ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशआप भी गर्मी में घूमने का बना रहे हैं प्लान तो पहुंच जाएं चूका, कल नहीं लगेगा टिकट

आप भी गर्मी में घूमने का बना रहे हैं प्लान तो पहुंच जाएं चूका, कल नहीं लगेगा टिकट

समाजिक वानिकी के सभागार में पीलीभीत टाइगर रिजर्व के फील्ड डायरेक्टर विजय सिंह ने बताया कि 1700 सौ 1800  के दशक से अब तक लगातार पीटीआर ने कई बदलाव देखे और खुद को स्थापित किया।

आप भी गर्मी में घूमने का बना रहे हैं प्लान तो पहुंच जाएं चूका, कल नहीं लगेगा टिकट
Dinesh Rathourवरिष्ठ संवाददाता,पीलीभीत।Sat, 08 Jun 2024 05:30 PM
ऐप पर पढ़ें

नौ जून 2014 और अब 9 जून 2024 पूरे दस साल का हो गया पीलीभीत टाइगर रिजर्व। इसकी लोकप्रियता से लेकर इसकी साख में बढ़ोत्तरी हुई है। यही नहीं 2020 से अब तक करीब छह गुना बढ़ चुके सैलानियों के आने जाने का सिलसिला बना हुआ है। दस साल पूरे होने पर वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि नौ जून को एक बड़ा आयोजन किया जा रहा है। इसमें लखनऊ समेत बरेली से वरिष्ठ वनाधिकारियों का जुटान होगा। 

जंगल ने देखे ब्रिटिश काल से अब तक बड़े बदलाव  

समाजिक वानिकी के सभागार में पीलीभीत टाइगर रिजर्व के फील्ड डायरेक्टर विजय सिंह ने बताया कि 1700 सौ 1800  के दशक से अब तक लगातार पीटीआर ने कई बदलाव देखे और खुद को स्थापित किया। ब्रिटिश काल में पहले डीएफओ डब्ल्यू शेक्सपीयर से लेकर अब तक के जितने भी वनाधिकारी आए, सभी ने अपना योगदान देकर पीटीआर को मजबूत किया है। उत्तराखंड से लेकर नेपाल बॉर्डर तक फैले पीटीआर में मजबूत पारिस्थिति तंत्र के कारण यहां वन्यजीवों की अधिकता तो है ही साथ ही वाटर वॉडी, उपजाऊ जमीन और कुदरती माहौल है। हरियाली और प्राकृतिक  वास स्थल की यहां कमी नहीं है।

छह गुना बढ़े सैलानी.. विदेशी भी खूब आए 

पीटीआर व समाजिक वानिकी के डीएफओ मनीष सिंह ने बताया कि 2015 से 16 में पीटीआर में कुल 17579 सैलानी आए थे। जो बरेली या आसपास क्षेत्रों के रहे। पर अब यह 2024 में 38300 तक संख्या पहुंच चुकी है। यह संख्या करीब छह गुनी है। यही नहीं पीटीआर में अब तक करीब 161 विदेशी सैलानी आ चुके हैं। राजस्व का आंकड़ा 1.12 करोड़ पहुंच चुका है। महाराष्ट्र दक्षिण भारत समेत पूरी दुनिया से सैलानी यहां आ रहे हैं। सोशल मीडिया पीटीआर की लोकप्रियता का अहम कारण बना है। डीएफओ ने बताया कि नौ जून को बेनहर और पीटीआर के संयुक्त प्रयास से दो बसें निशुल्क चूका तक ले जाएंगी। पहले आओ पहले पाओ के आधार पर सैलानी चूका का दीदार कर सकेंगे। 

पांच शोध पत्रों का होगा विमोचन

नौ जून को हाइवे किनारे होटल में पीटीआर का दसवां स्थापना दिवस मनाया जाएगा। इसमें पांच शोध पत्र का विमोचन होगा। साथ ही रेस्क्यू व्हीकल, वाचरों व बाघ मित्रों को संसाधन मुहैया कराए जाएंगे। डब्ल्यूडब्ल्यूएफ और  डब्ल्यूडब्ल्यूआई के प्रतिनिधि भी रहेंगे। यहां हैवीटाट इंप्रूवमेंट, वाटर बॉडी, मानव जीव संघर्ष और जंगल किनारे रोजगार के विषयों पर लखनऊ से प्रमुख सचिव वन, पीसीसीएफ समेत वरिष्ठ वनाधिकारी चर्चा करेंगे। वन और वन राज्यमंत्री का कार्यक्रम मांगा गया है। इस मौके पर  प्रशिक्षु आईएफएस भरत समेत एसडीओ अंजनि कुमार, रमेश चौहान आदि रहे।