अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हिन्दुस्तान एक्सक्लूसिवः आजादी की वर्षगांठ पर आजाद होगा पाकिस्तानी आतंकी !

15 अगस्त को गोरखपुर के चार बंदियों की रिहाई का प्रस्ताव शासन को भेजा गया। इनमें शामिल है पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के मुल्तान का रहने वाला आतंकी आदिल। सजा पूरी हो चुकी है।

independence day

पाकिस्तान भले ही हमारे 62 शूरवीरों को अपनी जेलों में लंबे समय से कैद किए हो पर इस बार जश्न-ए-आजादी पर गोरखपुर से एक पाकिस्तानी आतंकी को रिहा करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। अबकी 15 अगस्त को पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के मुलतान के रहने वाले आतंकी आदिल अंजुम की रिहाई हो सकती है। गोरखपुर जेल प्रशासन ने रिहाई के लिए जिन चार बंदियों के बारे में शासन को रिपोर्ट भेजी है, उनमें आदिल भी है। आदिल अपनी 10 साल की सजा पूरी कर चुका है। दो साल से जुर्माने की सजा काट रहा है। जुर्माना न जमा होने की सूरत में उसे दो साल की सजा और काटनी होगी या फिर सरकार उसे रिहा कर दे। 

15 अगस्त को कैदियों को रिहा करने की एक परम्परा रही है। इसमें बुजुर्ग कैदी सहित अन्य अच्छे चाल-चलन वाले कैदियों को रिहा करने के लिए जेल प्रशासन की तरफ से शासन को रिपोर्ट भेजी जाती है। इसी क्रम में इस बार गोरखपुर जेल प्रशासन ने जुर्माने की सजा काट रहे चार कैदियों की रिपोर्ट भेजी है। इनमें पाकिस्तानी आतंकी आदिल अंजुम के अलावा संतोष डोम, रामाज्ञा और हरिके तमंग का नाम शामिल है। अब इन पर फैसला शासन को लेना है। अगर आदिल रिहा होता है तो इसे पाकिस्तानी दूतावास को सौंपा जाएगा। 

मुल्तान का रहने वाला है आदिल अंजुम 
मुल्तान के समीजाबाद में 37-ए गली नम्बर दो का रहने वाला आदिल अंजुम 29 दिसम्बर 2006 से जेल में बंद है। लखनऊ और जयपुर (राजस्थान) के मामलों में कोर्ट ने उसे दस साल की सजा सुनाई थी। आदिल की सजा 2016 में पूरी हो गई है पर उसका जुर्माना नहीं जमा है। उस पर 34 हजार रुपये का जुर्माना लगा है। यह रकम न जमा करने की सूरत में आदिल को 2020 तक सजा काटनी है। 

परिवार से संपर्क के लिए गुहार
 आदिल ने घरवालों से सम्पर्क करने के लिए जेल प्रशासन से गुहार लगाई है। उसका कहना है कि उसका एक भाई दुबई में है। अगर उस तक संदेश पहुंच गया तो वह जुर्माना जमा कर देगा। जुर्माना न जमा करने की सूरत में आदिल को 2020 तक सजा काटनी होगी।

इन मुकदमों में आदिल को सजा

लखनऊ में दो केस
आदिल पर कैसरबाग, लखनऊ में दो मुकदमे दर्ज किए गए थे।  पहला, मुकदमा संख्या 324/2006 इसमें आदिल पर धारा 115, 120बी, 211, 221ए, 123, 420, 467, 468, 471आईपीसी, 3/4/9 शासकीय गुप्त अधिनियम व 14 विदेशी अधिनियम। दूसरा, मुकदमा संख्या 257/06 इसमें 425 आर्म्स एक्ट की धारा थी।

जयपुर में एक केस
आदिल पर राजस्थान में जयपुर के मानपुर थाने में मुकदमा संख्या 111/09 दर्ज हुआ था। इसमें धारा 224, 225, 353 और 393 के तहत कार्रवाई हुई थी।

इस मामले में गोरखपुर जेल के जेलर प्रेम सागर शुक्ला का कहना है कि 15 अगस्त को बंदियों की रिहाई के लिए शासन को रिपोर्ट भेजी जाती है। जुर्माने की सजा काट रहे चार बंदियों की रिपोर्ट भेजी गई है। इसमें आतंकी आदिल का नाम भी शामिल है। शासन के निर्देश के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

ये भी पढ़ेंः देश की सभी खबरों के लिए क्लिक करें

ये भी पढ़ेंः उत्तर प्रदेश की सभी खबरों के लिए क्लिक करें


 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Hindustan Exclusive: Pakistani terrorists may be released on Independence day from gorakhpur jail uttar pradesh