DA Image
Saturday, December 4, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशWeather News: आज और कल छाये रहेंगे हल्‍के बादल, रात के तापमान में होगी गिरावट, सर्दी जल्‍द देगी दस्‍तक

Weather News: आज और कल छाये रहेंगे हल्‍के बादल, रात के तापमान में होगी गिरावट, सर्दी जल्‍द देगी दस्‍तक

वरिष्‍ठ संवाददाता ,कानपुर Ajay Singh
Wed, 20 Oct 2021 06:26 AM
Weather News: आज और कल छाये रहेंगे हल्‍के बादल, रात के तापमान में होगी गिरावट, सर्दी जल्‍द देगी दस्‍तक

तूफानी घनघोर बारिश ने कानपुर में 51 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया। रात को पूरा शहर जैसे जलमग्न हो गया। मंगलवार सुबह साढ़े आठ बजे तक 127.6 मिमी (13 सेंटीमीटर) वर्षा रिकॉर्ड की गई जो सर्वाधिक बताई जा रही है। 35 वर्ष पहले दस अक्तूबर को 165.5 मिमी बारिश हुई थी। आमतौर पर अक्तूबर में एकसाथ इतनी बारिश कम ही होती है। मौसम विभाग की मानें तो बुधवार के बाद बारिश की गतिविधियां थम जाएंगी।

 

दक्षिण-पूर्वी हवाओं और पश्चिमी विक्षोभ के चलते मध्य उत्तर प्रदेश के ठीक ऊपर चक्रवाती स्थितियां बन जाने के कारण लंबे समय बाद शहरवासियों को मूसलाधार बारिश देखना नसीब हुई। बारिश से मुश्किलें भी बढ़ीं लेकिन इसने लोगों को राहत दी। गर्मी से ऊब चुके लोगों के लिए दो दिन बाद यह बारिश हल्की ठंडक लेकर आएगी। रविवार और सोमवार को हल्की बारिश के बाद मंगलवार देर रात दो से सुबह पांच बजे तक भीषण बरसात हुई। मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक इतनी वर्षा इस दिन पहले कभी नहीं हुई। 19 अक्तूबर के लिए यह रिकॉर्ड है। वैसे अक्तूबर में 10 अक्तूबर 1985 में 165.5 और 02 अक्तूबर 2013 को 101.2 मिमी बारिश हो चुकी है। अन्य वर्षों में बारिश का औसत काफी कम रहा है।

पारा गिरा, फिर भी गर्मी का अहसास

कुछ घंटों में करीब 13 सेंटीमीटर बारिश के बावजूद गर्मी का अहसास कम नहीं हुआ। दिन का तापमान 32.6 से 28.4 डिग्री सेल्सियस हो गया। करीब 04.2 डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई। सोमवार रात का पारा 23.2 डिग्री सेल्सियस रहा। इससे पूर्व यह 24.4 डिग्री सेल्सियस रहा था।

जल्दी दस्तक देगी सर्दी

सीएसए के मौसम विज्ञानी डॉ. एसएन सुनील पांडेय ने बताया कि मौसम की गतिविधियां 20 तारीख से समाप्त हो जाएंगी लेकिन रात के तापमान में गिरावट होगी। दिन के तापमान में उतार-चढ़ाव बना रहेगा। अब पश्चिमी शुष्क हवाओं का आना भी गंगा के मैदानी इलाकों में शुरू हो जाएगा जिससे सर्दी का अहसास बढ़ेगा। बुधवार और गुरुवार को हल्के बादल बने रहेंगे। कश्मीर के ऊपर बने पश्चिमी विक्षोभ और पुरवइया हवाओं की नमी के चलते मध्य उत्तर प्रदेश में जो मिलन हुआ उससे मौसम में बदलाव आया और तेज बारिश हुई।

 

अक्तूबर में कब-कितनी वर्षा

16 अक्टूबर 1974 : 60.2 मिमी

10 अक्टूबर 1985 :165.5 मिमी

19 अक्टूबर 1987: 81.5 मिमी

31 अक्टूबर 1999 :66.6 मिमी

13 अक्टूबर 1992 :64.6 मिमी

02 अक्टूबर 2013 :101.2 मिमी

05 अक्टूबर 2009 :62.2 मिमी

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें