DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोकसभा चुनावः कन्नौज ने यूपी से दिल्ली तक दिए तीन मुख्यमंत्री

इत्रनगरी कन्नौज संसदीय सीट के हिस्से में अनोखी उपलब्धि है। यहां से चुनकर तीन सांसद अलग-अलग समय अलग-अलग प्रदेशों के मुख्यमंत्री की कुर्सी भी हासिल कर चुके हैं। मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव ने यूपी के मुख्यमंत्री बनने का गौरव हासिल किया तो शीला दीक्षित ने दिल्ली के मुख्यमंत्री का ताज पहना। 
मुलायम और शीला इस संसदीय सीट से एक-एक बार सांसद बन चुके हैं, जबकि अखिलेश ने लोकसभा चुनाव में कामयाबी की हैट्रिक लगाकर सांसद रहते हुए ही मुख्यमंत्री की कुर्सी हासिल की थी। मुलायम कन्नौज संसदीय सीट से पहली बार 1999 में सांसद निर्वाचित हुए तो वह दो बार मुख्यमंत्री बन चुके थे। तीसरी बार सीएम बनने से पहले वह कन्नौज से सांसद निर्वाचित हो चुके थे। शीला दीक्षित और अखिलेश ने अपने सियासी सफर की शुरुआत ही कन्नौज से की थी। शीला दीक्षित पहली बार 1984 में यहां से सांसद बनी थीं। अगला चुनाव हारने के बाद वह दिल्ली की सियासत का अहम चेहरा बनीं और बाद में लगातार तीन बार देश की राजधानी की मुख्यमंत्री की कुर्सी पर काबिज रहीं। अखिलेश ने सियासत की दुनिया में कदम रखने के लिए साल 2000 के लोकसभा उपचुनाव में किस्मत आजमाई और लगातार तीन बार सांसद बने। 
मुलायम सिंह यादवः तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने से पहले कन्नौज के सांसद
समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव तीन बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। कन्नौज लोकसभा क्षेत्र से 1999 का लोकसभा चुनाव जीतने के बाद 2003 में वह सूबे के तीसरी बार मुख्यमंत्री बने।  कन्नौज से सांसद चुनने से पहले भी दो बार वह सूबे के मुख्यमंत्री की कुर्सी संभाल चुके थे। 1999 लोकसभा चुनाव  में मैनपुरी और कन्नौज दोनों सीट से जीते और कन्नौज से इस्तीफा दिया। उनकी सीट से पुत्र अखिलेश यादव उपचुनाव जीतकर पहली बार सांसद बने। 
मुख्यमंत्री का कार्यकाल
पहली बार: पांच दिसम्बर 1989 से 24 जून 1991
दूसरी बार: पांच दिसम्बर 1993 से तीन जून 1995
तीसरी बार: 23 अगस्त 2003 से 13 मई 2007 
कन्नौज से सांसद: 1999 से 2000
शीला दीक्षितः कन्नौज से सांसद बनीं, फिर तीन बार दिल्ली की सीएम
किसी सूबे की लगातार तीन बार मुख्यमंत्री बनने वाली देश की पहली मुख्यमंत्री शीला दीक्षित कन्नौज संसदीय सीट का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं। 1998 से 2013 के बीच लगातार तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री रहने के पहले वह 1984 में यहां से सांसद चुनी गईं थीं।  हालांकि 1989 के अगले चुनाव में उन्हें यहां शिकस्त मिली थी। इसके बाद वह दिल्ली की सियासत में सक्रिय हो गईं। केरल की राज्यपाल भी बनीं। 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में पार्टी ने उन्हें मुख्यमंत्री का चेहरा भी घोषित किया था। 
कार्यकाल
पहली बार मुख्यमंत्री: 1998 से 2003
दूसरी बार मुख्यमंत्री: 2003 से 2008
तीसरी बार मुख्यमंत्री: 2008 से 2013
कन्नौज से सांसद: 1984 से 1989
अखिलेश यादवः कन्नौज से सांसद रहते ही बने मुख्यमंत्री 
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने से पहले कन्नौज के सांसद थे। कन्नौज संसदीय सीट से हैट्रिक लगाने वाले इकलौते सांसद होने का तमगा हासिल करने वाले अखिलेश यादव जब सूबे के मुख्यमंत्री बने तो वह कन्नौज के ही सांसद थे। मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने इस सीट से इस्तीफा दिया। उनकी खाली की हुई सीट पर उनकी पत्नी डिम्पल यादव यहां से निर्विरोध सांसद निर्वाचित हुइंर् थीं। 
कार्यकाल
पहली बार सांसद: 2000 से 2004
दूसरी बार सांसद: 2004 से 2009
तीसरी बार सांसद: 2009 से 2012
यूपी के मुख्यमंत्री: 2012 से 2017
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha elections: Kannauj has three chief ministers from UP to Delhi