्या कहते हैं, सीबीआई उनसे पूछताछ करेगी और उनका बयान भी दर्ज करेगी। पूछताछ के दौरान अगर जरूरत पड़ी तब जाकर सीबीआई उन्हें रिमांड पर लेगी। 

epaper

संबंधित खबरें