ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशदुनिया की हर डाइनिंग टेबल पर होना चाहिए भारत का ड्राई फ्रूट, काशी में किसानों से बोले मोदी

दुनिया की हर डाइनिंग टेबल पर होना चाहिए भारत का ड्राई फ्रूट, काशी में किसानों से बोले मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, काशीवासियों का मुझ पर असीम स्नेह है। इस चुनाव में देश के 64 करोड़ से ज्यादा लोगों ने मतदान किया है। पूरी दुनिया में इससे बड़ा चुनाव कहीं और नहीं होता है।

दुनिया की हर डाइनिंग टेबल पर होना चाहिए भारत का ड्राई फ्रूट, काशी में किसानों से बोले मोदी
Dinesh Rathourलाइव हिन्दुस्तान,वाराणसीTue, 18 Jun 2024 06:09 PM
ऐप पर पढ़ें

PM Modi In Varanasi: तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने के बाद बनारस पहुंचे पीएम मोदी ने काशी के किसानों को संबोधित किया। साथ ही काशीवासियों का तीसरी बार सांसद चुनने पर आभार भी जताया। उन्होंने कहा, मां गंगा ने मुझे गोद लिया है, अब मैं यहीं का होकर रह गया हूं। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, काशीवासियों का मुझ पर असीम स्नेह है। इस चुनाव में देश के 64 करोड़ से ज्यादा लोगों ने मतदान किया है। पूरी दुनिया में इससे बड़ा चुनाव कहीं और नहीं होता है। जहां इतनी बड़ी संख्या में लोग वोटिंग में हिस्सा लेते हैं।  पीएम मोदी बोले, जी-7 की बैठक में मैं हिस्सा लेने के लिए इटली गया था। जी-’7 के सारे देशों के सारे मतदाताओं को मिला दें तो भी भारत के वोटर की संख्या उनसे डेढ़ गुना ज्यादा है। यूरोप के तमाम देशों को जोड़ दें तो भी भारत के वोटर्स की संख्या उनसे ढाई गुना ज्यादा है। इस चुनाव में 31 करोड़ से ज्यादा महिलाओं ने हिस्सा लिया।

एक देश में महिला वोटर्स की संख्या के हिसाब से पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा है। ये संख्या अमेरिका की पूरी आबादी के आसपास है। भारत के लोकतंत्र की यही खूबसूरती, यही ताकत पूरी दुनिया को आकर्षित भी करती है और प्रभावित भी करती है। मैं बनारस के हर मतदाता का भी लोकतंत्र के उत्सव को सफल बनाने के लिए आभार व्यक्त करता हूं। ये बनारस के लोगों के लिए भी गर्व की बात है। पीएम मोदी बोले, काशी के लोगों ने सिर्फ एमपी नहीं बल्कि तीसरी बार पीएम भी चुना है। इसलिए आप लोगों को डबल बधाई। इस चुनाव में देश के लोगों ने जो जनादेश दिया है वह वाकई अभूतपूर्व है। इस जनादेश ने एक नया इतिहास रचा है।

दुनिया के लोकतांत्रिक देशों में ऐसा बहुत कम ही देखा गया है कि कोई चुनी हुई सरकार लगातार तीसरी बार वापस आई हो, लेकिन इस बार भारत की जनता ने ये भी करके दिखाया है। जवाहरलाल नेहरू के बाद लगातार तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने पर मोदी ने कहा, ऐसा भारत में 60 साल पहले हुआ था, तब से भारत में किसी सरकार ने इस तरह हैट्रिक नहीं लगाई थी। आपका ये विश्वास मेरी बहुत बड़ी पूंजी है। आपका ये विश्वास मुझे लगातार आपकी सेवा के लिए देश को नई ऊंचाई पर पहुंचाने के लिए कड़ी मेहनत करने की प्रेरणा देता है। मैं दिन रात ऐसे ही मेहनत करूंगा। आपके संकल्पों को पूरा करने के लिए मैं हर प्रयास करूंगा।

