ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशजयंत चौधरी के भाजपा के साथ जाने की अटकलें, अखिलेश यादव को यह उम्मीद

जयंत चौधरी के भाजपा के साथ जाने की अटकलें, अखिलेश यादव को यह उम्मीद

यूपी में भी इंडिया गठबंधन के बिखरने की अटकलें तेज हो रही हैं। सपा को छोड़कर रालोद भाजपा के साथ गठबंधन की तैयारी में है। इस सवाल पर रालोद की तरफ से जवाब तो नहीं आया लेकिन अखिलेश ने यह उम्मीद जताई है।

जयंत चौधरी के भाजपा के साथ जाने की अटकलें, अखिलेश यादव को यह उम्मीद
Yogesh Yadavहिन्दुस्तान,लखनऊWed, 07 Feb 2024 09:31 PM
ऐप पर पढ़ें

राष्ट्रीय लोकदल के समाजवादी पार्टी का साथ छोड़ने की चर्चाओं के बीच यूपी की सियासत में अंदरखाने काफी कुछ पकने लगा है। सपा अध्यक्ष अखिलेश आखिरी दौर में रालोद के साथ गठबंधन को बचाने की कोशिश करते दिखे। उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि जयंत हमारे साथ हैं। अखिलेश यादव ने मीडिया से बातचीत में कहा कि जयंत चौधरी बहुत सुलझे हुए, वे राजनीति को समझते हैं, मुझे उम्मीद है कि किसानों की लड़ाई के लिए जो संघर्ष चल रहा है, वे उसे कमज़ोर नहीं होने देंगे। वह भाजपा को हराने की हमारी लड़ाई में साथ हैं।

वहीं, सपा के राष्ट्रीय महासचिव शिवपाल यादव ने कहा कि सपा और रालोद साथ हैं और साथ मिलकर ही लड़ेंगे। शिवपाल ने कहा कि भाजपा गठबंधन को लेकर अफवाह फैला रही है। आगामी लोकसभा चुनाव हम मिलकर लड़ेंगे और भाजपा को हराएंगे।

सदन में शांत बैठे रहे रालोद विधायक 
सदन में रालोद सदस्य शांति से अपने स्थान पर बैठे रहे। राज्यपाल के अभिभाषण पर बोलने के लिए जब विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना ने रालोद के नेताओं को आमंत्रित किया तो कोई बोलने को तैयार नहीं हुआ। ऐसा इसलिए कि बोलने में उन्हें राज्यपाल के अभिभाषण पर अपने भाषण में विपक्ष वाली राह पर चलना पड़ता और सरकार की आलोचना करनी पड़ती।

इससे पहले विधानसभा सत्र शुरू होने से पहले लाबी में जब रालोद विधायकों की सपा के कुछ विधायकों से मुलाकात हुई तो सपा सदस्यों ने राज जानना चाहा तो रालोद सदस्य मुस्कुराते हुए टाल गए। उन्होंने कोई साफ जवाब नहीं दिया और मीडिया की अटकलें बताते हुए सदन में प्रवेश कर गए।
 
महाना संग अयोध्या जाएंगे रालोद विधायक
सूत्र बताते हैं कि 11 फरवरी को अयोध्या जाने वाले विधायकों में रालोद विधायक भी शामिल हो सकते हैं। अभी तीन चार दिन बाकी हैं। तब तक स्थिति और साफ हो जाएगी। रालोद विधायकों के सपा से अलग रुख लिए जाने से साफ हो जाएगा कि गठबंधन अब टूटने की कगार पर है। रालोद के एक बड़े प्रवक्ता ने कहा कि रालोद सदस्य अयोध्या में दर्शन को जाएंगे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें