DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राधना में महापंचायत: गांव को बदनाम करने वालों का होगा बहिष्कार, गांव में तीन बार आ चुकी है NIA

Mahapanchayat in Randhana

हथियारों की तस्करी के लिए दूर-दूर तक बदनाम किठौर क्षेत्र के राधना गांव में रविवार को महापंचायत हुई। यह महापंचायत इसलिए आयोजित की गई कि चंद लोगों की वजह से पूरे गांव का नाम बदनाम हो रहा है। देश की सर्वोच्च सुरक्षा-जांच एजेंसियां आए दिन गांव में दबिश दे रही हैं। इस महापंचायत में राधना व आसपास गांवों के सभी बिरादरी के हजारों लोग और उलमा-ए-दीन शामिल हुए। निर्णय लिया गया कि अवैध धंधों से जुड़े लोगों का बहिष्कार होगा।

राधना के इस्लामिया मदरसे में आयोजित महापंचायत में पूर्व ग्राम प्रधान अब्दुल जब्बार ने कहा कि गांव में पल रहे चंद असमाजिक तत्वों ने शासन-प्रशासन की नजर में राधना की तस्वीर बहुत ही भयावह बना दी है। शर्मनाक बात यह है कि गांव की बहुसंख्यक आबादी के शिक्षित, कृषक, व्यापारी होने के बावजूद राधना की पहचान सिर्फ हथियार तस्करों की बस्ती के तौर पर होती जा रही है। इस वजह से यहां पंजाब, दिल्ली, हरियाणा और दूसरे राज्यों व जिलों की पुलिस अवैध हथियारों, कारीगरों और तस्करों की तलाश में दबिश देती रही है।

महापंचायत में मौजूद ग्रामीणों ने स्वीकारा कि उन्हीं की ढिलाई से गांव में गलत धंधा करने वालों के हौसले बढ़े हैं। ग्रामीणों ने कहा कि चंद लोगों की वजह से देश की बड़ी-बड़ी सुरक्षा एजेंसियां यहां दबिश दे रही हैं। ऐसे में गांव के सम्मानित लोगों का जीना मुहाल हो गया है। साथ ही गांव की बदनामी पूरे देश में आतंक के पर्याय के रूप में उभर रही है।

सपा-बसपा गठबंधन से मुस्लिम वोटों के ध्रुवीकरण के आसार

ग्रामीणों ने एक सुर में कहा कि शासन-प्रशासन अवैध धंधेबाजों पर कार्रवाई करे। इस कार्रवाई में पूरा गांव सबके साथ है। जमीयत उलमा के जिला सदर मौलाना अमीर आजम ने कहा कि इस्लाम अमन का पैगाम देता है। मजहबे इस्लाम और सच्चे मुसलमान से किसी भी कौम और बिरादरी को नुकसान पहुंच ही नहीं सकता। उन्होंने महापंचायत में मौजूद तमाम लोगों को अवैध कारोबारियों का बहिकार करने की शपथ दिलाई। महापंचायत में पूर्व प्रधान उमर अली, वीरेंद्र चेयरमैन, प्रधानाचार्य ओमवीर, मौलाना जुनैद, मुफ्ती सद्दाम, मौलवी अब्दुल्ला ने भी विचार व्यक्त किए। तमाम लोगों ने क्षेत्र में अमन शांति कायम रखने और असामाजिक तत्वों के विरोध पर जोर दिया। इस दौरान बहरोड़ा, इंद्रपुरा, भगवानपुर, नवल, ललियाना, शौंदत, किठौर के हजारों लोग शामिल रहे।

शत्रुघ्न सिन्हा बोले, मुझसे भी तो पूछे कि टिकट लूंगा या नहीं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mahapanchayat in Radhana people say Those who defame the village will have boycotted NIA have raided the village thrice