ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशपुणे घटना के बाद कानपुर पुलिस ऐक्शन में, 2 की जान लेने वाले नाबालिग को किया अरेस्ट

पुणे घटना के बाद कानपुर पुलिस ऐक्शन में, 2 की जान लेने वाले नाबालिग को किया अरेस्ट

पुणे घटना के बाद कानपुर पुलिस ऐक्शन में आ गई है। गंगा बैराज पर डाक्टर के नाबालिग पुत्र को दो किशोरों की गैर इरादतन हत्या में बाल सुधार गृह, इटावा भेजा गया है।

पुणे घटना के बाद कानपुर पुलिस ऐक्शन में, 2 की जान लेने वाले नाबालिग को किया अरेस्ट
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,कानपुरFri, 24 May 2024 10:21 AM
ऐप पर पढ़ें

पुणे पोर्श कांड के बाद यूपी के कानपुर में हिट रन केस में 7 सात महीने बाद पुलिस ने ऐक्शन लिया है। गंगा बैराज पर डाक्टर के नाबालिग पुत्र को दो किशोरों की गैर इरादतन हत्या में बाल सुधार गृह, इटावा भेजा गया है। आरोपित द्वारा बर्रा में किए गए हादसे की जांच वहां से हटाकर एसीपी कर्नलगंज को सौंप दी गई है। बर्रा वाली घटना में पुलिस ने नाबालिग के खिलाफ धारा 308 (गैर इरादतन हत्या) की बढ़ोतरी की है। वहीं बैराज वाले हादसे में पूर्व में चार्जशीट क्यों नहीं लगी तत्कालीन विवेचक और इंस्पेक्टर के खिलाफ एडीसीपी सेन्ट्रल को विभागीय जांच सौंप दी है।

गंगा बैराज पर 27 अक्टूबर 2023 को डॉक्टर के नाबालिग बेटे ने कार चलाते समय मैगी प्वाइंट पर टक्कर मार दी थी। आरोपित ने वहां मौजूद दो किशोरों को रौंद दिया था। नवाबगंज पुलिस ने पहले 304 ए में मामला दर्ज किया पर चार्जशीट नहीं लगाई थी। तब एसीपी कर्नलगंज को जांच सौंपी गई और केस फिर खुला। जिसमें 21 मई 2024 को एसीपी ने नाबालिग को गिरफ्तार कर बाल सुधार गृह भेज दिया था। इसी किशोर ने बीती 31 मार्च 2024 को बर्रा थानाक्षेत्र में एक बार फिर बाइक सवार को युवक को टक्कर मार दी थी। हादसा करते ही आरोपित कार से उतरकर दौड़ता हुआ फरार हो गया था। एडीशनल सीपी कानून व्यवस्था हरीश चन्दर ने बताया कि बर्रा वाली घटना में धारा 308 बढ़ा दी गई है। इसकी जांच बर्रा से हटाकर एसीपी कर्नलगंज को सौंपी गई है।

पुणे पोर्श क्रैश मामले में बड़ा ट्विस्ट, आरोपी का दावा; फैमिली ड्राइवर चला रहा था कार

बर्रा हादसे में पिता भी दोषी

बर्रा में नाबालिग के बाइक सवार युवक को टक्कर मारने के मामले में पुलिस अब नाबालिग के पिता को भी दोषी बनाएगी। एडिशनल सीपी ने बताया कि पिता को भी इसमें दोषी माना गया है। साक्ष्य जुटाते हुए जल्द ही पुलिस पिता की भी गिरफ्तारी कर सकती है।

खेल करने वाले पुलिसकर्मियों पर होगी विभागीय कार्रवाई

बैराज हादसे में तत्कालीन चौकी इंचार्ज, थाना प्रभारी की कार्यशैली को देखते हुए पुलिस कमिश्नर ने मामले की विभागीय जांच के आदेश दिये हैं। एडिशनल सीपी हरीश चंदर के मुताबिक गंभीर मामले में भी बैराज हादसे के पूर्व विवेचक और पूर्व थानेदार को लेकर विभागीय जांच एडीसीपी सेन्ट्रल को सौंपी गई है। उनकी रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।