DA Image
27 सितम्बर, 2020|3:54|IST

अगली स्टोरी

किडनैपरों की अब खैर नहीं, यूपी पुलिस ने की जबरदस्त प्लानिंग, कुछ घंटों में होंगे लॉकअप में

up dgp

यूपी में जिलों में काम करने वाली पुलिस की सर्विलांस टीम पर बड़ी जिम्मेदारी डाली गई है। फिरौती के लिए अपहरण की सूचना मिलते ही उसे संदिग्ध नंबरों की 24 घंटे निगरानी करनी होगी। ऐसी घटनाओं की सूचना तत्काल एसटीएफ को भी दी जाएगी।

हाल के दिनों में हुई फिरौती के लिए अपहरण की घटनाओं को देखते हुए डीजीपी मुख्यालय की तरफ से सभी जिलों को दिशा-निर्देश दिए गए हैं। इसमें कहा गया है कि फिरौती के लिए अपहरण से संबंधित मामलों में बिना देरी किए आईपीसी की धारा 364-ए में मुकदमा दर्ज किया जाए। साथ ही गुमशुदगी की सूचना को भी बेहद गंभीरता से लेते हुए कार्रवाई की जाए।

यह निर्देश इसलिए भी अहम हैं क्योंकि पिछले दिनों कुछ मामलों में शुरुआत में पुलिस गुमशुदगी मानकर चलती रही। बाद में पता चला कि अपहृत की हत्या कर दी गई। ऐसे मामलों में पुलिस पर लारवाही बरतने के आरोप भी लगे। परिवरीजनों ने कहा कि यदि पुलिस ने तत्काल मामले को गंभीरता से लेते हुए सर्विलांस शुरू किया होता तो अपहृत की हत्या नहीं होती। 

डीजीपी मुख्यालय ने अपहरण के मामले में एसओ, सीओ व एएसपी को जिले के एसपी के साथ समन्वय बना कर काम करने की हिदायत दी है। कहा गया है कि टीमों का गठन कर उन्हें अलग-अलग टास्क दिए जाएं। साथ ही एसटीएफ को भी सूचित करते हुए मदद ली जाए। आमतौर पर मामले के तूल पकड़ने पर ही एसटीएफ की मदद ली जाती है। डीजीपी मुख्यालय की मंशा है कि अपहरण की घटना होने पर समूचा पुलिस तंत्र एक साथ हरकत में आए और हर मोर्चे पर प्रभावी निगरानी शुरू हो जाए। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Kidnappers are not well now UP Police has done tremendous planning will be in lockup in few hours