ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशमैनपुरी उपचुनावः मंच पर भावुक हुए शिवपाल यादव, अखिलेश यादव को दिलाया यह भरोसा

मैनपुरी उपचुनावः मंच पर भावुक हुए शिवपाल यादव, अखिलेश यादव को दिलाया यह भरोसा

मुलायम सिंह यादव के निधन से रिक्त हुई मैनपुरी लोकसभा की सीट को बचाने के लिए यादव परिवार ने पूरा जोर लगा दिया है। बार-बार सार्वजनिक रूप से यह बताने की कोशिश हो रही है कि अब सबकुछ ठीक है।

मैनपुरी उपचुनावः मंच पर भावुक हुए शिवपाल यादव, अखिलेश यादव को दिलाया यह भरोसा
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,मैनपुरीMon, 21 Nov 2022 05:09 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

मुलायम सिंह यादव के निधन से रिक्त हुई मैनपुरी लोकसभा की सीट को बचाने के लिए यादव परिवार ने पूरा जोर लगा दिया है। आपसी मतभेद भुलाए जा चुके हैं। बार-बार सार्वजनिक रूप से यह बताने की कोशिश हो रही है कि अब सबकुछ ठीक है। खासकर शिवपाल की तरफ से यह जताया जा रहा है कि उनकी तरफ से कोई गलती कभी नहीं की गई थी। शिवपाल ने अखिलेश यादव को अपनी ईमानदारी का भरोसा दिलाते हुए मुलायम सिंह यादव के साथ बिताए पलों की चर्चा की। इस दौरान शिवपाल भावुक हो गए। 

जसवंत नगर में सपा कार्यकर्ता सम्मेलन में शिवपाल यादव ने कहा कि नेताजी (मुलायम सिंह यादव) के साथ पांच साल की उम्र से हूं। उनसे बहुत कुछ सीखा है। अखिलेश की ओर मुखातिब होते हुए कहा कि मैंने समर्पण और क्षणता यू हीं नहीं हासिल  की है। नेताजी के साथ रहने से यह सब सीखा है। नेताजी को कभी निराश नहीं किया। आपको भी कभी निराश नहीं करूंगा। 

बता दें कि सात साल से चाचा भतीजे के बीच राजनैतिक खींचतान चली आ रही थी। विधानसभा चुनाव में भले ही शिवपार्ल सिंह यादव ने रथयात्रा एक साथ निकाली हो लेकिन फिर भी उनके बीच खटास कम नहीं हुई थी। अब सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव की परंपरागत लोकसभा सीट को जीतने की बारी आयी तो फिर से चाचा भतीजा एक साथ हो गये। उनके एक मंच पर आने से दोनों के बीच बनी खटास भी खत्म होती दिखाई दे रही है। 

इससे पहले रविवार को सैफई के एसएस मेमोरियल स्कूल में हुए कार्यकर्ता सम्मेलन में बनाये मंच पर भतीजे पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बीच की कुर्सी संभाली जबकि दायें बाएं चाचा शिवपाल सिंह यादव व प्रो.रामगोपाल यादव बैठे। तीनों को एक साथ मंच पर देखकर बड़ी संख्या में मौजूद कार्यकर्ताओं ने तालियां बजाकर उनका स्वागत किया और डिंपल यादव को चुनाव जिताने का भरोसा दिलाया।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव मंच पर आये तो चाचा शिवपाल सिंह ने उनका फूलों का गुलदस्ता देकर सम्मान किया। अखिलेश भी पीछे नहीं रहे, तुरंत चाचा के पैर छूकर आर्शीवाद लिया। सम्मेलन में सपा के प्रमुख महासचिव प्रो.रामगोपाल यादव, पूर्व सांसद तेज प्रताप यादव, शिवपाल सिंह के बेटे व प्रसपा महासचिव आदित्य यादव, सपा नेता राम गोविंद चौधरी भी मौजूद रहे। 

एक होकर भाजपा को हराया जा सकता है

कार्यकर्ता सम्मेलन में शिवपाल ने कहा कि एक होकर ही भाजपा को हराया जा सकता है। ये झूठ बोलने वाली सरकार है। हमारे खिलाफ साजिशें हो रही हैं। इस बार भाजपा को रिकॉर्ड मतों से हराना है। मैनपुरी में बहू डिंपल यादव चुनाव लड़ रहीं हैं, सभी की जिम्मेदारी है कि बहू को बड़ी जीत दिलायें। मंच से शिवपाल यादव ने कहा कि वो कहते थे कि एक हो जाओ। अब हम एक हो गए हैं। अब उनकी बोलती बंद कर देंगे। 

चाचा-भतीजे में कभी दूरी नहीं थीः अखिलेश 

सम्मेलन में सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि कुछ लोग कहते हैं कि चाचा भतीजे अलग हैं, उनको बता दें कि चाचा भतीजे में कभी दूरी नहीं थी। मैनपुरी का उपचुनाव पूरा देश देख रहा है। हमें एक साथ देखकर भाजपा को तकलीफ हो रही होगी। भाजपा को आज सबसे ज्यादा घबराहट हो रही है। भाजपा को हर जगह कमी दिखती है, हमें नेताजी के बताए रास्ते पर चलना है।