DA Image
3 मार्च, 2021|11:40|IST

अगली स्टोरी

जानिए, रेलवे गेस्ट हाउस में किसे लेना था ट्रेन में रखा एक करोड़ चालीस लाख रुपयों से भरा बैग

1 crore 40 lakh found in pantrykar swatantrata senani express train new delhi to jai nagar police hi

स्वतंत्रता सेनानी एक्सप्रेस के पैंट्रीकार से मिले 1.40 करोड़ कैशकांड की परतें खुलने लगी हैं। जांच में खुलासा हुआ कि रुपयों भरा बैग रेलवे के गेस्ट हाउस में रिसीव होना था। वहां पहले से कोई इंतजार कर रहा था। रेलवे पुलिस की पड़ताल में यह पता चला है कि पैंट्रीकार से नोटों भरा बैग लेने के लिए टी शर्ट पहने एक युवक स्टेशन पर मौजूद था।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक 16 फरवरी को डिप्टी एसएस कामर्शियल कार्यालय के रेलवे इंटरकॉम से फोन आया कि पैंट्रीकार से बैग उतरवा लो। बैग लेकर युवक एसएस कामर्शियल कक्ष आ भी नहीं पाया कि फिर फोन आया कि बैग कक्ष के सामने टी शर्ट पहने युवक को सौंप दो। डिप्टी एसएस कक्ष में मौजूद चेकिंग स्टॉफ ने कोई आईडी देने को कहा तो बात बिगड़ने लगी। इस दौरान बाहर टी शर्ट पहने खड़ा युवक निकल गया। बाद में कामर्शियल कंट्रोल फोन पहुंचा तो रिसीव करने वाले को अरदब में लेने की कोशिश हुई। इस विवाद में सुबह के 7 बज गए। कर्मचारियों ने अफसरों को सूचना दी और बाद में बैग को वापस लाकर जमा करा दिया गया। अब पुलिस बैग रिसीव करने वाले तक पहुंचने के लिए प्रयास करने में जुटी है। पुलिस की कछुआ चाल की पड़ताल भी कई तरह के सवाल खड़े कर रही है। लगभग एक सप्ताह का समय पूरा हो चुका है और अब तक सभी जिम्मेदारों के बयान तक पूरे नहीं हुए हैं।  

बैग लेकर गेस्टहाउस तक गया था कर्मचारी
रेलवे पुलिस की जांच में यह भी पता चला है कि बैग को लेकर कामर्शियल कंट्रोल रूम में फोन करने वाले ने दोबारा फोन कर धमकी दी। कहा कि बड़े साहब का बैग है। बैग रिसीव नहीं कराया तो मुश्किल में फंस जाओगे। इसके बाद बैग उतारने वाला कर्मचारी उसे लेकर गेस्ट हाउस तक गया लेकिन वहां कोई नहीं मिला। इसके बाद बैग लेकर लौट आया। पुलिस ने केयरटेकर से बात की तो उसने बताया कि यहां कोई नहीं आया था। 

फोन के बाद भी न आए आयकर अफसर
जीआरपी प्रभारी राममोहन राय ने बताया कि सोमवार को सुबह आयकर अफसरों का फोन आया था कि वह पैसे को अपनी कस्टडी में लेने को आएंगे। शाम सात बजे तक न तो कोई कस्टडी में लेने आया और न ही शाम के बाद कोई फोन रिसीव कर रहा है।  

नोटों के जमा होने के बाद बढ़ाएंगे जांच
राममोहन राय, जीआरपी प्रभारी कानपुर सेंट्रल का कहना है स्वतंत्रता सेनानी एक्सप्रेस के पैंट्रीकार से उतारे गए 1.40 करोड़ रुपए को जब तक सुरक्षित जगह नहीं रखवा लेंगे, तब तक मामले की पड़ताल करना संभव नहीं दिखता। पड़ताल से अधिक नोटों की सुरक्षा है। इसकी वजह से ही बैंक, आयकर से लेकर जिला प्रशासन से पैरवी कर रहे हैं पर अभी तक सफलता नहीं मिली है। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Know who had to take a bag full of one crore and four lakh rupees in the railway guest house in kanpur