DA Image
23 नवंबर, 2020|3:50|IST

अगली स्टोरी

हिन्दुस्तान मिशन शक्तिः खराब हालात से उबरीं उन्नाव की रश्मि महिलाओं को जीना सिखा रहीं

वशीरतगंज प्राइमरी स्कूल में रश्मि तिवारी वैसे से शिक्षिका हैं पर बालिका व महिलाओं के हित में इनके प्रयास इनको और खास बनाए हुए हैं। स्कूल में बच्चों को बेहतर शिक्षा देने में होनहार रश्मि साथ में गरीब दुखी महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने में अग्रणी योगदान दे रही हैं। गरीबी से परेशान हारी महिलाओं को प्रेरित कर उन्हें जीना व आत्मनिर्भर बनने की हिम्मत देती हैं। इनकी लगन और मेहनत की पूरे जिले में चर्चा रहती है। स्कूल में नियमित कक्षाएं चलाने के साथ वातावरण सुंदर बनाने में कुछ न कुछ अलग करने की कोशिश भी करती रहती हैं। बालिकाओं व उनकी माताओं को समाज में बेहतर ढंग से जीने का पाठ पढ़ाती है। उनकी इसी लगन पर उन्हें 2019-20 में राज्य शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित दिया गया।
रश्मि बताती है कि महिलाओं को वे स्कूल बुलाती है। उन्हें स्वावलंबित बनाने के लिए कढ़ाई-बुनाई, सिलाई आदि का प्रशिक्षण दिलाती हैं। समय के अनुरूप महिलाओं को रोजगार से जोड़ती हैं। बालिकाओं की पढ़ाई किन्हीं वजहों से न रुके, इसके लिए वह स्कूल में प्री प्राइमरी कार्नर चला रही हैं। बताया कि गांवों में छोटे भाई बहनों की देखरेख को घर में बड़ी बच्चियों को रोक लिया जाता है और पढ़ाई से वंचित कर दिया जाता है। ऐसी बच्चियों को वह भाई-बहनों को साथ में लाने की अनुमति देती हैं। जिनके खेलने कूदने की व्यवस्था भी करती हैं और उन्हें बोलना-पढ़ना भी सिखाती हैं। स्कूल टाइम के अलावा गांव में घूमकर बच्चियों व महिलाओं को सरकारी योजनाओं, उनके अधिकारों की सूझबूझ भी कराती हैं। रश्मि कहती है कि ऐसे काम से उन्हें संतुष्टि मिलती है। कोई महिला पूरी तरह से टूट चुकी हो और उनके थोड़े प्रयास से वह जीना सीख जाती है तो वाकई दिल को बहुत सुकून मिलता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hindustan Mission Shakti: Rashmi out of bad circumstances teach women how to live