DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कानपुरः अपनी फोटो के पीछे बने कूड़ाघर को देखे क्या बोले राष्ट्रपति, पढ़ें

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के दौरे के पहले नगर निगम ने कूड़े घर को ढ़क दिया।

आजाद नगर में अपने मित्र आनंद भार्गव के घर पहुंचे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राज्यपाल के साथ ही सीएम के प्रतिनिधि को भी चौंका दिया। दरअसल, कोविंद ने कूड़ाघर हटाने की बात की तो राज्यपाल राम नाईक व कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही पूछ बैठे कि कहां है कूड़ाघर। इससे पहले कि आनंद भार्गव के पुत्र ऋषि या उनके घर अन्य सदस्य कुछ कह पाते, राष्ट्रपति ने खुद ही उनसे कह दिया-जहां मेरी फोटो लगी है उसके ठीक पीछे कूड़ाघर है। इसे हटवाइए। 
कूड़ाघर हटवाने के लिए स्वयं सेवक आनंद भार्गव की जीवन पर्यंत जंग की आपके अपने अखबार हिन्दुस्तान में छपी खबर राष्ट्रपति को पहले ही मिल चुकी थी। वह बुधवार सुबह ही खबर पढ़कर जान चुके थे कि उनके मित्र आनंद ने खूब लड़ाई लड़ी पर सरकारी मशीनरी ने लोक अदालत के आदेश को भी दरकिनार कर दिया। जब वे अपने मरहूम मित्र के घर पहुंचे तो ऋषि भार्गव ने कूड़ाघर हटवाने को लेकर वर्ष 2014 में दिया गया आदेश और एक कवरिंग लेटर उन्हें सौंपा। ऋषि का कहना है कि पत्र उन्होंने एक बार देखा और राज्यपाल को सौंप दिया। 
हमने तो लिखित पत्र भर दिया था, राष्ट्रपति पहले ही जान गए थे
ऋषि भार्गव का कहना है कि राष्ट्रपति को हमने यह जानकारी नहीं दी थी कि जिस कूड़ाघर को हटाया जाना है वह कहां है। वह सोच रहे थे कि राष्ट्रपति, उनका स्टाफ या कोई अफसर पूछेंगे तो बता देंगे। पत्र दिया ही जा चुका था। ऋषि कहते हैं कि वह यह भी सोच रहे थे कि कहीं एक ही बात बार-बार कहने का राष्ट्रपति कोई और अर्थ न लगा लें मगर राज्यपाल व सूर्य प्रताप शाही जब उस पत्र को लेकर यह चर्चा करने लगे कि संबंधित कूड़ाघर कहां है तो राष्ट्रपति खुद ही बोल पड़े कि कूड़ा घर बाहर उनकी फोटो के पीछे है। 
दो माह में कूड़ाघर न हटे तो बताना
राष्ट्रपति द्वारा कूड़ाघर की जानकारी देने पर राज्यपाल व कृषि मंत्री चौंक गए कि उन्होंने आनंद भार्गव के घर जाने से पहले कोई तैयारी नहीं की थी मगर राष्ट्रपति को पहले से ही पता था। बाद में उन्हें पता चला कि हिन्दुस्तान अखबार में यह खबर छपी है कि इस कूड़ाघर को सफेद चादर से ढकने के बाद राष्ट्रपति की फोटो वाली होर्डिंग नगर निगम ने लगाई है। ऋषि ने बताया कि बाद में राष्ट्रपति ने मुझसे कहा-अगर दो माह के भीतर कूड़ाघर न हटे तो बताना।  
अफसर रह गए सन्न, शाही ने दिया निर्देश
राष्ट्रपति की इच्छा सुनकर राज्यपाल व कृषि मंत्री बाहर आए और वहां खड़े डीएम व एसएसपी से कहा-वहां (सफेद चादर के घेरे को दिखाकर) कूड़ाघर है, इसे जल्द हटवा दें। ऋषि भार्गव के उस पत्र को भी उन्होंने डीएम को सौंप दिया। यह सुनकर अफसर भी सन्न रह गए। तमाम अफसर नगर निगम को कोसते रहे कि अगर पहले ही कूड़ा घर हटवा दिया गया होता तो राष्ट्रपति को इसके लिए कहने की जरूरत नहीं पड़ती। दूसरी तरफ नगर निगम के अफसरों के चेहरे पर खासा तनाव दिखा। 
सुबह से नगर निगम अफसरों में मची थी खलबली
ऋषि के मुताबिक खबर छपने के बाद सुबह नगर आयुक्त का फोन आया था, उन्होंने बताया कि चिंता न करें, कूड़ाघर हटाए जाने के लिए टेंडर हो चुके हैं। बहुत जल्द इसे शिफ्ट कर देंगे। ऋषि ने बताया कि नगर आयुक्त से बहुत देर तक बात हुई मगर विश्वास नहीं हुआ कि वाकई शिफ्टिंग की योजना है। उन्होंने बताया कि जब लोक अदालत के आदेश के बाद भी कूड़ा घर नहीं हटा तो राष्ट्रपति के आने के दिन ही यह कैसे तय हो सकता है। इसीलिए महामहिम से लिखित शिकायत की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Kanpur: Look at the trash built behind your photo