DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोकसभा चुनाव: सपा-बसपा गठबंधन के बाद कई नेता दल बदलने को तैयार

sp bsp alliance in up photo-ht

सपा और बसपा के बीच गठबंधन घोषित होने के साथ ही पश्चिमी उत्तर प्रदेश का सियासी माहौल गरमा गया है। बसपा और सपा के नेताओं में खुशी का माहौल है । दोनों ही दलों में टिकट के दावेदारों की संख्या बढ़ गई है। भाजपा के अनेक नेता भी भगवा चोला उतारने को तैयार हैं। बसपा सुप्रीमो के जन्मदिन से ही दल बदलने का सिलसिला भी प्रारम्भ हो जाएगा। 

गठबंधन घोषित होने के बाद सपा और बसपा के खेमों में जश्न का माहौल है। अब अन्य दलों के नेताओं का रुख भी सपा और बसपा की ओर होने लगा है। पार्टी नेताओं की मानें तो अब दोनों ही दलों में टिकट के दावेदारों की लाइन लंबी हो गई है। बसपा के संपर्क में भाजपा के कुछ जनप्रतिनिधि भी हैं, जो भगवा चोला उतारकर बसपा में आने को तैयार हैं। माना जा रहा है कि बसपा सुप्रीमो मायावती के जन्मदिन से ही दल-बदलने का सिलसिला प्रारम्भ हो जाएगा। ये ही हाल सपा में भी है। सपा में भी अब टिकट के दावेदारों की संख्या बढ़ चुकी है। वही अन्य दलों के नेताओं में बेचैनी का माहौल है।

लोकसभा चुनाव 2019: राहुल ने कहा, सपा-बसपा गठबंधन से हम चिंतित नहीं

इमरान मसूद :
कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष इमरान मसूद ने कहा कि कांग्रेस के बिना गठबंधन की कल्पना नहीं की जा सकती। कांग्रेस के बिना देश में भाजपा का विकल्प संभव नहीं है। कांग्रेस ने 2009 के चुनाव में 21 सीटें जीती थी। इस बार भी कांग्रेस बेहतर प्रदर्शन करेगी और यूपी में अधिक सीटें जीतने के साथ ही कांग्रेस केंद्र में भी सरकार बनाएगी।

मुनकाद अली :
बसपा के राष्ट्रीय महासचिव मुनकाद अली ने कहा कि गठबंधन ऐतिहासिक है, जो भाजपा का सफाया करेगा और यह गठबंधन भावनाओं से जुड़ा गठबंधन है जो आगे तक चलेगा। गरीबों, किसानों, दलितों, मजलूमों और व्यापारियों के हित में हुआ गठबंधन है जो नई क्रांति लाएगा।

अतर सिंह रावः
बसपा के सचेतक विधानमंडल दल एमएलसी अतर सिंह राव ने कहा कि यह गठबंधन भाजपा को साफ कर देगा। यह गठबंधन सबसे मजबूत होगा और प्रदेश में सबसे अधिक सीटों पर जीत हासिल करेगा। जनता गठबंधन के साथ है। पार्टी की नेता द्वारा साफ कह दिया गया है कि यह गठबंधन नई राजनीतिक क्रांति का संदेश है।

यूपी में सपा-बसपा का गठबंधन बेमेल, नहीं होगा सफल: आठवले  

सुरेन्द्र नागरः
सपा के राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सांसद सुरेन्द्र नागर ने कहा कि इस गठबंधन के साथ ही एक नई राजनीतिक क्रांति की शुरुआत हो चुकी है। यह सिर्फ दो पार्टियों का ही नहीं बल्कि सर्वसमाज का मेल है। जो लोकसभा चुनाव में नया इतिहास रचते हुए प्रदेश से भाजपा का सफाया करेगा। किसान,मजदूर, गरीब, मजलूम, व्यापारी सभी के हित की आवाज अब यह गठबंधन बनेगा। 

अश्वनी त्यागीः
भाजपा के क्षेत्रीय अध्यक्ष अश्वनी त्यागी ने कहा कि गठबंधन भाजपा के लिए कोई चुनौती नहीं है। भाजपा जीत के लिए चुनाव लड़ेगी। हम 51 प्रतिशत वोट लेकर, 73 प्लस का लक्ष्य हासिल करेंगे। भाजपा एक बार फिर से प्रदेश में 2014 का इतिहास दोहराएगी और सबसे अधिक सीटों पर जीत हासिल करेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha elections many leaders are ready to change party after SP BSP coalition in uttar pradesh