ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशचवन्नी नहीं हूं जो... पुराना VIDEO वायरल होने पर RLD प्रमुख जयंत चौधरी की आई सफाई, यह बोले

चवन्नी नहीं हूं जो... पुराना VIDEO वायरल होने पर RLD प्रमुख जयंत चौधरी की आई सफाई, यह बोले

रालोद प्रमुख जयंत चौधरी के सपा का साथ छोड़कर एनडीए में जाने की तैयारी के बीच उनका पुराना वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो को लेकर जयंत की सफाई आई है। उन्होंने इसे चुनावी बातें कहा है।

चवन्नी नहीं हूं जो... पुराना VIDEO वायरल होने पर RLD प्रमुख जयंत चौधरी की आई सफाई, यह बोले
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊSat, 10 Feb 2024 07:17 PM
ऐप पर पढ़ें

इंडिया गठबंधन छोड़कर एनडीए का हिस्सा होने जा रहे रालोद प्रमुख जयंत चौधरी का एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। यह वीडियो 2022 के विधानसभा चुनाव का है। वीडियो में जयंत चौधरी एक जनसभा को संबोधित करते हुए अपने एनडीए में जाने की संभावनओं को खारिज करते हुए अपने हाथों से इशारा करते हुए कहते हैं कि मैं क्या चवन्नी हूं, जो ऐसे करके पलट जाऊंगा। अब इस वीडियो और उसमें कही गई बातों पर जयंत चौधरी ने सफाई दी है। 

एक टीवी चैनल से बातचीत में जयंत चौधरी ने कहा कि मैंने 2022 में कहा था कि चवन्नी नहीं हूं, लेकिन वो सब चुनावी बातें होती हैं। चुनाव के पहले जो विपक्ष बोलता है, उसे तो लोक वैसे ही भूल जाते हैं। जयंत चौधरी का यह वीडियो शुक्रवार को तब तेजी से वायरल होने लगा जब उनके दादा और पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न देने का ऐलान हुआ और उन्होंने एनडीए में जाने के सवाल पर यह कहा कि अब किस मुंह से मना करूं। 

जयंत ने कहा हर टिप्पणी की भी 'अंतिम मियाद' होती है। यह पहले भी होता था लेकिन उस समय का रिकॉर्ड हमेशा उपलब्ध नहीं होता था। यह इंटरनेट का जमाना है और 20 साल पहले के मेरे बयान भी आप देख सकते हैं जब भाजपा के समर्थन से मैंने चुनाव लड़ा था और मथुरा सीट पर जीत दर्ज की थी। बयानों की अंतिम मियाद होती है, जो चुनाव प्रचार के दौरान दिए जाते हैं...अमित शाह ने मेरे बारे में कुछ कहा था, मैंने अपने लोगों को एकजुट रखने के लिए कुछ कहा था। मेरी मंशा उन्हें अपमानित करने की नहीं थी, न ही उन्होंने इसे व्यक्तिगत तौर पर लिया। अन्यथा चौधरी साहब को भारत रत्न मिलता?

माना जा रहा है कि चौधरी चरण सिंह की जयंती पर 12 फरवरी को जयंत चौधरी एनडीए में शामिल होने की आधिकारिक घोषणा कर सकते हैं। शनिवार को राज्यसभा में जयंत चौधरी ने मोदी सरकार की तारीफें भी करनी शुरू कर दीं। चौधरी साहब को भारत रत्न देने के फैसले को 2024 के चुनाव से जोड़ने वालों को भी जयंत चौधऱी ने आड़े हाथों लिया। जयंत चौधरी ने कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की विरासत की तुलना 2024 के 'छोटे से चुनाव' से करना उनके कद को कम करना है। चौधरी साहब के समर्थकों का अपमान कर रहे हैं। यह भारत रत्न जैसे सम्मान का अपमान है।

कहा कि भारत रत्न सम्मान के लिए चुनने की एक पवित्र प्रक्रिया है। सरकार राष्ट्रहित में लोगों की भावना को ध्यान में रखकर फैसला करती है...उनके निधन के 37 साल के बाद सरकार ने उन्हें सम्मानित करने पर विचार किया। अगर वे इसमें कुछ गलत देखते हैं और सोचते हैं कि यह कोई समझौता है तो यह उनके वैचारिक पतन को दिखाता है। 

सपा से गठबंधन टूटने का कारण एनडीए में आने के बाद बताएंगे
जयंत से जब पूछा गया कि समाजवादी पार्टी (सपा) के साथ समझौते में क्या गलत हुआ तो उन्होंने कहा कि यह 'आंतरिक मामला' है। उन्होंने कहा कि वह बाद में बताएंगे कि क्यों उनका रुख बदला। रालोद नेता ने कहा कि वे आंतरिक मामले हैं जो विश्वास आधारित हैं। अखिलेश जी और मेरे बीच जो भी चर्चा हुई उसे बाहर नहीं बताया जा सकता...जब हमारा गठबंधन तय हो जाएगा और उसकी घोषणा कर दी जाएगी तब मैं बता पाऊंगा कि क्यों मैंने अपना रुख बदला और आगे का कदम क्या है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें