ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशथानेदार पर रौब जमाना कृपाशंकर को पड़ा भारी, महिला सिपाही संग पकड़े गए DSP को बनना पड़ गया सिपाही

थानेदार पर रौब जमाना कृपाशंकर को पड़ा भारी, महिला सिपाही संग पकड़े गए DSP को बनना पड़ गया सिपाही

UP Police News: होटल में महिला सिपाही संग वीडियो वायरल होने के बाद DSP से सिपाही बनाए गए कृपाशंकर कन्नौजिया को थानेदार पर रौब जमाना ही महंगा पड़ गया। वह विभाग से छुट्टी लेकर गए थे।

थानेदार पर रौब जमाना कृपाशंकर को पड़ा भारी, महिला सिपाही संग पकड़े गए DSP को बनना पड़ गया सिपाही
Ajay Singhहिन्‍दुस्‍तान,गोरखपुरTue, 25 Jun 2024 08:15 AM
ऐप पर पढ़ें

DSP of UP Police becomes constable: होटल में महिला सिपाही संग वीडियो वायरल होने के बाद सीओ से सिपाही बनाए गए कृपाशंकर कन्नौजिया को थानेदार पर रौब जमाना ही महंगा पड़ गया। वह विभाग से छुट्टी लेकर गए थे, लेकिन घरवालों से संपर्क न होने पर पुलिस शिकायत के बाद उन्हें खोजते हुए होटल तक पहुंच गई।

होटल में सीओ से पुलिस ने मिलकर घरवालों से बात करने की बात ही कही थी। लेकिन यह बात सीओ रहे कृपाशंकर को इतनी नागवार गुजरी कि वह बांगरमऊ थाने पर जाकर थानेदार को ही अर्दब में लेने लगे। वहीं से इसकी जानकारी मीडिया में आई और वीडियो वायरल हो गया। इसी के बाद जांच शुरू हुई और कृपाशंकर सीओ से सिपाही बन गए।

जुलाई 2021 में पुलिस के पास सीओ के घरवालों ने उनसे संपर्क न होने की जानकारी दी थी। सीओ का मोबाइल ऑन था, लेकिन कोई जवाब नहीं आने पर पुलिस ने इसे गंभीरता से ले लिया और सर्विलांस की मदद से कृपाशंकर तक पुलिस पहुंच गई थी। पुलिस ने घरवालों को सीओ के सुरक्षित होने की जानकारी दे दी थी। लेकिन, कृपाशंकर इस बात से इतने नाराज हो गए थे कि वह थानेदार के पास चले गए और फिर मामला इतना बढ़ा कि वह जांच के दायरे में आ गए। जांच के दौरान भी उन्होंने कभी अपना पक्ष नहीं रखा, जिस वजह से कार्रवाई आगे बढ़ी तो वह फंसते चले गए।

एक साल बची है नौकरी

पीएसी कमांडेंट आनंद कुमार के मुताबिक, कृपाशंकर की एक साल और नौकरी बची है। अगस्त, 2025 अगस्त में उनकी सेवानिवृत्ति है। कृपाशंकर मूलरूप से देवरिया के निवासी हैं, लेकिन गोरखपुर के पादरी बाजार में भी घर बनवाया है। वहां वह परिवार के साथ रहते हैं। छुट्टी लेकर वह अभी कुछ दिन और नौकरी से दूरी बनाए रखेंगे। वहीं विभाग के उनके करीबियों का मानना है कि वह वीआरएस भी ले सकते हैं।

यह है मामला

देवरिया जिले के मूल निवासी कृपाशंकर 2021 में उन्नाव जिले की बीघापुर सर्किल में डीएसपी पद पर तैनात थे। इसके बाद संदेह के आधार पर पत्नी ने ही उनकी शिकायत एसपी से कर दी थी। एसपी ने जांच कराई और सर्विलांस की मदद से कानपुर के एक होटल में वह महिला सिपाही के साथ पकड़ लिए गए। इसके बाद इस मामले की जांच कानपुर के आईपीएस अधिकारी को सौंपी गई थी। जांच में मामला सही पाए जाने पर डीजीपी को रिपोर्ट भेजी गई थी।

विभागीय छवि के खिलाफ आचरण पाए जाने पर पुलिस महानिदेशक ने डिप्टी एसपी कन्नौजिया को निलंबित करने की संस्तुति की थी। शासन से निर्देश प्राप्त होते ही डिप्टी एसपी को निलंबित कर दिया गया था। शासन ने उनके मूल पद आरक्षी पर पदावनत कर दिया। अभी वह पीएसी में ज्वाइन करने नहीं आए हैं।