ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशअमरोहा में निहंगों के जत्थे ने गुरुद्वारे पर फहरा रहे राष्ट्रीय ध्वज को उतरवाया, सेवक समेत चार पर केस

अमरोहा में निहंगों के जत्थे ने गुरुद्वारे पर फहरा रहे राष्ट्रीय ध्वज को उतरवाया, सेवक समेत चार पर केस

पंजाब से पहुंचे निहंगों के एक जत्थे ने गुरुद्वारे की छत पर फहरा रहे राष्ट्रीय ध्वज को जबरन उतरवा दिया। चेतावनी भी दी कि तिरंगा लगाना है तो अपने घरों पर लगाएं, गुरुघर में नहीं।

अमरोहा में निहंगों के जत्थे ने गुरुद्वारे पर फहरा रहे राष्ट्रीय ध्वज को उतरवाया, सेवक समेत चार पर केस
Dinesh Rathourसंवाददाता,अमरोहा।Mon, 26 Sep 2022 09:22 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

पंजाब से पहुंचे निहंगों के एक जत्थे ने गुरुद्वारे की छत पर फहरा रहे राष्ट्रीय ध्वज को जबरन उतरवा दिया। चेतावनी भी दी कि तिरंगा लगाना है तो अपने घरों पर लगाएं, गुरुघर में नहीं। आरोपियों ने करीब 20 दिन पुराने इस घटनाक्रम का वीडियो दो दिन पूर्व पंजाब में सोशल मीडिया पर भी वायरल कर दिया। जानकारी स्थानीय पुलिस अफसरों को होने के बाद मामले में गुरुघर के ग्रंथी समेत चार अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।

रजबपुर थाना क्षेत्र के गांव सूदनपुर में गुरुद्वारा है। स्वतंत्रता दिवस पर हर घर तिरंगा अभियान के तहत गुरुद्वारा पर भी राष्ट्रीय ध्वज लगाया गया था। बताया जाता है कि राष्ट्रीय ध्वज की ऊंचाई गुरुद्वारा परिसर में लगे निशान साहिब से कुछ अधिक थी। वहीं करीब 20 दिन पूर्व इसकी जानकारी पर पंजाब से एक निहंग जत्था गुरुद्वारा पहुंचा। जत्थे में शामिल चार निहंगों ने इस बावत गुरुद्वारा के ग्रंथी से पूछताछ की। गुरुघर में राष्ट्रीय ध्वज को लगाने पर विरोध जताया। राष्ट्रीय ध्वज को उतारते हुए दोबारा नहीं लगाए जाने की चेतावनी भी दी। पूरे घटनाक्रम का वीडियो भी आरोपियों ने बना लिया। 

उधर, हथियारो से लैस निहंगों के आगे डरे सहमे ग्रंथी कोई विरोध नहीं जता सके। वहीं दो दिन पूर्व आरोपियों ने पंजाब में इस पूरे घटनाक्रम से जुड़े वीडियो को वायरल कर दिया। जानकारी स्थानीय पुलिस-प्रशासन को मिली तो हड़कंप मच गया। आनन-फानन रजबपुर पुलिस ने थाने में तैनात दारोगा रवि कुमार की तहरीर पर गुरुद्वारे के ग्रंथी नेपाल सिंह और चार अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की। एसओ रमेश सहरावत ने मामले में जांच कर अग्रिम कार्रवाई करने की बात कही।

हथियारों से लैस थे निहंग, नहीं जता सका विरोध : ग्रंथी 

गुरुद्वारा से राष्ट्रीय ध्वज को उतारे जाने का मामला जैसे ही सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वैसे ही हर तरफ हड़कंप मच गया। मामले में अपने खिलाफ की गई कार्रवाई के बाद खुद गुरुद्वारा के ग्रंथी सामने आए और अपना पक्ष रखा। कहा कि उन्हें राष्ट्र और राष्ट्रीय ध्वज से कोई आपत्ति नहीं है। बताया कि राष्ट्र ध्वज के सम्मान और राष्ट्र प्रेम की भावना को बलवती बनाने के उद्देश्य से ही गुरुद्वारा पर राष्ट्रीय ध्वज लगाया गया था। कहा कि हथियारों से लैस निहंगों ने बल पूर्वक उन्हें धमकाते हुए राष्ट्रीय ध्वज को उतरवाया, ऐसे में वह कोई विरोध नहीं जता सके। कहा कि माहौल खराब न हो इसके चलते पुलिस तथा अन्य लोगों को भी सूचना नहीं दी थी। अब उन्होंने भी आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किए जाने की वकालत की है।

epaper