ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशसजा काटने के बाद भी यूपी की जेल में बंद हैं कितने कैदी, हाईकोर्ट ने डीजी जेल से मांगा पूरा हिसाब

सजा काटने के बाद भी यूपी की जेल में बंद हैं कितने कैदी, हाईकोर्ट ने डीजी जेल से मांगा पूरा हिसाब

हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने सजा पूरी होने के बावजूद एक कैदी को जेल से रिहा न किए जाने पर सख्त रुख अपनाते हुए महानिदेशक कारागार को तलब कर लिया है।

सजा काटने के बाद भी यूपी की जेल में बंद हैं कितने कैदी, हाईकोर्ट ने डीजी जेल से मांगा पूरा हिसाब
Dinesh Rathourविधि संवाददाता,लखनऊThu, 07 Dec 2023 10:18 PM
ऐप पर पढ़ें

हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने सजा पूरी होने के बावजूद एक कैदी को जेल से रिहा न किए जाने पर सख्त रुख अपनाते हुए महानिदेशक कारागार को तलब कर लिया है। न्यायालय ने हलफनामा दाखिल कर उन्हें बताने का आदेश दिया है कि सजाएं पूरी होने के बावजूद कितने कैदी अब भी जेल में हैं। यह आदेश न्यायमूर्ति शमीम अहमद की एकल पीठ ने अरविन्द उर्फ नागा की ओर से दाखिल अपील पर दिया है। यह अपीलार्थी हरदोई जेल में बंद है। न्यायालय ने हरदोई जेल के जेल अधीक्षक को भी व्यक्तिगत हलफनामा दाखिल कर बताने को कहा है कि सजा पूरी होने के बावजूद इस अपीलार्थी को अवैध रूप से क्यों जेल में रखा गया है।

अपीलार्थी अरविन्द उर्फ नागा को 28 नवंबर 2022 को छेड़छाड़, मारपीट, जान से मारने की धमकी के आरोपों में दोषसिद्ध कर ट्रायल कोर्ट ने पांच साल की सजा सुनाई थी। अपीलार्थी 20  दिसम्बर 2017 से जेल में बंद था, लिहाजा सजा दिसम्बर 2022 में पूरी हो गई। अपीलार्थी की ओर से दलील दी गई कि सजा पूरी होने के बावजूद हरदोई जेल प्रशासन ने रिहा नहीं किया। वह 11 महीनों से अवैध रूप से हरदोई जेल में निरुद्ध है। उसने इसके लिए मुआवजा भी मांगा है।

सरकारी वकील ने मामले में निर्देश प्राप्त करने के लिए समय की मांग की। मामले की गम्भीरता देखते हुए कोर्ट ने कहा कि यह अपीलार्थी के जीवन की सुरक्षा, स्वतंत्रता का विषय है। कोर्ट ने अगली सुनवाई के लिए आठ दिसम्बर की तिथि तय कर सरकारी वकील, लखनऊ बेंच के वरिष्ठ निबंधक को आदेशित किया कि वे आदेश के संबंध में संबंधित अफसरों को अवगत कराएं।  

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें