DA Image
26 अक्तूबर, 2020|11:01|IST

अगली स्टोरी

नाम बदल कर नाबालिग को प्यार में फंसाया, धर्म परिवर्तन कराने के बाद किया निकाह

love jihad girls who change their religion and get married will be investigated afresh kanpur

लव जेहाद का एक मामला उत्तर प्रदेश में आगरा जिले के सिकंदरा थाने से बाल कल्याण समिति तक पहुंचा है। सिकंदरा क्षेत्र की किशोरी को सहारनपुर के इकरार ने नाम बदलकर प्रेम जाल में फंसाया था। घरवालों से झगड़ा होने पर किशोरी घर से चली गई। आरोपित ने पहले कुछ दिन उसे हरियाणा में रखा। बाद में अपने गांव ले गया। वहां उसका धर्म परिवर्तन कराया। उसका नाम इकराना रख दिया। निकाह कर लिया। पुलिस ने आरोपित को अपहरण, दुराचार और पॉक्सो की धारा में जेल भेजा है। बाल कल्याण समिति ने सुनवाई के बाद किशोरी को परिजनों के सुपुर्द कर दिया।

लॉकडाउन में शास्त्रीपुरम (सिकंदरा) से 17 वर्षीय एक किशोरी लापता हुई थी। पिता ने अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था। किशोरी पिछले दिनों बरामद हुई। उसकी कहानी सुनकर पुलिस वाले भी हैरानी में पड़ गए। फोन पर किशोरी की दोस्ती दानियालपुर, सहारनपुर निवासी इकरार पुत्र निसार से हुई थी। आरोप है कि इकरार ने अपना नाम रवि बताया था। दोनों की दोस्ती फोन पर ही बातचीत के दौरान प्यार में बदल गई। घरवालों ने किशोरी को किसी बात पर डांटा-फटकारा तो गुस्से में उसने घर छोड़ दिया। जाने से पहले घर से अपनी हाईस्कूल व इंटरमीडियट की अंकतालिका व 15 हजार रुपए ले गई।

धर्म परिवर्तन कराने के बाद कर लिया निकाह
फोन करने पर इकरार उसे बस स्टैंड लेने आ गया। वह उसे पहले गुरुग्राम ले गया। वहां दो दिन वे एक होटल में रहे। इसके बाद इकरार उसे हरियाणा के यमुनानगर जिले में ले गया। वहां उसे एक मकान में रखा। आरोपित वहां एक फैक्ट्री में नौकरी करता था। जब उसे लगा कि किशोरी कोई विरोध नहीं कर रही है तो अगस्त में वह उसको अपने गांव ले आया। यहां उसे इमाम से मिलवाया। उसका धर्म परिवर्तन करा दिया। उसका नाम इकराना रख दिया। उसके बाद उससे निकाह कर लिया। तलाश में जुटी पुलिस ने किशोरी को बरामद कर लिया। आरोपित को भी पकड़ लिया।

पुलिस ने सहारनपुर के इकरार को भेजा जेल
आरोपित को जेल भेज दिया गया है। किशोरी को बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया गया था। अध्यक्ष श्रीगोपाल शर्मा, सदस्य आशा शर्मा, विनीता कुलश्रेष्ठ, डॉ राजश्री ने किशोरी से बातचीत की। उससे पूछा कि वह क्या चाहती है। उसके बाद उसके परिजनों से शपथ पत्र लिए। जिसमें उन्होंने लिखकर दिया कि बालिग न होने तक वह बेटी की कहीं शादी नहीं करेंगे। उसके साथ किसी प्रकार की मारपीट और अभद्रता नहीं करेंगे। इसके बाद किशोरी को परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया।

'नाबालिग की इच्छा कोई मायने नहीं रखती'
इंस्पेक्टर सिकंदरा अरविंद कुमार ने बताया कि लड़की प्रमाणपत्र के अनुसार नाबालिग है। भले ही वह अपनी मर्जी से गई हो। अपनी मर्जी से शादी की हो मगर यह भी अपराध है। नाबालिग की इच्छा कोई मायने नहीं रखती। कानून कहता है कि नाबालिग को अपने अच्छे बुरे की समझ नहीं होती है। इसलिए आरोपित युवक को जेल भेजा गया है। किशोरी के कोर्ट में भी बयान दर्ज कराए गए थे। जिसमें उसने अपने नाम बदलने और निकाह की जानकारी दी थी। यह बताया था कि दोनों पति-पत्नी की तरह रहते थे। इसी आधार पर मुकदमे में दुराचार की धारा बढ़ाई गई।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:love jihad case in agra youth changedn his identity to implicate minor girl in love and then forced her to change religion