DA Image
26 फरवरी, 2021|9:22|IST

अगली स्टोरी

अयोध्या विवादित ढांचा विध्वंस मामला: आडवाणी 30 जून को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से दर्ज कराएंगे बयान 

lal krishna advani will file a statement through video conferencing on 30 june

अयोध्या के विवादित ढांचा को ढहाने के मामले में शनिवार को सीबीआई की विशेष अदालत ने केंद्र सरकार की संस्था एनआईसी को लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी व कल्याण सिंह सहित कुल नौ आरोपियों का बयान दर्ज कराने के लिए निर्देश दिया। सीआरपीसी की धारा 313 के तहत बयान उनके आवास पर वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से दर्ज होगा। 

विशेष जज सुरेंद्र कुमार यादव ने इस संदर्भ में इन सभी आरोपियों की ओर से सुझाई गई तारीखों की सूची एनआईसी को भेजने का आदेश दिया है। उन्होंने एनआईसी से कहा है कि वह बेहतर कनेक्टिविटी की व्यवस्था करें। इससे पहले सोनीपत जेल से एक अभियुक्त रामचंद्र खत्री को जरिए वीडियो कांफ्रेसिंग पेश किया गया। किन्तु खराब कनेक्टिविटी के कारण उनका बयान दर्ज नहीं हो सका। अब उनका बयान सात जुलाई को होगा। 

विशेष अदालत द्वारा एनआईसी को भेजी गई सूची के मुताबिक लालकृष्ण आडवाणी 30 जून, मुरली मनोहर जोशी एक जुलाई, कल्याण सिंह दो जुलाई, आरएन श्रीवास्तव 22 जून, महंत नृत्य गोपाल दास 23 जून, जय भगवान गोयल 24 जून, अमर नाथ गोयल 25 जून, सुधीर कक्कड़ 26 जून एवं आचार्य धमेंद्र देव ने 29 जून को वीडियो कांफ्रेसिंग से अपना अपना बयान दर्ज कराने की बात कही है। अब तक इस मामले में 13 आरोपियों का बयान दर्ज हो चुका है, जबकि 19 का बयान दर्ज होना बाकी है। अब अगली सुनवाई 22 जून को होगी।

क्या है मामला

छह दिसम्बर, 1992 को ढांचा ध्वंस के मामले में कुल 49 एफआईआर दर्ज हुई थी। एक एफआईआर फैजाबाद के थाना रामजन्म भूमि में एसओ प्रियवंदा नाथ शुक्ला जबकि दूसरी एसआई गंगा प्रसाद तिवारी ने दर्ज कराई थी। शेष 47 एफआईआर अलग अलग तारीखों पर अलग अलग पत्रकारों व फोटोग्राफरों ने भी दर्ज कराई थी। पांच अक्टूबर, 1993 को सीबीआई ने जांच के बाद इस मामले में कुल 49 अभियुक्तों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया था। इनमें 17 की मौत हो चुकी है। अब कुल 32 अभियुक्तों के मामले की सुनवाई हो रही है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Lal krishna Advani will file a statement through video conferencing on 30 June