ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशकासगंज ट्रैक्टर हादसाः मौत के झपट्टे में उजड़ गए नौ परिवार, मासूमों के पोस्टमार्टम में डॉक्टर भी रो पड़े

कासगंज ट्रैक्टर हादसाः मौत के झपट्टे में उजड़ गए नौ परिवार, मासूमों के पोस्टमार्टम में डॉक्टर भी रो पड़े

कासगंज में हुए ट्रैक्टर हादसे में अब तक सात बच्चों समेत 23 लोगों की मौत हो चुकी है। मृतकों में 22 से 45 वर्ष की आठ महिलाएं शामिल हैं। दुर्घटना में बच्चों, पति व परिवार के अन्य सदस्यों की मौत हुई है।

कासगंज ट्रैक्टर हादसाः मौत के झपट्टे में उजड़ गए नौ परिवार, मासूमों के पोस्टमार्टम में डॉक्टर भी रो पड़े
Yogesh Yadavहिन्दुस्तान,कासगंजSat, 24 Feb 2024 10:00 PM
ऐप पर पढ़ें

कासगंज के पटियाली थाना क्षेत्र में शनिवार को ट्रैक्टर ट्राली के साथ हुए हादसे में एटा के थाना जैथरा के गांव कसा के नौ परिवार बर्बाद हो गए। इन परिवारों की महिलाएं हादसे में काल कलवित हुई हैं। महिलाओं में अधिकतर 22 से 45 वर्ष की उम्र की हैं। उनके बच्चे, पति की भी हादसे में मृत्यु हुई है। अपनी जान गवा चुकीं महिलाएं गृहणीं थीं, अब इन परिवार के सदस्यों को घर चलाना मुश्किलभरा होगा। वहीं, चिकित्सकों के लिए पोस्टमार्टम करना कोई नया अनुभव नहीं था, लेकिन नन्हें मुन्हे मासूम बच्चों के पोस्टमार्टम करने में डॉक्टरों के दिल दहल उठे। पोस्टमार्टम करते करते चिकित्सकों की आंखों से आंसू निकल पड़े। चिकित्सकों का कहना था, कि हादसा दुखद है और एक साथ इतने बच्चों के पोस्टमार्टम करने में कष्ट हुआ।

सीएमएस डा.संजीव सक्सैना ने बताया कि, दोपहर बजे से पोस्टमार्टम करने शुरू किये गये जो कि, पौने आठ बजे पूरे हो सके। इस दौरान बच्चों, महिलाओं व पुरुषों समेत 23 शवों का पोस्टमार्टम किया गया। पोस्टमार्टम करने के लिए डा. दिव्यप्रकाश, डा. यश, डा. आकाश, डा. वीर बहादुर की टीम लगाई गई। इनके साथ पांच फार्मास्टि लगाए गये।

पटियाली में हुए हादसे में कसा गांव की निवासी 24 वर्षीय उसमा पत्नी शिवम, उनके पति शिवम, बेटी देवांशी, 22 वर्षीय सपना पत्नी गौरव, उनका डेढ वर्षीय बेटा सिद्ध, 40 वर्षीय श्यामलता पत्नी रनवीर, 45 वर्षीय पुष्पा पत्नी सतेंद्र, 25 वर्षीय शिवानी पत्नी राजेश, उनकी बेटी दो माह की बेटी पायल, चार वर्ष का बेटा कार्तिक, 24 वर्षीय अंजली पत्नी मुकुट, 24 वर्षीय ज्योति पत्नी संजीव के अलावा 52 वर्षीय गायत्री देवी पत्नी रजनेश, उनकी बेटी दीक्षा, 55 वर्षीय मीरा पत्नी राजपाल की मौत हुई है।

70 वर्षीय शकुंतला पत्नी वीरपाल, 65 वर्षीय मीरा पत्नी दिग्विजय, 75 वर्षीय गुड्डी पत्नी खुन्नू लाल भी कालकलवित हुई हैं। मुकुट सिंह ने अपनी पांच साल की बेटी संध्या, तीन साल के बेटे लड्डू, मुकेश ने सात वर्षीय बेटे कुलदीप, हरिश्चंद्र ने दस वर्षीय बेटी सुनयना को गवाया है। मृतक महिलाओं में अधिकांशत: गृहणियां हैं, जो कि परिवारों को सुचारू रूप से चला रहीं थीं। अब यह परिवार महिला मुखिया के अभाव में बर्बाद होने की स्थिति पर पहुंच गए हैं। 