शपथ लेने के बाद किसान और गरीब परिवारों से जुड़ा था फैसला

वाराणसी में आयोजित किसान कार्यक्रम में बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा, मैंने किसान, नौजवान, नारी शक्ति और गरीब इन्हें विकसित भारत का मजबूत स्तंभ माना है। अपने तीसरे कार्यकाल की शुरुआत मैंने इन्हीं के सशक्तीकरण से की है। सरकार बनते ही सबसे पहला फैसला किसान और गरीब परिवारों से जुड़ा फैसला लिया गया है। देश भर में गरीब परिवारों के लिए तीन करोड़ नए घर बनाने हों या फिर, पीएम किसान सम्मान निधि को आगे बढ़ाना हो, ये फैसले करोड़ों-करोड़ों लोगों की मदद करेगा। आज का ये कार्यक्रम में विकसित भारत के इसी रास्ते को सशक्त करने वाला है। इस खास कार्यक्रम में काशी के साथ-साथ, काशी से ही देश के गांव के लोग जुड़े हैं। आज तीन करोड़ बहनों को लखपति दीदी बनाने की तरफ भी बहुत बड़ा कदम उठाया गया है।

कृषि सखी के रूप में बहनों की गरीब भूमिका उन्हें सम्मान और आय के नए साधन दोनों सुनिश्चित किए जाएंगे। पीएम मोदी ने कहा, पीएम किसान सम्मान निधि आज दुनिया की सबसे बड़ी डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर किट बन चुका है। अभी तक किसानों के खाते में सवा तीन लाख करोड़ रुपये जमा हो चुके हैं। जब सही नीयत और सेवा की भावना होती है तो ऐसे ही तेजी से किसान हित और जनहित के लिए काम होता है। पीएम मोदी आगे कहा, 21वीं सदी के भारत को दुनिया की तीसरी बड़ी आर्थिक ताकत बनाने में पूरी कृषि व्यवस्था की बड़ी भूमिका है। हमे वैश्विक रूप से सोचना होगा। ग्लोबल वार्म को ध्यान में रखना होगा। दलहन और तिलहन में आत्मनिर्भर बनना है। बनारस का लंगड़ा आम, जौनपुरी की मूली, गाजीपुर की भिंड़ी ऐसे अनेक उत्पात आज विदेशी मार्केट में पहुंच रहे हैं।

मेरा तो सपना है दुनिया की हर डाइनिंग टेबल पर भारत का कोई न कोई खाद्यान्न या ड्रायफूट होना ही चाहिए। इसलिए हमें खेती में भी जीरो इफेक्ट्र का बढ़ावा देना है। माताओं-बहनों के बिना खेती की कल्पना करना असंभव है। नमो ड्रोन दीदी की तरह की कृषि सखी कार्यक्रम ऐसा ही एक प्रयास है। हमने बैंक सखियों के रूप में डिजिटल इंडिया बनाने में बहनों की भूमिका देखी है। 20 हजार से अधिक सहायता समूह को कृषि सखी के प्रमाण पत्र दिए गए हैं। पिछले 10 सालों में किसानों के लिए केंद्र और राज्य सरकार ने पूरे समर्पण भाव से काम किया है। 

बनास डेयरी आने के बाद पशु पालकों की बढ़ी आय

पीएम मोदी ने आगे कहा, बनास डेयरी आने के बाद बनारस के अनेक दूध उत्पादों की कमाई में पांच लाख रुपये तक की वृद्धि हुई है। पशु पालकों को बोनस भी दिया जा रहा है। बनारस में मछली पालकों की आय बढ़ाने के लिए भी हमारी सरकार लगातार काम कर रही है। पीएम मत्स्य संपदा योजना से सैकड़ों किसानों को लाभ हो रहा है। चंदौली में करीब 70 करोड़ की लागत से आधुनिक फिश मार्केट का निर्माण किया जा रहा है। इससे बनारस के मछली पालन से जुड़े किसानों को मदद मिलेगी। 10 सालों में बनारस शहर और आसपास के गांवों में कनेक्टविटी का काम हुआ है उससे बहुत मदद हुई है। काशी संस्कृति की राजधानी रही। हमारी काशी ज्ञान की राजधानी रही है। काशी सर्वविद्या की राजधानी रही है। इसी के साथ काशी एक ऐसी नगरी बनी है। विकास भी और विरासत भी का मंत्र काशी में हर तरफ दिखाई देता है।