DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Kumbh 2019: नाराज संतों ने दी आत्मदाह की चेतावनी

जमीन की मांग कर रहे साधु संतों का गुरुवार को मेला प्राधिकरण कार्यालय में अपर मेलाधिकारी दयानंद प्रसाद से विवाद हो गया। संतों का आरोप है कि अपर मेलाधिकारी ने उनसे अभद्रता की। इसके साथ धमकी भी दी। इसके विरोध में कई संतों ने आत्मदाह करने की चेतावनी देने लगे। 

आंध्र प्रदेश के कनयागिरि व उड़ीसा के महंत रत्नागिरि सहित कई संत अपर मेलाधिकारी के साथ जमीन को लेकर बैठक कर रहे थे। अपर मेलाधिकारी ने कहा, अब नई संस्थाओं को जमीन नहीं मिल पाएगी। तभी कनया गिरि और रत्नागिरि ने कहा कि 20 दिन से क्यों कहा जा रहा था कि जमीन सभी संतों को मिलेगी। जब जमीन नहीं थी तो पहले ही बताया दिया जाता तो संत वापस चले जाते। इसका समर्थन अन्य संतों ने भी किया। रत्नागिरि का कहना है कि यह बात अपर मेलाधिकारी को पसंद नहीं आई। वह संतों को सभागार से बाहर कराने की धमकी देने लगे। अभद्र भाषा का प्रयोग किया। इससे संतों में आक्रोश है।

प्रयागराज के कुम्भ मेला अधिकारी ने बताया की इस तरह का व्यवहार संतों के साथ नहीं होना चाहिए। अगर अपर मेलाधिकारी ने ऐसा किया है तो वह गलत है। किस कारण से एक अधिकारी ने संत के साथ इस तरह के शब्दों का प्रयोग किया, इसकी पड़ताल होगी। वहीँ खिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष ने कहा की  अपर मेलाधिकारी दयानंद प्रसाद को हद में रहना चाहिए। इस तरह का कोई भी अधिकारी किसी संत का अपमान नहीं कर सकता। संतों के साथ अखाड़ा परिषद है। संत अगर हमारे पास आते हैं तो उनकी मदद की जाएगी। अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की भी मांग होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:kumbh mela 2019 Anger Saints warned of self destruction