ट्रैक्टर स्वामी को नोटिस, होगी कार्रवाई
कासगंज। जिस ट्रैक्टर ट्रॉली से हादसा हुआ उस पर नंबर प्लेट नहीं होने और ओवरलोड चलने पर परिवहन विभाग कार्यवाही करने में जुट गया है। सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी आरपी मिश्रा ने ट्रैक्टर ट्रॉली का मुआयना करने के बाद ट्रैक्टर स्वामी को नोटिस जारी किया है। एआरटीओ के मुताबिक ट्रैक्टर पर हाई सिक्योरिटी प्लेट होनी चाहिए, लेकिन वह नहीं लगी है।

इसके अलावा कृषि कार्य के लिए ट्रैक्टर ट्रॉली में अधिक संख्या में लोगों को लेकर चलना नियम के खिलाफ है। इस मामले पर भी कार्यवाही की जाएगी। चेसिज से पता करने के बाद ट्रैक्टर स्वामी रॉरी गांव निवासी राजीव के नाम यह ट्रैक्टर नौ जून वर्ष 2022 में पंजीकृत हुआ है। 

अब तक सात बच्चों सहित 23 की मौत
जैथरा से कादरगंज गंगा स्नान के लिए जाते समय श्रद्धालुओं से भरी ट्रैक्टर ट्राली पलटने से अब तक सात बच्चों सहित 23 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। नौ लोग घायल हो गए। घायलों को कासगंज और अलीगढ़ रेफर किया गया है। ट्रैक्टर में कुल 53 लोग सवार थे। हादसे के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शोक व्यक्त करते हुए मृतकों को दो-दो लाख तथा घायलों को 50-50 हजार रुपये की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है। 

शनिवार की सुबह करीब नौ बजे थाना जैथरा क्षेत्र के गांव नगला कसा से एक ट्रैक्टर-ट्राली में सवार होकर करीब 53 लोग पूर्णमासी पर गंगा स्नान के लिए निकले थे। श्रद्धालुओं से भरा हुआ ट्रैक्टर करीब साढ़े दस बजे थाना पटियाली क्षेत्र के गांव थाना दरियावगंज से आगे पहुंचा था कि तेज रफ्तार से जा रहा ट्रैक्कर पुलिया पर जंप खाकर अनियंत्रित हो गया और ट्रैक्टर सीधे तालाब में जा गिरा। ट्राली की आवाज सुन आसपास के लोग पहुंच गए। कुछ ही देर में गांव के लोग मदद में जुट गए। दरियावगंज गांव के लोगों ने मदद की। 

हादसे की सूचना पर पुलिस और प्रशासन के अधिकारी पहुंच गए। मौके पर पहुंची कासगंज की डीएम, एसपी ने घटना स्थल पर पहुंचकर 23 लोगों की मौत होने की पुष्टि की है, जिसमें एक का नाम पता नहीं चल सका है। घायलों को स्थानीय अस्तपाल में भर्ती कराया गया। इसमें तीन की हालात गंभीर देख अलीगढ़ रेफर किया गया है। मरने वालों में सात बच्चे भी शामिल है। 

देरशाम तक दो बच्चों का पता नहीं चल सका है। गोताखोरों की टीम भी तलाश नहीं कर पाई है। तालाब को खाली कराया जा रहा है। बच्चों का पता नहीं चल सका है। पुलिस की टीमें तलाश कर रही है। इस हादसे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित तमाम लोगों ने शोक व्यक्त किया है। कासगंज जिला अस्तपाल में देरशाम तक पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सुपुर्द किए गए। 
 
इनकी हुई मौत
1.शकुंतला देवी (70) पत्नी वीरपाल सिंह निवासी नगला कसा
2.शमा (24)पत्नी शिवम  
3.मीरा (65)पत्नी दिग्विजय  
4.सपना (24)पत्नी गौरव  
5.पुष्पा (45)पत्नी  सत्येन्द्र सिंह  
6.शिवम (30)पुत्र मुकेश  
7.देवांशी (06)पुत्री शिवम  
8.दीक्षा (19)पुत्र रजनेश  
9.गायत्री (52)पत्नी रजनेश  
10.श्याम लता (40)पत्नी रनवीर  
11.सुनैना (10)पुत्री हरीश चंद्र शाक्य  
12.गुडडी (75)पत्नी खुन्नू लाल  
13.सिददू (15)पुत्र गौरव  
14.कुलदीप (7)पुत्र मुकेश  
15.संध्या (5)पुत्री मुकुट  
16.शिवानी (25)पत्नी राजेश  
17.मीरा (55)पत्नी राजपाल  
18.कार्तिक (4)पुत्र राजेश  
19.पायल (दो माह)  
20.लडडू (03)पुत्र मुकुट  
21.अंजलि (24)पुत्री मुकुट  
22.सपना (25)पत्नी गौरव 
23: एक अन्य मृतक

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें