ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशज्ञानवापी की लड़ाई कोर्ट से थाने आई, मुस्लिम पक्ष ने हिन्दू पक्ष की वादी महिलाओं पर केस के लिए दी तहरीर

ज्ञानवापी की लड़ाई कोर्ट से थाने आई, मुस्लिम पक्ष ने हिन्दू पक्ष की वादी महिलाओं पर केस के लिए दी तहरीर

वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर से सटी ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर चल रही अदालती लड़ाई पुलिस थाने पहुंच गई है। शुक्रवार को मस्जिद के इमाम औऱ मुस्लिम पक्ष इंतेजामिया कमेटी के सचिव ने थाने में तहरीर दी।

ज्ञानवापी की लड़ाई कोर्ट से थाने आई, मुस्लिम पक्ष ने हिन्दू पक्ष की वादी महिलाओं पर केस के लिए दी तहरीर
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,वाराणसीFri, 16 Feb 2024 11:26 PM
ऐप पर पढ़ें

वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर से सटी ज्ञानवापी मस्जिद की लड़ाई कोर्ट से अब थाने पहुंच गई है। मुस्लिम पक्ष की ओर से हिन्दू पक्ष के खिलाफ एफआईआर के लिए चौक थाने में तहरीर दी गई है। ज्ञानवापी मस्जिद के इमाम और अंजुमन इंतेजामिया मसाजिद कमेटी के जनरल सेक्रेटरी मौलान अब्दुल बातिन नोमानी की तरफ से तहरीर दी गई है। बातिन ने तहरीर में जगतगुरु परमहंस आचार्य के साथ ही ज्ञानवापी मामले में वादी सीता साहू और मंजू व्यास समेत 20 अज्ञात लोगों पर मुसलमानों के लिए आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करने और हिन्दू मुस्लिम के बीच नफरत फैलाने का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज करने की मांग की है। 

बातिन ने अपनी तहरीर में आरोप लगाया है कि देश की एकता भंग करने और हिन्दू-मुस्लमानों के बीच नफरत फैलाने के उद्देश्य से तहखाने के सामने स्थित नंदी के पास खड़े होकर जगतगुरु परमहंस आचार्य के साथ ही ज्ञानवापी मस्जिद के मुकदमें की वादिनी सीता साहू और मंजू व्यास आदि ने नारेबाजी की। इसका वीडियो भी वायरल है।

वीडियो में परमहंस आचार्य ज्ञानवापी मस्जिद के वुजूखाने और मुसलमानों के बारे में गलत बाते कह रहे हैं। वीडियो में मुस्लमानों के लिए आपत्तिजनक भाषा और अपशब्दों का इस्तेमाल किया जा रहा है। ज्ञानवापी मस्जिद कहने वालों की खाल खीचकर भूसा भरने की धमकी भी जा रही है। यही नहीं दिल्ली में नुपुर शर्मा द्वारा दिए गए आपत्तिजनक बयान को सही ठहराया जा रहा है। 

बातिन ने तहरीर में आरोप लगाया कि जगतगुरु परमहंस आचार्य ने वीडियो में जो भी विवादित बयान दिया है उसकी षडयंत्रकारी ज्ञानवापी केस की वादिनी सीता साहू और मंजू व्यास हैं। जिला न्यायालय में ज्ञानवापी मस्जिद के सम्बन्ध में मुकदमा विचाराधीन होने के बावजूद सीता साहू और मंजू व्यास परमहंस आचार्य से विवादित बयान दिलवाकर शहर के माहौल को बिगाड़ने व दंगा कराने के लिए लोगों को उकसाने व राष्ट्रीय एकता अखण्डता को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रही हैं। 

बातिन ने आरोप लगाया कि विवादित वीडियो का जिला प्रशासन को भली-भांति जानकारी होने के बावजूद अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। इसके कारण इनके हौसले और गंदे विचार रखने वाले अपराधियो का हौसला बढ़ा हुआ है। इससे समाज में नफरत फैल रही है और मुस्लिम वर्ग में काफी दुख व गुस्सा है। बातिन ने एफआईआर के साथ वीडियो और उससे ली गई तस्वीरें भी तहरीर के साथ जमा की हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें