अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जन्मे कृष्ण कन्हाई, उमंग में डूबा ब्रज -VIDEO

birth celebration of lord krishna in mathura temple


श्रीकृष्ण जन्मस्थान की भागवत भवन की प्राचीर से उठी शंखध्वनि के साथ सोमवार रात्रि 12 बजते ही समूचा ब्रजमंडल  कान्हा के आगमन से भाव-विह्ल हो उठा। लाखों की भीड़़ को न तन की सुध रही, न मन काबू में रहा। जन्माभिषेक का दिव्य दीदार कर भक्तों के नेत्र सजल हो उठे। जय कन्हैया लाल की के स्वरों पर भक्त बरबस थिरक उठे।


श्रीकृष्ण जन्मोत्सव के दीदार के लिए ब्रज में दो दिन से शुरू हुआ भक्तों का रेला सोमवार को रात्रि आस्था का समुद्र बनकर उमड़ा। रात्रि 11 बजते ही जन्मस्थान के भागवत भवन में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने को भक्त बेताब हो उठे। गर्भगृह  में जैसे ही देव आह्वान शुरू हुआ तो भक्तों का रेला धक्का-मुक्की मे तब्दील होने लगा। उधर, भागवत भवन में तो अद्भुत नजारा रहा। यहां 11.15 बजे 1008 कमल पुष्पों से ठाकुरजी का सहत्रार्चन हुआ। करीब 35 मिनट के सहस्त्रार्चन के बाद मंदिर सेवकों से जन्माभिषेक की तैयारी की तो लगा वक्त ठहर जाए।

जन्माष्टमी Live : भगवान की एक झलक पाने को बेताब दिखे लोग, 20 लाख श्रृद्धालु जन्मस्थली पहुंचे

Happy Janmashtami : अपनों को भेजें ये BEST शुभकामना संदेश और तस्वीरें

Janmashtami : आज रात 12:00 बजे लड्डू गोपाल का ऐसे करें पूजन, VIDEO

janmashtami in mathura


घड़ी की दोनों सुइयां जैसे ही 12 पर पहुंची तो दिव्य खीरे से भगवान का प्राकट्य हुआ। इसके साथ ही जन्म आरती और चांदी की कामधेनु गाय से चांदी के कमल पुष्प पर ठाकुरजी की चल प्रतिमा विराजमान की गयी। तत्पश्चात, श्रीकृष्ण जन्मस्थान ट्रस्ट के अध्यक्ष अध्यक्ष व अयोध्या की मणिराम छावनी के महंत नृत्यगोपाल दास के सानिध्य में जन्माभिषेक शुरू होते ही भागवत भवन परिसर में हलचल तेज हो गयी। भक्तों के रेले को आगे बढ़ाने में सुरक्षाकर्मियों के पसीने छूटने लगे। हर कोई दिव्य दृश्यों को अपनी आंखों में समां लेने को बेताब रहा। ट्रस्ट के प्रबंध न्यासी अनुराग डालमियां व संत-महंतों ने भी करीब 25 मिनट तक अभिषेक किया। तत्पश्चात, ठाकुरजी की श्रृंगार आरती हुई।

 

जन्माभिषेक में जन्मस्थान सेवा संस्थान के सचिव कपिल शर्मा, सदस्य गोपेश्वरनाथ चतुर्वेदी व्यवस्थाएं संभाले रहे। श्रृंगार आरती के बाद 1.30 बजे तक भक्तों का रेला नहीं थमा तो मंदिर के द्वार से आम दर्शनार्थियों के लिए प्रवेश बंद करना पड़ा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lord Krishna take birth in the Bhagwat Katha of birthplace temple mathura