ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशकिडनैप करके ले गए हरियाणा, फिर किया गैंगरेप, भूख हड़ताल पर बैठी नाबालिग बन गई मां, दिया बच्ची को जन्म

किडनैप करके ले गए हरियाणा, फिर किया गैंगरेप, भूख हड़ताल पर बैठी नाबालिग बन गई मां, दिया बच्ची को जन्म

यूपी के बहराइच में एक नाबालिग को किडनैप करके दरिंदों ने उसे कहीं का नहीं छोड़ा। दूसरे राज्य में लेकर उसके साथ गैंगरेप किया और फिर फरार हो गए। गैंगरेप के बाद नाबालिग प्रेग्नेंट हो गई।

किडनैप करके ले गए हरियाणा, फिर किया गैंगरेप, भूख हड़ताल पर बैठी नाबालिग बन गई मां, दिया बच्ची को जन्म
13 year old girl gives birth to child in jharkhand gumla uncle had raped minor
Dinesh Rathourलाइव हिन्दुस्तान,बहराइचSat, 22 Jun 2024 03:08 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के बहराइच में एक नाबालिग को किडनैप करके दरिंदों ने उसे कहीं का नहीं छोड़ा। दूसरे राज्य में लेकर उसके साथ गैंगरेप किया और फिर फरार हो गए। गैंगरेप के बाद नाबालिग प्रेग्नेंट हो गई। घर वालों ने पुलिस से शिकायत तो कुछ दिन बाद नाबालिग को बरामद कर लिया गया। पीड़िता ने परिवार के साथ मिलकर आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस के चक्कर काटने शुरू कर दिए, लेकिन पीड़िता कहीं से कोई राहत नहीं मिली। आरोपियों की गिरफ्तारी न होने से आहत नाबालिग पीड़िता परिवार के साथ भूख हड़ताल पर बैठ गई। डिलीवरी के अंतिम समय में बैठी नाबालिग पीड़िता की हालत बिगड़ने लगी तो उसे शुक्रवार की देर रात महिला अस्पताल ले जाया गया, जहां नाबालिग ने एक बच्ची को जन्म दिया। अब पुलिस की निगरानी में दोनों का उपचार हो रहा है।  

ये है पूरा मामला

मामला पयागपुर का बताया जा रहा है। जानकारी के अनुसार अगस्त 2023 में यहीं की रहने वाली एक 15 साल की लड़की को कुछ लोगों ने अपहरण कर लिया था। अपहरणकर्ता नाबालिग को हरियाणा ले गए। वहां नाबालिग के साथ चार लोगों ने बारी-बारी से गैंगरेप किया। नाबालिग दरिंदों से रहम की भीख मांगती रही लेकिन उनका दिल नहीं पसीजा। दरिंदगी के बाद आरोपी मौके से भाग गए। कुछ दिन बाद नाबालिग को पता चला कि वह प्रेग्नेंट हो गई है। इधर घर वालों ने भी बेटी के गायब होने की जानकारी पुलिस को दी।

घर वालों की तहरीर पर पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू की और नाबालिग को हरियाणा से ढूंढ निकाला। पीड़िता ने घर वालों को पूरी बात बताई और अफसरों के पास आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए दौड़ लगाने लगी। लेकिन उसकी कहीं एक नहीं सुनी गई। पीड़िता की डिलीवरी तारीख भी नजदीक आ गई थी। आरोपियों पर कार्रवाई और उनकी गिरफ्तारी न होने से आहत पीड़ित परिवार वालों के साथ कलेक्ट्रेट में भूख हड़ताल पर बैठ गई। शुक्रवार की देर रात उसकी हालत बिगड़ गई तो उसे तुरंत महिला अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां पीड़िता ने बेटी को जन्म दिय।