ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी में ऐसे जिलों के बीएसए के खिलाफ होगी बड़ी कार्रवाई, योगी सरकार ने दी चेतावनी 

यूपी में ऐसे जिलों के बीएसए के खिलाफ होगी बड़ी कार्रवाई, योगी सरकार ने दी चेतावनी 

यूपी में ऐसे जिलों के बीएसए के खिलाफ बड़ी कार्रवाई होगी। स्कूलों में बने स्मार्ट क्लास की जानकारी को पोर्टल पर अपडेट नहीं करने वाले बेसिक शिक्षा अधिकारियों के खिलाफ सरकार बड़ी कार्रवाई करेगी।

यूपी में ऐसे जिलों के बीएसए के खिलाफ होगी बड़ी कार्रवाई, योगी सरकार ने दी चेतावनी 
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,लखनऊSun, 16 Jun 2024 11:15 AM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के जिलों के स्कूलों में बने स्मार्ट क्लास की जानकारी को पोर्टल पर अपडेट नहीं करने वाले बेसिक शिक्षा अधिकारियों के खिलाफ सरकार बड़ी कार्रवाई करेगी।  प्रदेश के तीन दर्जन से अधिक जिलों के बेसिक शिक्षा अधिकारियों ने शासन स्तर से जारी तमाम निर्देशों के बावजूद पोर्टल पर अपने जिले में संचालित स्मार्ट क्लास की जानकारी अपडेट नहीं कराया हैं। इससे शासन स्तर पर भारी नाराजगी है। इस कारण शासन के निर्देश के बाद स्कूल महानिदेशालय ने ऐसे बीएसए के खिलाफ चेतावनी जारी की है जिसमें कहा गया है कि 20 जून तक हर हाल में पोर्टल अपडेट कर दिया जाये अन्यथा उनकी जिम्मेदारी तय करते हुए उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। 

बताया जाता है कि शासन स्तर से पिछले वर्ष अक्तूबर माह में ही सभी बीएसए को निर्देश दिए गए थे कि वे अपने जिले के स्मार्ट क्लास की जानकारी पोर्टल पर अपडेट कर दें ताकि जिन स्कूलों में स्मार्ट क्लास नहीं है वहां कॉरपोरेट या औद्योगिक घरानों के अलावा पीएम श्री की निधि के सहयोग से नये स्मार्ट क्लास शुरू कराए जा सके या आवश्यकतानुसार उनकी संख्या में वृद्धि की जा सके। लिहाजा बीएसए को निर्देश दिए गए थे कि वे अपने जिले में कितने ऐसे स्कूल हैं जिनमें स्मार्ट क्लास संचालित किये जा रहे हैं। कितने स्कूलों में यह सुविधा अभी उपलब्ध नहीं है।

 प्रदेश के कुल 42 जिलों ने अब तक यह सब जानकारी अपडेट नहीं किये हैं। सूत्र बताते हैं कि जिन स्कूलों में स्मार्ट क्लास तो बन गये हैं लेकिन बच्चे वहां अभी भी जमीन पर बैठ रहें हैं उन स्कूलों में पीएम श्री योजना या प्रदेश सरकार के कम्पोजिट ग्रांट से बेंच-डेस्क की व्यवस्था कराने की सरकार की मंशा है। चूंकी कम्पोजिट ग्रांट के मद में बहुत ही कम बजट की व्यवस्था है लिहाजा सरकार चरणबद्ध तरीके से इसे पूरा करना चाहती है। 
 

Advertisement