knife use for Kamlesh Tiwari murder recovered from hotel khalsa in lalbag lucknow - जिस चाकू से रेता गया कमलेश तिवारी का गला, वाे पुलिस को इस हाल में मिला DA Image
21 नवंबर, 2019|9:43|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जिस चाकू से रेता गया कमलेश तिवारी का गला, वाे पुलिस को इस हाल में मिला

kamlesh tiwari

1 / 2kamlesh tiwari

2 / 2होटल से मिला चाकू (फोटो हिन्दुस्तान)

PreviousNext

हिन्दू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या के मामले में पुलिस को एक और सफलता हाथ लगी। पता चला कि हत्यारे सूरत से लखनऊ आने के बाद लालबाग के होटल खालसा इन’ में रुके थे। शनिवार रात को होटल प्रबन्धन से सूचना मिलने पर ही लखनऊ पुलिस इस होटल पहुंची थी। हत्यारों के कमरे (जी-103) में खून से सने भगवा कपड़े, हत्या में इस्तेमाल चाकू और बैग बरामद हुआ। इसके अलावा शेविंग क्रीम, ब्लेड समेत कई और चीजें भी मिली। होटल में दोनों युवकों ने आईडी के तौर पर अपना आधार कार्ड दिया था। आधार कार्ड से हत्यारों की पहचान सूरत निवासी शेख अशफाक हुसैन और पठान मोइनुद्दीन अहमद के रूप में हुई।

शनिवार सुबह डीजीपी ने जब इस हत्याकाण्ड का खुलासा किया तो सिर्फ साजिशकर्ताओं के ही नाम बताये गए थे। हालांकि गुजरात एटीएस ने यूपी पुलिस को हत्यारों के नाम भी बता दिये थे। पर, पुलिस इन दोनों के नामों का खुलासा करने से बच रही थी। रविवार को होटल खालसा इन में हत्यारों के रुके होने का खुलासा होने के बाद इनके नाम सार्वजनिक कर दिये गये।

दो घंटे 43 मिनट में पूरी वारदात कर होटल लौटे

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि होटल के दस्तावेजों से पता चला कि अशफाक और मोइनुद्दीन 17 अक्तूबर की रात 11:08 बजे होटल में प्रवेश किये थे।  फिर दूसरे दिन सुबह साढ़े 10:38 बजे होटल से भगवा वेश में निकले। दो घंटे 43 मिनट में ही पूरी वारदात कर दोपहर में एक बजकर 21 मिनट पर होटल लौटे। यहां कपड़े बदले और 16 मिनट बाद ही होटल से निकल गए।

कमलेश तिवारी हत्याकांड: साजिश में गिरफ्तार तीन आरोपियों को 72 घंटे की ट्रांजिट रिमांड में भेजा

होटल से चेक आउट नहीं किया था

हत्यारों ने 17 अक्तूबर की रात रिसेप्सन पर मौजूद मैनेजर से 1300 रुपये प्रतिदिन किराये पर कमरा तय किया था। एक हजार रुपये एडवान्स दिये थे और रात में रोटी-सब्जी मंगवा कर खायी थी। दूसरे दिन भगवा वेश में निकलने के बाद जब लौटे तो आनन फानन कपड़े बदल कर फिर निकले गए थे। दोनों ने होटल से ‘चेक आउट’ नहीं किया था। 18 अक्तूबर को दोपहर 1:37 पर निकलते समय रिसेस्पशन पर मौजूद महिला कर्मचारी को चाभी देकर दोनों ने यह कहा था कि कुछ देर बाद आयेंगे।

होटल मालिक ने पुलिस को सूचना दी

शुक्रवार रात और शनिवार को दिनभर जब ये नहीं लौटे तो होटल कर्मचारियों को शक हुआ। हत्यारों की फोटो भी वायरल हो चुकी थी। इन फोटो को जब होटल मैनेजर ने देखा तो उन्हें शक हुआ कि कहीं अचानक गायब हुए दोनों युवक हत्यारे ही तो नहीं थे। इस पर एएसपी पश्चिम विकास चन्द्र त्रिपाठी को होटल मालिक हेमराज ने सूचना दी। शनिवार रात को पुलिस मौके पर पहुंची तो कमरा खोला गया।

खून लगे कपड़े, तौलिया व चाकू मिला

पुलिस के मुताबिक कमरे में भगवा व लाल रंग का कुर्ता मिला। इसमें खून लगा हुआ था। फोल्ड होने वाला थोड़ा लम्बा चाकू भी मिला। इस पर खून के निशान थे। साथ ही खून लगा तौलिया, जियो मोबाइल का नया डिब्बा, लोअर, बैग, चश्मा का डिब्बा, सेविंग किट मिली। इस कमरे को पुलिस ने सील करा दिया है। फोरेंसिक विशेषज्ञों ने होटल के कमरे से कई साक्ष्य जुटाये हैं।

लीज पर है होटल

पुलिस ने होटल मालिक के बारे में भी पूरी पड़ताल की। यह होटल आर्यनगर, नाका के हरविन्दर सिंह का है जो उसने लीज पर राजस्थान के सवाई माधोपुर निवासी हेमराज सिंह को दे रखा है। होटल से पुलिस ने फुटेज अपने कब्जे में ले लिये हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:knife use for Kamlesh Tiwari murder recovered from hotel khalsa in lalbag lucknow