DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पैसेंजर ट्रेनों में सौर ऊर्जा से चलेंगे लाइट और पंखे 

passenger train

पर्यावरण संरक्षण की तरफ कदम बढ़ाते हुए उत्तर रेलवे ने सोलर पैनल युक्त ट्रेनें चलाने का फैसला किया है। राजधानी में जल्द ही सौर ऊर्जा का इस्तेमाल करने वाली ट्रेनें चलेंगी। इसके लिए ट्रेनों की छतों पर सोलर पैनल लगेंगे। इससे ट्रेनों के रास्ते में खड़े हो जाने पर लाइट और पंखे बंद नही होंगे। चारबाग से नवरात्र में इसकी शुरुआत होगी। सूत्रों के मुताबिक लखनऊ-वाराणसी पैसेंजर प्रदेश की पहली सोलर पैनल युक्त ट्रेन होगी, जिसमें यात्रियों को लाइट और पंखे की सुविधा 24 घंटे मिलेगी।

पर्यावरण संरक्षण और डीजल खपत का करने के लिए रेलवे पैसेंजर ट्रेन में सोलर पैनल लगाएगा। इससे रेलवे की डीजल पर होने वाली खपत घटेगी। अनुमान है कि इससे करीब 1.27 लाख लीटर एक साल में बचेगा। ट्रेन पर अंतिम निर्णय के बाद तैयारियां शुरू हो जाएंगी। रेल अधिकारियों के मुताबिक पैसेंजर ट्रेनें अक्सर रास्ते में खड़ी हो जाने पर यात्रियों को लाइट और पंखे न चलने की शिकायत होती है। इससे निपटने के लिए पैसेंजर ट्रेनों को सोलर पैनल से लैस किया जाएगा। रेलवे ने इसके लिए बजट जारी कर दिया है।

10 किलोवाट बिजली बनेगी
सोलर पैनल वाले एक कोच में करीब 10 किलोवाट बिजली प्रतिदिन बनेगी। दिन में पंखे सीधे सौर ऊर्जा से चलेंगे। रात के समय ट्रेन में सौर ऊर्जा से एकत्रित बिजली से पंखे और लाइट की सुविधा यात्रियों को मिलेगी।

80 लाख रुपये होंगे खर्च
प्रयोग के तौर पर पहले 10 कोच वाली पैसेंजर ट्रेन को सोलर पैनल से लैस किया जाएगा। एक कोच पर रेलवे की अनुमानित लागत करीब आठ लाख रुपये है। इस हिसाब से कुल 80 लाख रुपये खर्च होंगे।

पैसेंजर ट्रेनें सोलर पैनल से लैस होंगी। यात्रियों को बिजली और पंखे की 24 घंटे सुविधा मिलेगी। इससे पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा मिलेगा और डीजल की खपत कम होगी। - संजय त्रिपाठी, डीआरएम, उत्तर रेलवे

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Light and fans will run on solar power in passenger trains