DA Image
2 जून, 2020|10:52|IST

अगली स्टोरी

हीमोग्लोबिन बढ़ाने वाली इंजेक्शन घटिया निकली, कंपनी तीन साल के लिए ब्लैक लिस्टेड 

hemoglobin enhancer injection for pregnant women

हीमोग्लोबिन की कमी से जूझ रही गर्भवती महिलाओं को चढ़ाया जाने वाली दवा घटिया निकली। जांच में आयरन सुक्रोज मानकों के अनुरूप नहीं मिली है। लिहाजा उसके इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई है। साथ ही सोलन की कंपनी को आयरन सुक्रोज दवा की आपूर्ति के लिए रोक दिया है। कंपनी की इस दवा को तीन साल के लिए काली सूची में डाल दिया है।

मुफ्त मिलता है इंजेक्शन
उप्र मेडिकल सप्लाई कारपोरेशन के जरिए सरकारी अस्पतालों में दवा की आपूर्ति हो रही है। जिन गर्भवती महिलाओं में हीमोग्लोबिन कम होता है। ऐसी महिलाओं को आयरन सुक्रोज दवा चढ़ाई जाती है। पांच व 20 एमएल का इंजेक्शन महिलाओं को चढ़ाया जाता है। कई बार कम हीमोग्लोबिन वाले दूसरे मरीजों को भी यह इंजेक्शन दिया जाता है। सरकारी अस्पतालों में यह इंजेक्शन मरीजों को मुफ्त मुहैया कराया जाता है।

तीन प्रयोगशाला से कराई गई जांच
कारपोरेशन ने मई 2018 में सोलन की कंपनी को दवा आपूर्ति की जिम्मेदारी दी। सरकारी अस्पतालों दवा की आपूर्ति हुई। दवा की गुणवत्ता परखने के लिए कारपोरेशन ने बैच नम्बर एएजी-9004 और एएजी 9006 की जांच कराई। प्रदेश की अलग-अलग तीन प्रयोगशाला से नमूनों की जांच कराई गई। तीनों प्रयोगशाला ने दवा को मानकों के अनुरूप नहीं माना। इसके बाद कारपोरेशन ने कंपनी को पत्र लिखकर दवा की गुणवत्ता के बारे में जानकारी दी।

प्रमुख सचिव को भेजी रिपोर्ट
दो मई 2020 को कंपनी ने कारपोरेशन को अपना जवाब भेजा। जिसमें कंपनी ने दावा किया है कि दवा आपूर्ति से पहले व आपूर्ति के बाद दवा की गुणवत्ता की जांच कराई। दवा मानकों के अनुसार थी। संभवता दवा के रख-रखाव में कोई गड़बड़ी होगी। 11 मई को कारपोरेशन ने दवा के रख-रखाव में गड़बड़ी की बात से इनकार किया है। साथ ही पूरी रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव, नेशनल हेल्थ मिशन के निदेशक, परिवार कल्याण विभाग के महानिदेशक को भेज दी है।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hemoglobin boosting injection substandard company blacklisted for three years