DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  इंजीनियर की हैवानियत को भांप मकान मालिक ने खाली करा लिया था घर, पिता ने भी बना ली थीं दूरियां 
उत्तर प्रदेश

इंजीनियर की हैवानियत को भांप मकान मालिक ने खाली करा लिया था घर, पिता ने भी बना ली थीं दूरियां 

वरिष्ठ संवाददाता,बांदाPublished By: Ajay Singh
Mon, 30 Nov 2020 06:41 PM
इंजीनियर की हैवानियत को भांप मकान मालिक ने खाली करा लिया था घर, पिता ने भी बना ली थीं दूरियां 

मासूम बच्चों के यौन शोषण के आरोपित निलंबित जेई रामभवन की हरकत उसका एक मकान मालिक भांप गया था, जिसके बाद अपना घर खाली करा लिया था। पिता को इसकी जानकारी हुई तो आनन-फानन में उसकी शादी कराकर दूरियां बना लीं।

सिंचाई विभाग कर्वी में तैनात रहे जेई रामभवन (अब निलंबित) करीब 12 साल से मासूम बच्चों का यौन शोषण कर रहा था। इसकी तस्दीक उसके और मकान मालिक के बीच हुए विवाद से हुई। वर्ष 2008 में जेई बांदा में जिस मकान में किराए पर रहता था, उसका मालिक जेई की हरकतों को भांप गया था। जेई की शिकायत उसके पिता से भी की थी और अपना मकान खाली करा लिया। बेटे की करतूत से शर्मसार पिता ने आनन-फानन में 2009 में प्रयागराज के ट्रांसपोर्टनगर में जेई की शादी कर दी। इसके बाद बेटे से दूरियां बना ली थीं। जेई के घर जाने पर हालचाल लेना तो पैर छुआने तक बंद कर दिए थे।

पड़ोसियों को अब पता चली हकीकत
आसपास के लोगों के मुताबिक जब कभी आरोपित रामभवन के पिता मिलते थे तो उसके बारे में बात करने से कतराते थे। उसके बारे में कुछ पूछने पर चुप्पी साध लेते थे। स्थानीय लोगों के मुताबिक, पिता की तो करीब तीन साल पहले मौत हो चुकी है लेकिन उनकी चुप्पी अब समझ में आई। वह बेटे की करतूत पहले ही भांप गए थे।

जेल का खाना खाया, रहा गुमशुम
मंडल कारागार के जेलर प्रभाकांत पांडेय ने बताया कि रविवार शाम मेडिकल के बाद सीबीआई रामभवन को जेल लाई थी। हाल में कोरोना निगेटिव हुआ है, इस वजह से उसे अलग सेल में रखा गया है। रविवार शाम सोमवार को दिन में उसने खाना, लेकिन किसी से कोई बातचीत नहीं कर रहा। वह पूरे सम गुमशुम और तनाव में दिखा।

जमानत के लिए पड़ सकती अर्जी
सीबीआई ने आरोपित रामभवन को 16 नवंबर को बांदा में रिमांड मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया था, जहां से मंडल कारागार भेजा गया था। सीबीआई की ओर से शासकीय अधिवक्ता मनोज कुमार दीक्षित ने बताया कि आरोपित की न्यायिक हिरासत बढ़ाने के लिए अदालत में अर्जी डाली जाएगी। संभावना जताई जा रही है कि अभियुक्त के अधिवक्ता जमानत अर्जी डाल सकते हैं।

संबंधित खबरें