DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › गोरखपुर : चितल के हमले से 24 घंटे में तीन जू-कीपर घायल
उत्तर प्रदेश

गोरखपुर : चितल के हमले से 24 घंटे में तीन जू-कीपर घायल

मुख्य संवाददाता, गोरखपुरPublished By: Shivendra Singh
Mon, 27 Sep 2021 05:51 PM
गोरखपुर : चितल के हमले से 24 घंटे में तीन जू-कीपर घायल

गोरखपुर के शहीद अशफाक उल्लाह खॉ प्राणी उद्यान में बीते 24 घंटे में मेल स्पॉटेड डियर (चितल) के हमले में 03 जू-कीपर चोटिल हो गए। उन्हें प्राथमिक उपचार दिया गया है। दूसरी ओर हमलावर मेल स्पॉटेड डियर को उनके बाड़ा के साथ निर्मित कराल में अलग थलग रखा गया है। दूसरे मेल स्पॉटेड डियर को कराल में डालने की कोशिश की जा रही है। पिछले दिनों स्पॉटेड डियर के हमले में एक मादा स्पॉटेड डियर की उपचार के दौरान मौत भी हो गई थी।

रविवार की शाम 5 बजे प्राणी उद्यान बंद हो गया। सभी पयर्टक बाहर निकल गए तो 5.30 बजे के हर दिन की तरह स्पॉटेड डियर की देखभाल करने वाला मुख्य जू-कीपर शाहरूक हाथ में डंडा लेकर सावधानी के साथ बाड़ा में प्रवेश किया। उसे बाड़ा में पयर्टकों द्वारा कुछ अवांछनीय चीजे तो नहीं फेंक दी गई, उसकी जांच करनी थीं। इस बीच उस पर अचानक मेल डियर ने हमला बोल दिया जिसके सींग से वह चोटिल हो गया। सोमवार को प्राणी उद्यान बंद था लेकिन सुबह 10 बजे हर दिन की तरह सफाई के लिए इन्हीं स्पॉटेड डियर के बाड़ा में सफाई कर्मी बृजेश, जू-कीपर राजेश के साथ बाड़ा में प्रवेश किए। राजेश ने हाथ में डंडा भी लिया था।

लेकिन अचानक पुन: उसी मेल स्पॉडेट डियर ने हमला बोला जिसमें राजेश चोटिल हो गया। हालांकि बृजेश को चोट नहीं आई। फिर जू-कीपरों के सहयोग से हमलावर मेल स्पॉटेड डियर को बाड़ा में निर्मित कराल में अकेले बंद किया गया। इसी मेल डियर ने पिछले दिनों जू-कीपर दीपचंद को तब घायल कर दिया जब वह चोटिल मादा स्पॉटेड डियर को उपचार के लिए बाड़ा से निकालने की कोशिश कर रहा था। घायल मादा स्पॉटेड डियर को बचाया नहीं जा सका था। सोमवार को 11 बजे के करीब बाड़ा में बंद दूसरे मेल स्पाटेड डियर को भी कराल में डालने की कोशिश में जू कीपर अभिषेक भी चोटिल हो गए। उन्हें सिविल अस्पताल में उपचार दिलाया गया है।

प्रजनन काल में बदला व्यवहार
प्राणी उद्यान वन्यजीव विशेषज्ञ डॉ. योगेश कुमार सिंह बताते हैं कि यह डियर का प्रजनन काल का समय है। इन स्थितियों उनका व्यवहार बदल जाता है। उनकी देखभाल करना हमारी रोज की दिनचर्या का हिस्सा है। उनके हमले से नियमानुसार हम सिर्फ अपना बचाव कर सकते हैं। उन्हें चोट नहीं पहुंचा सकते। दोनों जू-कीपर ठीक है। हमलावर स्पॉटेड डियर को कराल में अलग रखा गया है।

संबंधित खबरें