DA Image
Sunday, December 5, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशमनीष गुप्‍ता के दोस्‍तों को गोरखपुर में अब किससे लग रहा डर? SIT के बार-बार बुलाने पर भी नहीं दर्ज कराया बयान

मनीष गुप्‍ता के दोस्‍तों को गोरखपुर में अब किससे लग रहा डर? SIT के बार-बार बुलाने पर भी नहीं दर्ज कराया बयान

वरिष्‍ठ संवाददाता ,गोरखपुर Ajay Singh
Tue, 26 Oct 2021 02:53 PM
मनीष गुप्‍ता के दोस्‍तों को गोरखपुर में अब किससे लग रहा डर? SIT के बार-बार बुलाने पर भी नहीं दर्ज कराया बयान

कानपुर के प्रॉपर्टी डीलर मनीष गुप्ता हत्याकांड में मृतक मनीष के साथ गुड़गांव से आए उसके दोस्त हरबीर और प्रदीप एसआईटी की जांच से भाग रहे हैं। शायद यही वजह है कि एसआईटी के कई बार गोरखपुर बुलाने पर भी वह अपना बयान दर्ज कराने नहीं आए।

गोरखपुर में आने पर डर हवाला देकर वह यहां से दूरी बना रहे हैं वहीं कई दिनों तक इंतजार के बाद एसआईटी की आधी टीम कानपुर लौट गई है। फिलहाल एसआईटी के एक इंस्पेक्टर और एक कांस्टेबल ही गोरखपुर में मौजूद हैं। मनीष गुप्ता हत्याकांड में एसआईटी इस मामले से जुड़े सभी साक्ष्यों को जुटाने के साथ ही इस घटना से जुड़े करीब सभी लोगों के बयान दर्ज कर चुकी है। सिर्फ घटना के वक्त मौजूद मनीष के गुड़गांव से आए दोस्त हरबीर सिंह और प्रदीप सिंह का ही बयान बाकी रह गया है। कानपुर में उन्होंने अपना बयान दर्ज कराया है लेकिन एसआईटी उन्हें गोरखपुर बुलाकर एक बार होटल के कमरा नंबर 512 का सीन रिक्रिएट कराना चाहती है। इसके लिए अब तक एसआईटी ने कई बार मनीष के दोस्तों को बुलाया है।

उन्होंने डर का हवाला दिया तो फिर उन्हें सुरक्षा तक देने की बात कही गई पर वह कानपुर से आगे नहीं बढ़ रहे हैं। गोरखपुर न आने का कोई न कोई बहाना बनाकर टाल रहे हैं। सोमवार को भी उन्हें गोरखपुर आना था लेकिन इस बार करवाचौथ का हवाला देकर वह समय मांग लिए थे। हालांकि इससे पहले दोनों दोस्तों ने नवरात्रि व्रत आदि का तर्क देकर एसआईटी से कुछ दिनों की मोहलत मांगी थी लेकिन सबकुछ बीत जाने के बाद भी वे गोरखपुर आने को तैयार नहीं हुए। ऐसे में अब एसआईटी भी यह मानकर चल रही है कि वे इस मामले से पीछे भाग रहे हैं। जबकि दूसरी ओर मृतक की पत्नी मीनाक्षी मामले की सीबीआई जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में भी अर्जी लगा चुकी हैं। फिलहाल उनकी अर्जी पर कोर्ट की सुनवाई होनी बाकी है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें