ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशजीबीसी 4.0: अयोध्या-मथुरा-काशी में 40 हजार करोड़ का निवेश, इन धार्मिक स्थलों को भी फायदा

जीबीसी 4.0: अयोध्या-मथुरा-काशी में 40 हजार करोड़ का निवेश, इन धार्मिक स्थलों को भी फायदा

ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी, जीबीसी 4.0 के जरिए अयोध्या-मथुरा और काशी को 40 हजार करोड़ का निवेश मिलेगा। यूपी के प्रमुख आठ धार्मिक स्थलों में 80 हजार करोड़ की निवेश परियोजनाओं की भी शुरुआत होगा।

जीबीसी 4.0: अयोध्या-मथुरा-काशी में 40 हजार करोड़ का निवेश, इन धार्मिक स्थलों को भी फायदा
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,लखनऊMon, 19 Feb 2024 08:56 AM
ऐप पर पढ़ें

सोमवार को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में होने वाली जीबीसी 4.0 के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथों अयोध्या, मथुरा व काशी पर करीब 40 हजार करोड़ रुपये की निवेश परियोजनाओं का शुभारंभ होगा। इन तीनों धार्मिक स्थलों का विकास मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्राथमिकताओं में है और ग्राउण्ड ब्रेकिंग सेरेमनी के जरिए यह मूर्त रूप लेने जा रहा है। इसके अतिरिक्त प्रदेश के पांच अन्य धार्मिक स्थलों को मिला कर कुल 86 हजार करोड़ रुपये की निवेश परियोजनाएं सोमवार को आकार लेने जा रही हैं। 

भगवान श्रीकृष्ण की जन्मस्थली मथुरा में जीबीसी के माध्यम से 13486.63 करोड़ रुपये की कई परियोजनाओं का शुभारंभ सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया जाएगा। इन परियोजनाओं की शुरुआत के साथ ही यहां बड़े पैमाने पर रोजगार का भी सृजन संभव हो सकेगा। मथुरा को 15000 करोड़ रुपये का लक्ष्य दिया गया था, जिसके सापेक्ष मथुरा 89.91 प्रतिशत लक्ष्य हासिल करने में सफल रहा। इसी तरह भगवान राम की जन्मस्थली अयोध्याधाम में भी 10 हजार 155.79 करोड़ रुपये की निवेश परियोजनाएं धरातल पर उतरेंगी। 

22 जनवरी को ही अयोध्याधाम में प्रभु श्रीरामलला विग्रह के उनके भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम संपन्न हुआ है। प्राण प्रतिष्ठा के बाद यहां उमड़ रही भक्तों की भीड़ को देखते हुए आने वाले दिनों में यहां और बड़ी संख्या में निवेश परियोजनाओं की शुरुआत होना तय है। भगवान शिव की नगरी वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र भी है। यहां भी 15,313.81 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का शुभारंभ होगा। कुल 124 निवेशक यहां अपने उद्यम स्थापित करेंगे, जिससे 43 हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिलेंगे। 

कल्कि धाम का शिलान्यास करेंगे पीएम मोदी, आज सपा के गढ़ संभल में धार्मिक मंच से साधेंगे निशाना

इन धार्मिक स्थलों पर भी होगी निवेश परियोजनाओं की शुरुआत 
इसके अतिरिक्त ऋषिमुनियों की तपस्थली चित्रकूट,भगवान गौतम बुद्ध के महापरिनिर्वाण स्थली कुशीनगर, तीर्थराज प्रयागराज, नैमिषारण्य तीर्थ के लिए प्रसिद्ध सीतापुर और देवी उपासना की स्थली विंध्याचल की भूमि मीरजापुर को मिलाकर कुल 8 धार्मिक स्थलों में 86 हजार करोड़ की परियोजनाएं मूर्त रूप लेंगी।

कुशीनगर में 1152.38 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का शुभारंभ होगा। कुशीनगर को 1800 करोड़ का लक्ष्य दिया गया था। वहीं संगमनगरी प्रयागराज में 9619.9 करोड़ रुपये की निवेश परियोजनाओं का शुभारंभ होगा। अगले वर्ष 2025 महाकुंभ को देखते हुए इन निवेश परियोजनाओं का शुभारंभ महत्वपूर्ण होगा।

चित्रकूट में भी 7047.37 करोड़ रुपये की परियोजनाएं मूर्त रूप लेने जा रही हैं, जबकि नैमिषारण्य तीर्थ क्षेत्र के लिए सीतापुर भी 21,801.8 करोड़ की निवेश परियोजनाओं को धरातल पर उतारने जा रहा है। यह क्षेत्र सीएम योगी की प्राथमिकताओं में शीर्ष पर है, इसलिए धार्मिक स्थलों में यहां सर्वाधिक निवेश परियोजनाएं मूर्त रूप लेने जा रही हैं।

मां विंध्यवासिनी धाम के लिए प्रसिद्ध मीरजापुर जनपद में भी 7358 करोड़ रुपये का निवेश धरातल पर उतरेगा। मीरजापुर को  6500 करोड़ का लक्ष्य मिला था,जिसे 113.21 प्रतिशत तक प्राप्त कर लिया गया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें