ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशज्ञानवापी की जगह कभी हिन्दू मंदिर था, दीवारों और खंभों से मिले सबूत, ASI रिपोर्ट में दावा

ज्ञानवापी की जगह कभी हिन्दू मंदिर था, दीवारों और खंभों से मिले सबूत, ASI रिपोर्ट में दावा

वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद की एएसआई सर्वे रिपोर्ट सार्वजनिक हो गई है। 839 पेज की रिपोर्ट में ज्ञानवापी परिसर के हर कोने का ब्योरा है। नौ लोगों ने कॉपी का आवेदन किया था। 5 लोगों को कॉपियां दी गई हैं।

ज्ञानवापी की जगह कभी हिन्दू मंदिर था, दीवारों और खंभों से मिले सबूत, ASI रिपोर्ट में दावा
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,वाराणसीThu, 25 Jan 2024 11:37 PM
ऐप पर पढ़ें

वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर से सटी ज्ञानवापी मस्जिद की एएसआई रिपोर्ट सार्वजनिक हो गई है। हिन्दू और मुस्लिम पक्षों के साथ ही कुल नौ लोगों ने रिपोर्ट की कॉपी के लिए आवेदन किया है। पांच लोगों को एक-एक कॉपी दी गई है। हिन्दू पक्ष के अधिवक्ता विष्णु जैन ने दावा किया कि रिपोर्ट में कहा गया है कि ज्ञानवापी की पश्चिमी दीवार हिन्दूू मंदिर का हिस्सा है। अंदर के पिलर भी हिन्दू मंदिर के खंभे थे जिन्हें बाद में प्लास्टर आदि से थोड़ा बदला गया है। 839 पेज की रिपोर्ट में वुजूखाना को छोड़कर हर कोने का एक-एक ब्योरा है। ज्ञानवापी की दीवारों से लेकर शिखर तक का ब्योरा एएसआई ने इसमें लिखा है। ज्ञानवापी के अंदर एएसआई को क्या-क्या मिला और क्या-क्या दिखा इसके बारे में विस्तार से बताया गया है। जो वस्तुुएं यहां से मिलीं थी उसे पहले ही प्रशासन की कस्टडी में दिया जा चुका है।

जर्नादन, रुद्र और उमेश्वर... ज्ञानवापी की दीवारों पर मिले शिव के नाम के तीन नाम

विष्णु जैन ने दावा  किया कि एएसआई की रिपोर्ट के अनुसार वर्तमान संरचना के निर्माण से पहले यहां एक बड़ा हिंदू मंदिर मौजूद था। इसके 32 सबूत मिले हैं। रिपोर्ट कहती है कि पहले से यहां पर एक मंदिर की संरचना मौजूद थी। इस मंदिर में एक बड़ा केंद्रीय कक्ष और उत्तर की ओर एक छोटा कक्ष था। जो पहले मंदिर था उसे  17वीं शताब्दी में तोड़ा गया है। बाद में उसके ही हिस्से को मस्जिद में समाहित किया गया है। मौजूदा ढांचे में इस्तेमाल किए गए खंभों और प्लास्टर का अध्ययन किया गया। इन स्तंभों के हिस्सों का उपयोग बिना ज्यादा बदलाव के इस्तेमाल किया गया है।

विष्णु जैन ने कहा कि एएसआई ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि 1669 में मंदिर को तोड़कर मस्जिद बनाया गया है। वर्तमान ढांचे की मंदिर के ही अवशेष पर बनाया गया है। गुंबद साढ़े तीन सौ साल ही पुराना है। कई स्थानों पर मंदिर के अवशेष मिले हैं। कई पीलर पर देवी देवताओं के चित्र मिले हैं। देवनागरी और संस्कृत में कई श्लोक लिखे हैं। नागर शैली के कई ऐसे निशान मिले हैं जो बताते हैं कि एक हजार साल पुराने हैं। जबकि मस्जिद केवल साढ़े तीन सौ साल पुरानी है। विष्णु जैन ने कहा कि अब उनकी कोशिश होगी कि वुजूखाने का भी सर्वे कराया जाए। इसके लिए अदालत में अपील की जाएगी।

ज्ञानवापी के वुजूखाने को छोड़कर पूरे परिसर का लगभग तीन महीने तक एएसआई ने सर्वे किया था। 18 दिसंबर को रिपोर्ट जिला अदालत में दाखिल की गई थी। उसी दिन हिन्दू पक्ष ने रिपोर्ट की कॉपी मांगी थी लेकिन मुस्लिम पक्ष की आपत्ति और एएसआई के चार हफ्ते के बाद ही रिपोर्ट को सार्वजनिक करने की अपील के कारण मामला टल गया था। बुधवार को दोबारा सुनवाई हुई और अदालत ने रिपोर्ट की कॉपी सभी पक्षों को देने का आदेश दे दिया। 

इसके बाद गुरुवार को दोनों पक्षों के साथ ही नौ लोगों ने रिपोर्ट की कॉपी के लिए आवेदन किया। इनमें हिन्दू पक्ष की पांच वादी महिलाएं, मुस्लिम पक्ष यानी प्रतिवादी अंजुमन इंतेजामिया, सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के साथ ही प्रदेश सरकार और डीएम की ओर से कॉपी के लिए आवेदन किया गया। सभी पक्ष और अधिवक्ता रिपोर्ट के लिए जिला जज की कोर्ट रूम में सुबह ही पहुंच गए थे। 

फिलहाल रिपोर्ट की पांच कॉपी कराई गई और हिन्दू पक्ष की वादी राखी सिंह की ओर से अधिवक्ता अनुपम दिवेदी, अन्य चार महिला वादियों की ओर से अधिवक्ता विष्णु जैन, मुस्लिम पक्ष के अधिवक्ता अख्लाख अहमद के अलावा प्रशासन और शासन के लिए दो प्रति डीजीसी सिविल महेंद्र पांडे को दी गई। माना जा रहा है कि कुछ देर में हिन्दू पक्ष रिपोर्ट पर अपनी प्रतिक्रिया भी रखेगा। इसके बाद ही पता चल सकेगा कि रिपोर्ट में असल में क्या-क्या बताया गया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें