DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  शिक्षकों के हित में सीएम योगी का महत्वपूर्ण फैसला, पद खाली नहीं होने पर भी आश्रितों को मिलेगी नौकरी 

उत्तर प्रदेशशिक्षकों के हित में सीएम योगी का महत्वपूर्ण फैसला, पद खाली नहीं होने पर भी आश्रितों को मिलेगी नौकरी 

लखनऊ विशेष संवाददाताPublished By: Dinesh Rathour
Mon, 24 May 2021 10:00 PM
शिक्षकों के हित में सीएम योगी का महत्वपूर्ण फैसला, पद खाली नहीं होने पर भी आश्रितों को मिलेगी नौकरी 

बेसिक शिक्षा विभाग में लिपिक की रिक्तियां न होने पर भी मृत शिक्षकों के आश्रितों को इसी श्रेणी में नियुक्ति दी जाएगी। यह घोषणा बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा. सतीश चन्द्र द्विवेदी ने की है। उन्होंने विभागीय अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक करते हुए कहा कि जो मृतक आश्रित बीएड-डीएलएड(पूर्व में बीटीसी) और टीईटी डिग्री धारक हैं उनको शिक्षक और जो टीईटी पास नहीं है, उन्हें लिपिक के पद पर नियुक्ति दी जाए। विभाग में 1621 से ज्यादा शिक्षकों और सैकड़ों अधिकारियों-कर्मचारियों की मृत्यु हुई है। 

बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ. द्विवेदी ने कहा है कि पहले मृत शिक्षकों के आश्रित उच्च शिक्षित होते हुए भी चतुर्थ श्रेणी में सेवा करने के लिए बाध्य होते थे क्योंकि लिपिक के पद रिक्त नहीं होते थे। यह व्यवस्था उनकी योग्यता के अनुरूप नहीं थी। इसी बात को ध्यान में रखते हुए तीसरी श्रेणी की अर्हता रखने वाले मृतक आश्रितों को पद न होने पर भी नियुक्ति दी जाएगी।  अलीगढ़, बरेली और मुरादाबाद मंडल के मंडलीय सहायक निदेशक एवं डायट प्राचार्य और जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों की वर्चुअल समीक्षा बैठक में डा. द्विवेदी ने मृतक शिक्षकों व कर्मचारियों के देयों के तत्काल भुगतान का निर्देश दिया।

अंतर्जनपदीय स्थानांतरण प्राप्त शिक्षकों के अंतिम भुगतान प्रमाण पत्र भेजने में देरी करने वाले जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों के खिलाफ उन्होंने कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है। उन्होंने सेवानिवृत्त शिक्षकों व कर्मचारियों के पेंशन, जीपीएफ व बीमा के अविलम्ब भुगतान के निर्देश दिए हैं। बैठक में उन्होंने जांच के बाद फर्जी पाए गए शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई तेज करने के निर्देश दिए। डा द्विवेदी ने कहा कि नए ग्राम प्रधानों के साथ समन्वय स्थापित करते हुए ऑपरेशन कायाकल्प में तेजी लाए जाए।  बैठक में अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार, महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरण आनंद, निदेशक डॉ. सर्वेन्द्र विक्रम सिंह, सचिव बेसिक शिक्षा परिषद प्रताप सिंह बघेल मौजूद रहे। 

संबंधित खबरें