ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशफिर चर्चा में आए सहारनपुर के गुप्‍ता बंधु, ब्रिटेन और अमेरिका में आज भी बैन है एंट्री; पढ़‍िए पूरी कहानी

फिर चर्चा में आए सहारनपुर के गुप्‍ता बंधु, ब्रिटेन और अमेरिका में आज भी बैन है एंट्री; पढ़‍िए पूरी कहानी

सहारनपुर से दक्षिण अफ्रीका जाकर अरबों का कारोबार खड़ा करने वाले गुप्ता बंधु फिर चर्चा में हैं। दुबई में गुप्ता ब्रदर्स के 2 भाइयों की अरेस्‍ट के बाद अजय गुप्ता और उनके बहनोई की गिरफ्तारी इसकी वजह है।

फिर चर्चा में आए सहारनपुर के गुप्‍ता बंधु, ब्रिटेन और अमेरिका में आज भी बैन है एंट्री; पढ़‍िए पूरी कहानी
Ajay Singhप्रणव अग्रवाल ,सहारनपुरSat, 25 May 2024 05:54 AM
ऐप पर पढ़ें

Gupta brothers of Saharanpur: यूपी के सहारनपुर से दक्षिण अफ्रीका जाकर अरबों का कारोबार खड़ा करने वाले गुप्ता बंधु एक बार फिर चर्चा में आ गए हैं। पिछले दिनों दुबई में गुप्ता ब्रदर्स के दो भाइयों की गिरफ्तारी के बाद इस बार अजय गुप्ता और उनके बहनोई की गिरफ्तारी चर्चा का कारण बनी है। एक समय था जब गुप्ता बंधुओं की गिनती दक्षिण अफ्रीका के सबसे अमीर कारोबारियों में हुआ करती थी, लेकिन बीते कुछ साल से इनके सितारे गर्दिश में चल रहे हैं। गुप्ता बंधु की ब्रिटेन और अमेरिका में एंट्री आज भी प्रतिबंध है। दक्षिण अफ्रीका के भ्रष्टाचार को देखते हुए गुप्ता बंधुओं पर यह प्रतिबंध लगाया गया था।

सहारनपुर के एक सामान्य परिवार से निकलकर दक्षिण अफ्रीका में करोड़ों का कारोबार बनाने और फिर घोटाले के आरोपों में देश छोड़ने के बाद जेल जाने वाले गुप्ता बंधुओं की कहानी बहुत फिल्मी और लंबी रही है। गुप्ता बंधुओं की कहानी की शुरुआत 1993 में हुई, तब तीनों भाई अजय, अतुल और राजेश दक्षिण अफ्रीका पहुंचे और धीरे-धीरे अपना कारोबार फैलाते हुए देश के सबसे अमीर कारोबारी बन गए।

कुछ साल पहले गुप्ता बंधुओं पर आरोप लगा कि उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा के साथ मिलकर करोड़ों का घोटाला किया। मामले में जैकब जुमा पर भ्रष्टाचार का केस दर्ज हुआ था, जिसके चलते बाद में उन्हें इस्तीफा देना पड़ा। गुप्ता बंधुओं का जैकब जुमा के साथ बहुत नजदीकी संबंध रहा। राष्ट्रपति जैकब जुमा पर आरोप लगा था कि उन्होंने गुप्ता परिवार को गैरवाजिब तरीकों से फायदा पहुंचाया। आरोप था कि गुप्ता बंधुओं ने जैकब जुमा से अपने संबंधों के आधार पर दक्षिण अफ्रीका में जमकर धांधली और घोटाले किए। जिसके चलते अजय के भाई अतुल और राजेश गुप्ता को गिरफ्तार भी किया गया था। 

पिता सहारनपुर में चलाया करते थे राशन की दुकान 
गुप्ता बंधुओं के पिता शिवकुमार गुप्ता सहारनपुर के रानीबाजार स्थित रायवाला मार्केट में कभी राशन की दुकान चलाया करते थे। इन तीनों भाइयों का बचपन यहीं बीता। शुरुआती पढ़ाई के बाद 1985 में पिता शिवकुमार गुप्ता ने बेटे अतुल गुप्ता को पढ़ने के लिए दिल्ली भेजा। यहां अतुल ने पढ़ाई के दौरान होटल हयात में नौकरी की। फिर दक्षिण अफ्रीका चले गए। वहां पहुंचकर उन्हें लगा कि यहां बिजनेस का अच्छा स्कोप है। इसके बाद उन्होने अपने अन्य दोनों भाइयों को भी अफ्रीका बुला लिया।

