kumbh mela 2019 if coming by train these stations are best - kumbh mela 2019: कुम्भ में ट्रेन से आ रहे तो यहां उतरिए DA Image
21 नबम्बर, 2019|10:49|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

kumbh mela 2019: कुम्भ में ट्रेन से आ रहे तो यहां उतरिए

kumbh mela 2019:उत्साह और सजधज के साथ निकली श्रीतपोनिधि आनंद अखाड़े की पेशवाई

1 / 2

kumbh

2 / 2

PreviousNext

कुम्भ में पुण्य की डुबकी लगाने के लिए अगर आप ट्रेन से आ रहे हैं तो यह जान लीजिए कि आपको किस स्टेशन पर उतरना है। रेलवे ने कुम्भ के लिए 10 स्टेशनों पर इंतजाम किए हैं। यूं तो इलाहाबाद जंक्शन सबसे बड़ा स्टेशन होने के नाते यहां से सभी दिशा के लिए कनेक्टिविटी है। पर यहां भीड़ अधिक होने से परेशानी भी हो सकती है। ऐसे में बेहतर होगा कि आप अपनी दिशा के अनुसार संगम क्षेत्र के नजदीकी स्टेशन पर उतरें और वापसी के लिए भी वहीं से ट्रेन पकड़ें। रेलवे ने ऐसी ही तैयारी के तहत 10 स्टेशनों पर दिशावार इंतजाम किए हैं।

लखनऊ और अयोध्या की तरफ वाले प्रयाग में उतरें-

लखनऊ और इससे सटे शहर बरेली, शाहजहांपुर से आने वालों के लिए फाफामऊ, प्रयाग और प्रयागघाट स्टेशन सुविधाजनक होंगे। यही तीनों स्टेशन अयोध्या, सुल्तानपुर, बस्ती, बहराइच, गोंडा और जौनपुर, शाहगंज से आने वालों के लिए भी उचित रहेंगे। फाफामऊ तक मेला क्षेत्र का विस्तार होने से फाफामऊ स्टेशन पर भी उतरना सुविधाजनक होगा। वहीं, संगम या परेड की तरफ जाने वालों के लिए प्रयाग और प्रयागघाट उचित होंगे। उत्तर रेलवे ने वैसे प्रयाग में ही यात्रियों को उतारने की व्यवस्था की है। प्रयागघाट स्टेशन मेला क्षेत्र के सबसे करीब होने से यहां भीड़ ज्यादा होने की आशंका के मद्देनजर ऐसा इंतजाम किया गया है। मेला क्षेत्र से फाफामऊ स्टेशन की दूरी अधिकतम तीन किमी. है। प्रयाग से मेला क्षेत्र की दूरी अधिकतम चार किमी. है जबकि प्रयागघाट से अधिकतम आधा किमी. है। 

बिहार, पश्चिम बंगाल से आने वाले

पं. दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन, विंध्याचल, मिर्जापुर, चोपन, चुनार और सोनभद्र से आने वालों के लिए नैनी जंक्शन सबसे सुविधाजनक स्टेशन होगा। बिहार और पश्चिम बंगाल के विभिन्न शहरों से आने वालों के लिए भी नैनी जंक्शन सुविधाजनक होगा। नैनी स्टेशन से मेला क्षेत्र अधिकतम पांच किमी. होगा। वैसे, इस दिशा के लिए ट्रेनें जंक्शन से भी पकड़ी जा सकेंगी। पर जंक्शन से जाने वाली ट्रेनें नैनी होकर ही गुजरेंगी। ऐसे में जंक्शन की भीड़ में फंसने की बजाय नैनी से इन दिशाओं की ट्रेनें पकड़ी जा सकेंगी। अपने शहर की ट्रेन नहीं मिलने पर पं. दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन की ट्रेन पकड़कर आगे का सफर किया जा सकेगा। 

एमपी, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र से आने वाले

मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और दक्षिण भारत के शहरों से आने वाले छिवकी स्टेशन पर उतर सकते हैं। छिवकी से मेला क्षेत्र की दूरी अधिकतम छह किमी. है। पर जंक्शन तक ट्रेन से जाकर वापस मेला क्षेत्र आने में तीर्थयात्रियों का ज्यादा टाइम लग जाएगा। ऐसे में छिवकी उतरकर मेला क्षे9 पहुंचना आसान होगा। बांदा, चित्रकूट, झांसी, ग्वालियर की तरफ से आने वालों के लिए भी यही स्टेशन उचित होगा। इस दिशा के मुसाफिर नैनी जंक्शन से भी ट्रेन पकड़ सकते हैं। इटारसी और झांसी की स्पेशल ट्रेन भी यहां से चलेंगी। यहां से एमपी, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और दक्षिण भारत के विभिन्न शहरों की नियमित ट्रेन भी मिल सकती है। 

पूर्वांचल की तरफ से आने वाले-

बाराणसी, बलिया, गोरखपुर समेत पूर्वांचल के कई शहरों और छपरा की तरफ से आने वाले मुसाफिरों के लिए झूंसी स्टेशन पर उतरना ठीक होगा। पूर्वोत्तर रेलवे के इस स्टेशन से मेला क्षेत्र की दूरी अधिकतम दो किमी. होगी। झूंसी में उतरकर तीर्थयात्री सुविधाजनक तरीके से मेला क्षेत्र तक पहुंच सकेंगे। इस दिशा से आने वालों के लिए रामबाग (इलाहाबाद सिटी) स्टेशन पर भी प्रबंध है। पर रामबाग से मेला क्षेत्र की दूरी कम से कम पांच किमी. पड़ेगी। ऐसे में ट्रेन से रामबाग तक पहुंचने से झूंसी में उतरना बेहतर होगा। रामबाग से चलने वाली सभी ट्रेनें झूंसी से होकर चलेंगी। ऐसे में इन ट्रेनों को झूंसी से पकड़ा जा सकेगा। 

कानपुर, दिल्ली की तरफ से आने वाले-

कानपुर, आगरा, अलीगढ़, बुलंदशहर समेत पश्चिमी यूपी के तमाम शहरों के साथ ही दिल्ली, पंजाब, राजस्थान, हरियाणा आदि राज्यों से आने वालों के लिए इलाहाबाद जंक्शन पर उतरना उचित होगा। जंक्शन से मेला क्षेत्र की अधिकतम दूरी सात किमी. पड़ेगी। जंक्शन पर कुम्भ की बड़ी तैयारी की गई है। यहां उतरने वालों को सिविल लाइंस साइड से निकाला जाएगा। वापसी में ट्रेन पकड़ने के लिए सिटी साइड के गेट से प्रवेश करना होगा। रिजर्वेशन वाले यात्रियों के लिए अलग सफेद रंग का पांच नंबर गेट निर्धारित किया गया है। जबकि जनरल टिकट वालों के लिए लाल, नीला, पीला और हरा गेट है। यहां से दिशावार चार अलग रंगों के गेट से जनरल टिकट वालों को प्रवेश दिया जाएगा। कानपुर की तरफ वाली ट्रेन पकड़ने के लिए सूबेदारगंज का रुख भी किया जा सकता है। क्योंकि जंक्शन से चलने वाली कुछ स्पेशल ट्रेनों को यहां भी ठहराव दिया गया है। मेला क्षेत्र से सूबेदारगंज स्टेशन की दूरी अधिकतम 12 किमी. है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:kumbh mela 2019 if coming by train these stations are best