ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशपांचवें चरण में रायबरेली-अमेठी समेत इन 4 सीटों पर लगी कांग्रेस की प्रतिष्‍ठा, छठे में सिर्फ 1 सीट पर मौजूदगी

पांचवें चरण में रायबरेली-अमेठी समेत इन 4 सीटों पर लगी कांग्रेस की प्रतिष्‍ठा, छठे में सिर्फ 1 सीट पर मौजूदगी

छठे चरण में 25 मई को होने वाले चुनाव में UP की मात्र 1 सीट पर कांग्रेस की प्रतिष्ठा दांव पर होगी। समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन में इस चरण में कांग्रेस को एकमात्र इलाहाबाद (प्रयागराज) सीट मिली है।

पांचवें चरण में रायबरेली-अमेठी समेत इन 4 सीटों पर लगी कांग्रेस की प्रतिष्‍ठा, छठे में सिर्फ 1 सीट पर मौजूदगी
Ajay Singhप्रमुख संवाददाता,लखनऊSat, 18 May 2024 06:15 AM
ऐप पर पढ़ें

Lok Sabha Election 2024: छठे चरण में 25 मई को होने वाले चुनाव में यूपी की मात्र एक सीट पर कांग्रेस की प्रतिष्ठा दांव पर होगी। सपा के साथ गठबंधन में इस चरण में कांग्रेस को एकमात्र इलाहाबाद (प्रयागराज) सीट मिली है, जहां से कुंवर उज्जवल रमण सिंह उसके उम्मीदवार हैं। कुंवर उज्जवल रमण सिंह को भी सपा की सहमति से कांग्रेस में शामिल कराकर टिकट दिया गया है। 

कांग्रेस के लिए यूपी में सर्वाधिक प्रतिष्ठापरक पांचवां चरण है, जिसमें पार्टी चार सीटों पर चुनाव लड़ रही है। इसमें अमेठी और रायबरेली के अलावा झांसी और बाराबंकी सुरक्षित शामिल है। रायबरेली से खुद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी उम्मीदवार हैं तो अमेठी से उनके परिवार के करीबी किशोरी लाल शर्मा। इसी तरह झांसी से पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य प्रत्याशी हैं तो बाराबंकी सुरक्षित से पूर्व सांसद पीएल पुनिया के बेटे तनुज पुनिया चुनाव लड़ रहे हैं। इसके बाद छठें व सातवें चरण में कांग्रेस के कुल पांच उम्मीदवार मैदान में होंगे, जिसमें से चार सातवें और अंतिम चरण में हैं। 

सातवें चरण में वाराणसी के अलावा देवरिया, महराजगंज व बांसगांव सुरक्षित सीट पर कांग्रेस के प्रत्याशी हैं। वाराणसी से प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री अजय राय उम्मीदवार हैं तो देवरिया से राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं पूर्व विधायक अखिलेश प्रताप सिंह प्रत्याशी हैं। महराजगंज से कांग्रेस के मौजूदा विधायक वीरेन्द्र चौधरी तथा बांसगांव सुरक्षित से पूर्व मंत्री सदल प्रसाद चुनाव लड़ रहे हैं। 

कांग्रेस ने छठें चरण में अपने एकमात्र प्रत्याशी कुंवर उज्जवल रमण सिंह के लिए खास रणनीति तैयार की है। इसके तहत पार्टी पूरी ताकत से चुनाव प्रचार करेगी। पांचवें चरण की प्रतिष्ठापरक लड़ाई से खाली होते ही पार्टी के रणनीतिकार प्रयागराज में अपना डेरा जमा देंगे। सबसे पहले 19 मई को उनके क्षेत्र में राहुल गांधी व अखिलेश यादव की संयुक्त जनसभा होगी। पूर्व मंत्री कुंवर उज्जवल रमण सिंह करछना से विधायक रहे हैं, जबकि उनके पिता कुंवर रेवती रमण सिंह सपा के टिकट पर दो बार इलाहाबाद लोकसभा सीट से ही सांसद रहे हैं। क्षेत्र में उनके प्रभाव को देखते हुए कांग्रेस ने टिकट दिया है।