DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैराना उपचुनाव: योगी बोले- सपा प्रत्याशी उधार दे सकती है, पर सामना नहीं कर सकती 

कैराना उपचुनाव में जनसभा को संबोधित करने आये मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुजफ्फरनगर दंगा, किसान और पलायन प्रकरण से लेकर विकास के मुद्दे को उठाया। मुख्यमंत्री ने सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष को ललकारते हुए कहा कि वह दूसरों के कंधों पर रखकर बंदूक तो चला सकते हैं, लेकिन यहां पर प्रचार के लिए नहीं आ सकते। उनमें इतना साहस नहीं कि वह यहां के लोगों से नजरें मिला सकें और उनका सामना करा सकें। 

कैराना लोकसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव में पहली जनसभा का आयोजन गंगोह विधानसभा क्षेत्र स्थित अम्बहेटा में किया गया था। यहां पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारा फर्ज है कि हम बाबू हुकम सिंह की विरासत सही हाथों में सौंपें। उन्होंने किसानों के लिए प्रदेश सरकार के द्वारा किए जा रहे कामों को गिनाया और कहा कि सहारनपुर जिले में ही 58 हजार 487 किसानों का कर्ज माफ किया गया है। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में 272 जोड़ों का सामूहिक विवाह सहारनपुर में कराया गया है। 

उन्होंने केन्द्र सरकार की योजनाओं को भी गिनाया।  उन्होंने सहारनपुर की बिड़वी शुगर मिल को भी शीघ्र चलवाने का वायदा किया और कहा कि किसानों की एक-एक पाई का भुगतान कराया जाएगा। आवश्यकता होने पर मिलों को सरकार विशेष पैकेज भी देगी। बिजली की व्यवस्था में सुधार हुआ है। डार्क जोन समाप्त कर किसानों को ट्यूबवेलों के कनेक्शन दिए जा रहे हैं।  

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने भाषण में मुजफ्फरनगर दंगे के मामलों को पुरजोर तरीके से उठाया और इसके बहाने सपा पर तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा कि सपा अपना प्रत्याशी तो दूसरों को उधार दे सकती है, लेकिन उसके राष्ट्रीय अध्यक्ष की इतनी हिम्मत नहीं कि वह प्रचार में आये, उसमें नैतिक साहस नहीं है। इसलिए वह जनता के बीच में नहीं आ सकते। वह सामाजिक ताने-बाने को छिन्न-भिन्न कर सकते हैं, लेकिन पश्चिम उत्तर प्रदेश की जनता को फेस नहीं कर सकते।  

कैराना पलायन 
कैराना पलायन प्रकरण का मुख्यमंत्री ने सीधे-सीधे तो नाम नहीं लिया। लेकिन इस मामले पर भी वह जमकर बोले। उन्होंने कहा कि स्व. बाबू हुकुम सिंह के एजेंडे में यहां की सुरक्षा व्यवस्था भी थी। उन्होंने उस मुद्दे को उठाया, जिसके बाद यहां पर सरकार ने सुरक्षा का वातावरण कायम करने के लिए काम किए और आज यहां पर अपराधी दहशत में हैं और आम जन सुरक्षित हैं। सुरक्षा का जो वातावरण बना है, उसका श्रेय हुकम सिंह को है। यहां अब सुरक्षा में कोई सेंध नहीं लगा सकता। जो सेंध लगाने का प्रयास करेगा, उसे अपनी सुरक्षा के बारे में सोचना होगा और जनता की सुरक्षा के लिए हम बैठे हैं।  

पश्चिमी उत्तर प्रदेश की बैल्ट को कृषि बैल्ट कहा जाता है। यहां पर मुख्यमंत्री का भाषण भी किसानों पर ही केंद्रित रहा। जिसमें उन्होंने सबसे अधिक किसानों के मामलों को उठाया। उन्होंने शुगर मिलों की समस्या को उठाया। कहा कि बंद शुगर मिलों को वह चलवा रहे हैं और बिड़वी शुगर मिल भी चलेगी। किसानों की पाई-पाई का भुगतान शुगर मिलों से कराया जाएगा, भले ही इसके लिए सरकार को विशेष पैकेज देना हो। इसके अलावा डार्क जोन के मामले को उठाते हुए कहा कि डार्क जोन को समाप्त कर दिया गया है। किसानों को नलकूपों के कनेक्शन दिए जा रहे हैं। बिजली उन्हें पूरी मिल रही है। 

कैराना से होगी 2019 की शुरुआत : केशव मौर्य 
प्रदेश सरकार के उपमुख्यमंत्री केशव मौर्य ने कहा कि वर्तमान में सभी विरोधियों का एक ही लक्ष्य है मोदी रोको। मोदी जी ने क्या गलत किया है, गरीबों की भलाई की है, उनके लिए काम कर रहे हैं और यह काम विपक्षियों को सहन नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा विरोधियों को बताना चाहता हूं कि देश और प्रदेश की जनता मोदी जी के साथ है। 2019 में उत्तर प्रदेश से 73 से अधिक सांसद जीतेंगे और मोदी जी फिर से प्रधानमंत्री होंगे। इसकी शुरुआत कैराना से करनी है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Kairana bypoll Yogi Adityanath addresses rally ahead of by-election accuses Samajwadi Party of patronising criminals