ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशआईएएस पत्नी हत्याकांड: जिसने निभाया था मां का फर्ज, उसकी हत्या करने में नहीं कांपे हाथ, चौंकाने वाले खुलासे

आईएएस पत्नी हत्याकांड: जिसने निभाया था मां का फर्ज, उसकी हत्या करने में नहीं कांपे हाथ, चौंकाने वाले खुलासे

Retired IAS wife murder case: लखनऊ में रिटायर आईएएस पत्नी हत्याकांड में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए है। घर में 13 साल से ड्राइवर रहा अखिलेश ऐसा कर देगा, इस बारे में उन्हें विश्वास नहीं हुआ।

आईएएस पत्नी हत्याकांड: जिसने निभाया था मां का फर्ज, उसकी हत्या करने में नहीं कांपे हाथ, चौंकाने वाले खुलासे
Deep Pandeyविशाल शुक्ला,लखनऊWed, 29 May 2024 06:58 AM
ऐप पर पढ़ें

लखनऊ में रिटायर आईएएस देवेंद्र की पत्नी हत्याकांड में कई खुलासे हुए हैं। 13 साल से ड्राइवर रहा अखिलेश ऐसा कर देगा, इस बारे में उन्हें विश्वास नहीं हुआ। देवेंद्र और उनकी पत्नी मोहिनी उसे अपने परिवार के सदस्य जैसा प्यार करने लगे थे। इतने लम्बे समय का विश्वास हो गया था। अखिलेश के ही एक रिश्तेदार ने बताया कि इसी साल नौ फरवरी को अखिलेश की शादी हुई थी तो उसके कार्ड में देवेंद्र और मोहिनी का नाम स्वागताकांक्षी के तौर पर छपा था। उसकी शादी में भी देवेंद्र ने आर्थिक मदद करने के साथ की कई उपहार भी दिये थे। यह बात काफी चौंकने के साथ ही इस रिश्तेदार ने कहा कि अखिलेश के हाथ नहीं कांपे हत्या करने में।

ड्राइवर की पत्नी को पहनाई थी अंगूठी नौ फरवरी 2024 में अखिलेश की शादी हुई। जिसके लिए देवेंद्र ने उसे आर्थिक मदद दी। दोनों लोग रिसेप्शन में भी शामिल हुए थे। वहां कई घंटे तक रहे भी। मोहिनी ने अखिलेश की पत्नी सीमा को अंगूठी भी पहनाई।

देवेंद्र का शक उन पर गया ही नहीं मोहिनी की हत्या के बाद पुलिस ने ड्राइवरों पर शक जताया। पर देवेंद्र को अखिलेश और रवि पर पूरा भरोसा था। उन्होंने ड्राइवरों के कई सालों से घर में काम करने और विश्वासपात्र होने की बात भी कही थी। लेकिन पुलिस की जांच में अखिलेश और उसके भाई रवि की भूमिका खुल कर सामने आ गई। देवेंद्र की कालोनी की तरह अखिलेश और रवि के पड़ोसी व रिश्तेदार भी अवाक रह गये। अखिलेश के परिचित ने पुलिस को यह तक बताया था कि देवेंद्र से कुछ लोगों ने अखिलेश व रवि का सत्यापन कराने को कहा था तो उन्होंने साफ मना कर दिया था।

13 साल पुराने ड्राइवर ऐसा करेंगे, भरोसा ही नहीं हुआ

देवेन्द्रनाथ दुबे के घर में 13 साल से ड्राइवर रहा अखिलेश ऐसा कर देगा, इस बारे में उन्हें विश्वास नहीं हुआ। सोमवार को पुलिस ने अखिलेश से सामना कराया था तो वह उससे यही बोले थे कि ये क्या कर दिया तुमने। 13 साल का विश्वास तोड़ दिया। अखिलेश ने पुलिस से कबूला कि कुछ माह पहले उसे टीबी की बीमारी होने का पता चला था। इलाज के लिये ढाई लाख कर्ज लिया था। इसे चुकाने के लिये देवेंद्र से रुपये मांगे थे लेकिन मदद नहीं मिली। कुछ समय पहले किसी छोटी बात पर मालकिन ने उसे डांट दिया तो वह नाराज था।