1993 में सहारा कंप्यूटर्स नामक कंपनी से की शुरुआत 
1993 में अतुल ने दक्षिण अफ्रीका में सहारा कंप्यूटर्स की शुरुआत की। धीरे-धीरे इनका कारोबार फैला और पूरे देश में इसकी ब्रांच खुली। राजनीतिक संपर्क के दम पर इन्होंने कोल, गोल्ड माइनिंग के बाद मीडिया कंपनी भी खोली। बाद में तत्कालीन राष्ट्रपति जैकब जुमा के सहारे यह आगे बढ़ते चले गये। 

2016 में दक्षिण अफ्रीका के सबसे अमीर बने अतुल
1994 में पिता शिवकुमार गुप्ता के निधन के बाद गुप्ता बंधुओं ने पत्नी और बच्चों के साथ दक्षिण अफ्रीका की नागरिकता हासिल कर ली। फिर वहीं पूरे परिवार के साथ रहकर बिजनेस को आगे बढ़ाने लगे। 2016 में यह खबर सामने आई कि अतुल गुप्ता दक्षिण अफ्रीका के सबसे अमीर अश्वेत बन गए हैं। तब उनकी संपत्ति करीब 55 अरब रुपये बताई गई। हालांकि यह सिर्फ एक भाई की दौलत थी, पूरे परिवार का दौलत जोड़ा जाए तो वह इससे कई गुना अधिक थी। 

बेटे-बेटी की शादी पर भी हुआ था विवाद
2013 में गुप्ता परिवार में हुई एक शादी ने तब हलचल मचा दी थी, जब उनकी बेटी की शादी के लिए मेहमानों को ले जा रहे विमान को प्रिटोरिया के बाहर स्थित वाटरक्लूफ एयर फोर्स बेस नामक एक सैन्य हवाई अड्डे पर उतरने की अनुमति दी गई थी, जो केवल राष्ट्राध्यक्ष के लिए आरक्षित था। उसके बाद 2017 में अजय गुप्ता के बेटे की शादी उत्तराखंड के औली में हुई थी। उसको लेकर भी विवाद हुआ। उस समय पर्यावरण प्रेमियों ने पर्यटक स्थल पर नियम विरुद्ध समारोह के विरोध में आवाज बुलंद की। 

अजय गुप्ता की पहली बार हुई गिरफ्तारी 
कारोबारी अजय गुप्ता की गिरफ्तारी का यह पहला मामला है। इससे पहले विवाद में इनके दोनों भाई अतुल गुप्त और राजेश गुप्ता की एक बार गिरफ्तारी यूएई में हो चुकी है। 

अक्षरधाम की तर्ज पर 300 करोड़ से बनवा रहे मंदिर 
गुप्ता बंधु सहारनपुर में दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर की तर्ज पर शिवधाम मंदिर बना रहे हैं, जिसकी लागत लगभग 300 करोड़ बताई जा रही है। जुलाई, 2014 से मंदिर निर्माण का कार्य जारी है, इसके लिए राजस्थान से पत्थर मंगवाए गये थे। लगभग एक दशक से ज्यादा मंदिर को बनते हुए हो चुके हैं। मंदिर में एक-एक पत्थर बारीकी से तराश कर लगाया गया है। मंदिर 8 एकड़ के विशाल क्षेत्रफल में बाबा लालदास बाड़ा परिसर में बनवाया जा रहा है।  

...जब गुप्ता बंधुओं के बंगले को देख हैरत में पड़े आयकर के 150 अधिकारी 
सहारनपुर का गुप्ता बंधु परिवार शौक में भी सबसे आगे रहा है। पिछले दिनों आयकर विभाग की टीम ने इनके देहरादून और सहारनपुर आवास पर छापेमारी की तो 15 टीमों के 150 अधिकारी हैरत में पड़ गए। आवास में अंतर्राष्ट्रीय स्वीमिंग पूल, अंतर्राष्ट्रीय रसोई के अन्य कीमती सामान मिला। जो जूते चप्पल रखे थे, उनकी कीमत भी 50-50 हजार रुपये प्रति जोड़ी से ज्यादा सामने आई थी। बंगले में जो आलीशान सोफा रखा था, उसकी कीमत करीब एक करोड़ रुपये आंकी गई थी।  50-50 लाख रुपये कीमत के कई झूमर लगे मिले थे। विभाग की टीम ने मौके से 3.25 करोड़ रुपये की ज्वैलरी भी जब्त की थी।