DA Image
Saturday, November 27, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशधान खरीद को लेकर यूपी सरकार का नया आदेश, किसानों को करना होगा यह काम 

धान खरीद को लेकर यूपी सरकार का नया आदेश, किसानों को करना होगा यह काम 

लखनऊ। विशेष संवाददाताDinesh Rathour
Fri, 17 Sep 2021 07:38 PM
धान खरीद को लेकर यूपी सरकार का नया आदेश, किसानों को करना होगा यह काम 

यूपी सरकार ने इस वर्ष 70 लाख मीट्रिक टन धान क्रय करने का लक्ष्य तय किया है। पिछले वर्ष सरकार ने 55 लाख मीट्रिक टन का लक्ष्य रखा था लेकिन सरकार ने लक्ष्य से ज्यादा 60.99 मीट्रिक टन धान खरीदा था। इस वर्ष कॉमन श्रेणी के धान का 1940 रुपये प्रति कुंतल व ग्रेड ए के धान का मूल्य 1960 रुपये प्रति कुन्तल तय किया गया है। राज्य सरकार ने धान खरीद नीति 2021-22 जारी कर दी है। यह जानकारी प्रदेश की खाद्य व रसद विभाग की प्रमुख सचिव वीना कुमारी ने दी है। 

इस वर्ष 4000 क्रय केन्द्रों की स्थापना की जाएगी और रिमोट सेन्सिंग एप्लीकेशन सेन्टर के माध्यम से इन क्रेन्दों की जियो टैगिंग की जायेगी। धान खरीद एक अक्टूबर से शुरू होनी है। किसानों को ऑनलाइन टोकन लेना होगा। उन्होंने बताया कि सम्भाग लखनऊ के हरदोई, लखीमपुर, बरेलीसम्भाग के मुरादाबाद, मेरठ, सहारनपुर, आगरा, अलीगढ़ और झांसी में धान एक अक्टूबर से 31 जनवरी 2022 तक खरीदा जाएगा। वहीं लखनऊ सम्भाग के  लखनऊ, सीतापुर, रायबरेली, उन्नाव व चित्रकूट, कानपुर, अयोध्या, देवीपाटन, बस्ती, गोरखपुर, आजमगढ़, वाराणसी, मिर्जापुर व प्रयागराज मण्डलों में एक नवम्बर से 28 फरवरी, 2022 तक धान की खरीद की जाएगी।

इस बार स्थायी धान क्रय केन्द्र/स्थल बनाए जाने पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। इसके लिए खाद्य विभाग, पीसीएफ व भारतीय खाद्य निगम के केन्द्र एक निश्चित स्थान पर ही खोले जाएंगे। सभी एजेन्सियों के क्रय केन्द्रों का नाम व पता, केन्द्र की लोकेशन, केन्द्र प्रभारी का नाम व मोबाइल नम्बर इत्यादि विवरण जिले की वेबसाइट पर उपलब्ध कराया जाएगा और इसकी सूचना एसएमएस के माध्यम से किसानों को पंजीकरण के समय ही उपलब्ध करायी जाएगी। प्रमुख सचिव ने बताया कि क्रय केन्द्र ऐसे स्थानों पर बनेंगे, जहां धान की अच्छी आवक होती है। किसानों को अपना धान बेचने के लिए अधिक दूरी न तय करनी पड़े। धान खरीद से सम्बन्धित शिकायतें/सुझाव का पंजीकरण टोल फ्री नंबर-18001800150 पर दर्ज करायी जा सकेंगी।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें