DA Image
23 अक्तूबर, 2020|12:31|IST

अगली स्टोरी

Hathras Gangrape case: मेडिकल रिपोर्ट में हाथरस की दलित युवती से गैंग रेप की पुष्टि नहीं, अब फॉरेंसिक रिपोर्ट का इंतजार

hathras gangrape victim funeral

हाथरस की दलित युवती से हैवानियत के बाद उसकी मौत से पूरे देश में आक्रोश है और विरोध प्रदर्शनों का दौर जारी है। इस बीच हाथरस जिले के एसपी विक्रांत वीर ने दावा किया कि युवती की मेडिकल रिपोर्ट में रेप की पुष्टि नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज, अलीगढ़ से मिली मेडिकल रिपोर्ट में जख्म की बात तो है, लेकिन सेक्शुअल इंटरकोर्स की पुष्टि नहीं हो पाई है। इसकी पुष्टि के लिए अब प्रशासन फॉरेंसिक रिपोर्ट का इंतजार कर रहा है। 

दो सप्ताह तक अलीगढ़ में ही जिंदगी और मौत के बीच जूझने के बाद युवती को 28 सितंबर को दिल्ली के सफदंरजंग अस्पताल ले जाया गया था, जहां अगले दिन उसकी मौत हो गई थी। 

 

दूसरी तरफ, जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज, जहां युवती का दो सप्ताह तक इलाज चला था, के प्रिंसिपल शाहिद अली सिद्दीकी ने कहा कि मुझे नहीं पता कि पीड़िता को सफदरजंग हॉस्पिटल में क्यों भर्ती कराया गया था, जबकि हमने उसे एम्स रेफर किया था। 

 

medical report of hathras gang rape victim girl

 

14 सितंबर को गांव चंदपा की युवती अपनी मां के साथ खेत पर गई थी और आरोप के मुताबिक सासनी निवासी एक युवक ने उस पर जानलेवा हमला किया था। युवती ने सीओ सादाबाद को दिए बयान में तीन और युवक के नाम बताए थे, जिसके बाद पुलिस ने केस में गैंग रेप की धारा बढ़ा दी थी। इस मामले में पुलिस चारों आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।

जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के ट्रॉमा सेंटर के सीएमओ डॉ एहतेशाम ने बताया कि पीड़िता को गर्दन के पास गहरी चोट थी और रीढ़ की हड्डी टूट चुकी थी, जिसकी वजह से दोनों पैरों ने काम करना बंद कर दिया था। गर्दन के पास की हड्डी टूटने की वजह से वह सांस नहीं के बराबर ले पा रही थी और उसकी गर्दन की नस भी टूट चुकी थी। बताया जा रहा है कि गले और रीढ़ की हड्डी टूटने की वजह से ही युवती की मौत हुई।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hathras gangrape case gang rape of Hathras Dalit girl in medical report not confirmed now waiting for forensic report