ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशलखनऊ जेल में बंद आईपीएस मणिलाल पाटीदार को गृह मंत्रालय ने किया बर्खास्त

लखनऊ जेल में बंद आईपीएस मणिलाल पाटीदार को गृह मंत्रालय ने किया बर्खास्त

लखनऊ जेल में बंद महोबा के पूर्व एसपी आईपीएस मणिलाल पाटीदार को गृह मंत्रालय ने भारतीय पुलिस सेवा से बर्खास्त कर दिया है। उत्तर प्रदेश सरकार की भेजी गई रिपोर्ट पर मंत्रालय ने ये कार्रवाई की है।

लखनऊ जेल में बंद आईपीएस मणिलाल पाटीदार को गृह मंत्रालय ने किया बर्खास्त
Dinesh Rathourलाइव हिंदुस्तान,लखनऊSat, 24 Jun 2023 04:46 PM
ऐप पर पढ़ें

लखनऊ जेल में बंद महोबा के पूर्व एसपी आईपीएस मणिलाल पाटीदार को गृह मंत्रालय ने भारतीय पुलिस सेवा से बर्खास्त कर दिया है। उत्तर प्रदेश सरकार की भेजी गई रिपोर्ट पर मंत्रालय ने ये कार्रवाई की है। इसके साथ ही पाटीदार का 2014 बैच के आईपीएस अफसरों की सिविल लिस्ट से भी नाम हटा दिया गया है। मणिलाल पाटीदार ने फिलहाल लखनऊ जेल में बंद हैं। उन पर बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिए गिट्टी ढो रहे ट्रकों से वसूली जैसे कई गंभीर आरोप लगे हैं। इसके बाद मणिलाल का नाम महोबा के व्यापारी इंद्रकांत त्रिपाठी की आत्महत्या के मामले में भी सामने आ चुका है। व्यापारी की आत्महत्या के बाद ही पाटीदार फरार हो गए थे। उनकी तलाश के लिए यूपी पुलिस ने कई प्रदेशों में डेरा भी डाला था लेकिन वह हाथ नहीं लगे थे। 

पिछले साल अक्टूबर में आईपीएस मणिलाल ने किया था सरेंडर

करीब डेढ़ साल बाद आईपीएस मणिलाल पाटीदार ने पिछले साल अक्टूबर में सरेंडर कर दिया था। इस दौरान मणिलाल पर एक लाख रुपये का इनाम भी घोषित किया गया था। मणिलाल ने लखनऊ के अपर जिला सत्र न्यायाधीश/ भष्टाचार निवारण अधिनियम लोकेश वरुण की अदालत में आत्मसमर्पण किया था। इसके बाद कोर्ट ने पाटीदार को 14 दिन की न्‍यायिक हिरासत में जेल भेजने का आदेश दिया था।

2020 में पाटीदार को किया गया था सस्पेंड

2014 बैच के आईपीएस अधिकारी पाटीदार को भ्रष्टाचार के गंभीर मामले में शासन ने नौ सितंबर 2020 को सस्‍पेंड कर दिया था। पाटीदार के खिलाफ सितंबर 2020 में महोबा में क्रशर कारोबारी इन्‍द्रकांत त्रिपाठी को आत्महत्या के लिए उकसाने समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ था। पुलिस के वसूली के खेल में क्रशर कारोबारी की जान गई थी। इसी मामले में पुलिस को उसकी तलाश थी। बतादें कि महोबा के क्रशर कारोबारी इन्‍द्रकांत त्रिपाठी को 8 सितंबर 2020 को संदिग्ध परिस्थितियों में गोली लग गई थी। इसके करीब 5 दिन बाद कानपुर के एक अस्पताल में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। इन्‍द्रकांत त्रिपाठी ने घटना के एक दिन पहले यानी 7 सितंबर 2020 को एक वीडियो जारी कर पाटीदार पर गंभीर आरोप लगाए थे। उन्‍होंने खुद की हत्या की आशंका भी जताई थी।

आईपीएस पर हैं भ्रष्टाचार के संगीन आरोप 

निलंबित आईपीएस मणिलाल पाटीदार पर आरोप है कि उन्‍होंने महोबा में एसपी रहते जमकर धनउगाही की। पाटीदार अपने कॅरियर की शुरुआत से ही बदनाम होने लगे थे। उन पर भ्रष्‍टाचार और वसूली के कई आरोप लगे लेकिन महोबा के क्रेशर कारोबारी इन्‍द्रकांत त्रिपाठी की मौत के बाद उनके बुरे दिन शुरू हो गए। आरोप है कि रिश्‍वत न देने पर मणिलाल ने इन्‍द्रकांत को जमकर प्रताड़ित किया। मणिलाल के इशारे पर पुलिस ने इन्‍द्रकांत का कारोबार बंद कराने की कोशिश की। उनके ठिकानों पर बेवजह छापामारी की गई। आरोप है कि इन सबसे इन्‍द्रकांत इतना परेशान हो गए कि उन्‍होंने खुद को गोली मारकर आत्‍महत्‍या कर ली। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें