ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशहॉट एयर बैलून में बैठकर सैकड़ों फीट की ऊंचाई से खीचीं विहंगम काशी की तस्‍वीरें, रोमांच के साथ तय समय पर पूरी की उड़ान 

हॉट एयर बैलून में बैठकर सैकड़ों फीट की ऊंचाई से खीचीं विहंगम काशी की तस्‍वीरें, रोमांच के साथ तय समय पर पूरी की उड़ान 

काशी में एडवेंचर टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए हॉट एयर बैलून फेस्टिवल का दूसरा सीजन मंगलवार से शुरू हो गया। सोमवार को इसकी टेस्ट ड्राइव की गई। सीएचएस मैदान, डोमरी प्वाइंट से सुबह 8 बजे बैलून उड़ाए गए।

हॉट एयर बैलून में बैठकर सैकड़ों फीट की ऊंचाई से खीचीं विहंगम काशी की तस्‍वीरें, रोमांच के साथ तय समय पर पूरी की उड़ान 
Ajay Singhप्रमुख संवाददाता,वाराणसीTue, 17 Jan 2023 02:44 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

काशी में एडवेंचर टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए हॉट एयर बैलून फेस्टिवल का दूसरा सीजन मंगलवार से शुरू हो गया। सोमवार को इसकी टेस्ट ड्राइव की गई। कमच्छा स्थित सीएचएस मैदान और डोमरी प्वाइंट से सुबह आठ बजे बैलून उड़ाए गए। दोनों प्वाइंट से एक समय पर उड़ाए गए बैलून ने एक दूसरे को गंगा के ऊपर क्रास किया। इस दौरान अधिक ऊंचाई पर उड़ रहे बैलून के पायलट और इंस्ट्रक्टर दल ने रोमांचित कर देने वाली विहंगम काशी की तस्वीरें भी उतारीं। बैलून पर सवार एक्सपर्ट ने उड़ान के दौरान हवा में होने वाली गतिविधियों को परखा। बैलून में सुरक्षा प्रबंधों की जांच की गई। पायलटों ने सुरक्षित ऊंचाई पर उड़ान तय समय में पूरी की। डोमरी में लैंडिंग भी सफल रही।

सुबह आठ बजे सीएचएस से उड़ान भरने वाला हॉट एयर बैलून अगले 30 मिनट में गंतव्य पर पहुंच गया था। ठीक इसी समय डोमरी से उड़ान भरे वाले बैलून को सीएचएस पहुंचने में थोड़ा अधिक वक्त लगा। ट्रायल में सब कुछ ओके पाए जाने के बाद पायलट दल के सदस्य आश्वस्त हुए। हॉट एयर बैलून के टेकऑफ और लैंडिंग के लिए बीएचयू, सीएचएस और डोमरी में प्वाइंट बनाए गए हैं। प्रतिदिन अधिकतम सौ लोग उड़ान भरेंगे। वहीं एससीओ के शिखर सम्मेलन के उपलक्ष्य में बोट रेसिंग भी होगा। यह दौड़ दशाश्वमेध घाट से राजघाट तक होगी। इसमें प्रथम, द्वितीय और तृतीय पुरस्कार दिए जाएंगे।

पर्यटकों को हो रहा अनूठा एहसास
गंगा पार रेती बसाई गई टेंट सिटी पर्यटकों को सांस्कृतिक अनुभूति के साथ आध्यात्मिक शांति का अहसास करा रही है। तंबुओं के इस शहर के बसाव में हर उस चीज का ध्यान रखा गया है जो सैलानी को शहरी कोलाहल से दूर ले जाए और उनसे अलग भी न होने दे। दूसरे दिन 22 टेंटों की बुकिंग कराई गई। वहीं दिल्ली, राजस्थान के अलावा दक्षिण भारत के करीब 50 लोग तंबुओं में रहने पहुंचे।

घड़ी की सुइयों में सिमटे जीवन को कुछ देर के लिए उन्मुक्त प्राकृतिक माहौल में सुकून मिल सके-इस पूरी परिकल्पना को मूर्त रूप देने में केंद्रीय किरदार निभाया है अहमदाबाद के पारस भाई पटेल ने। वह भौतिक रूप में यहां नहीं आए लेकिन टेंट सिटी का वर्तमान स्वरूप उनकी कल्पनाओं के विचरण की गवाही दे रहा है।

टेंट सिटी बसाने वाली कंपनी प्रावेग के अधिष्ठाता पारस भाई पटेल ने प्रोजेक्ट से जुड़ी पहली सूचना मिलने के बाद प्लानिंग और दिसंबर में काम शुरू होने से लेकर इसके अस्तित्व में आने तक गहन निगरानी की। परिकल्पना तैयार करते समय उन्होंने हर उस पहलू पर फोकस किया जिसमें बनारस दिखे। आध्यात्मिकता से ओतप्रोत सांस्कृतिक बनारस का दर्शन कराने वाले सभी पहलुओं को उन्होंने करीने से टेंट सिटी का हिस्सा बनाया।

प्रावेग के जनरल मैनेजर कॉरपोरेट अजय पवार ने कहा, बनारस में टेंट सिटी विकसित करने में चुनौती यह थी कि इसे धार्मिक पर्यटन पर केंद्रित करना था। इसके लिए पारस भाई ने बहुत गहराई से बनारस के पूजा पाठ, गंगा दर्शन, संगीत, खानपान के साथ उनसे जुड़े प्रतीकों, दृश्यों और गतिविधियों को समाहित किया। खानपान को लोकल टच देने के लिए 20 बनारसी कुक की टीम बनाई।

टेंट सिटी का आकर्षण बुजुर्गों को भी खींच रहा है। सोमवार को रामनगर के सिंह परिवार के बुजर्ग दंपति अपने पोते यश के साथ टेंट सिटी पहुंचे। काशी के घाटों और अयोध्या के श्रीराम मंदिर पर केंद्रित सेल्फी प्वाइंट तक पहुंचने के बाद एसपी सिंह सेल्फी लेने से खुद को रोक नहीं सके। उनका पोता यश मचलते हुए नाव के कटआउट के पास पहुंच गया। दादा-पोते की मस्ती को दादी विमला देवी मोबाइल में कैद करती रहीं।

पढ़े UP Nikay chunav News यूपी निकाय चुनाव की लेटेस्ट न्यूज के अलावा UP Nagar Palika chunav और Nagar Nigam election News.