ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशबुजुर्ग के अंतिम संस्कार से पहले आपस में भिड़े दो पोते, चिता से शव को उठा ले गई पुलिस

बुजुर्ग के अंतिम संस्कार से पहले आपस में भिड़े दो पोते, चिता से शव को उठा ले गई पुलिस

यूपी के आगरा में एक बुजुर्ग की मौत के बाद उसका अंतिम संस्कार की तैयारी की गई। बुजुर्ग का शव चिता पर था, इसी दौरान पुलिस पहुंच गई और शव को चिता से उठा लाई। दाह संस्कार में आए लोगों में हड़कंप मच गया।

बुजुर्ग के अंतिम संस्कार से पहले आपस में भिड़े दो पोते, चिता से शव को उठा ले गई पुलिस
Dinesh Rathourहिन्दुस्तान,आगराSun, 26 May 2024 05:30 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के आगरा में एक बुजुर्ग की मौत के बाद उसका अंतिम संस्कार की तैयारी की गई। बुजुर्ग का शव चिता पर था, इसी दौरान पुलिस पहुंच गई और शव को चिता से उठा लाई। यह देखकर दाह संस्कार में आए लोगों में हड़कंप मच गया। वहीं दो युवक बुजुर्ग के अंतिम संस्कार को लेकर आपस में भिड़ गए। एक-दूसरे पर गंभीर आरोप लगाने लगे। दरअसल थाना मलपुरा क्षेत्र के गांव सिरौली में बुजुर्ग के दाह संस्कार को लेकर उनके दो पोतों (बेटे के बेटे) के बीच विवाद हो गया था। बुजुर्ग की मौत उसकी एक बेटी के घर में हुई थी। बुजुर्ग की मौत के बाद उसकी बेटी और नाती भी अंतिम संस्कार में पहुंचा था। बाबा के अंतिम संस्कार की तैयारी चल ही रही थी कि दो पोते भिड़ गए और हंगामा कर दिया। एक पोते ने पुलिस तक बुला ली और शव का पोस्टमार्टम के लिए अड़ गया। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराया, लेकिन रिपोर्ट में मौत स्वाभाविक होना पाया गया। इसके बाद दोनों पोते के हाथों बुजुर्ग को मुखाग्नि दिलाई गई।

गांव सिरौली के रहने वाले 87 वर्षीय शिवराज सिंह कृषि विभाग से हेड क्लर्क पद से रिटायर हुए थे। उनके दो बेटे आगरा में रहते हैं। शिवराज सिंह की मृत्यु मथुरा में उनकी बेटी डॅाली उर्फ बृजबाला के यहां हुई। पिता के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए उनकी बेटी बृजबाला भी पहुंची थी। बुजुर्ग शिवराज सिंह का अंतिम संस्कार उनके गांव सिरौली में किया जा रहा था। बाबा की मौत की खबर मिलने के बाद उसका एक पोता युवराज सिंह भी अपने पुश्तैनी गांव पहुंचा था। बुजुर्ग के शव को चिता पर लिटाया जा चुका था। इसी दौरान शिवराज सिंह का दूसरा पोता आर्यन भी मौके पर पहुंचा। आर्यन ने शिवराज सिंह की हत्या का आशंका जताई और हंगामा शुरू कर दिया। आर्यन ने पुलिस को फोन करके बुला लिया। थाना मलपुरा पुलिस ने आर्यन की शिकायत पर शव को चिता से उठाया और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में शिवराज की मौत का कारण स्वाभाविक निकला।