ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशप्रेमिका को देने के लिए युवक से मांगा था स्मार्टफोन, मना करने पर दोस्त की मदद से कर दी हत्या 

प्रेमिका को देने के लिए युवक से मांगा था स्मार्टफोन, मना करने पर दोस्त की मदद से कर दी हत्या 

यूपी के आगरा में अपनी बहन के घर आए युवक का शव छह जनवरी को सरसों के खेत में मिला था। हत्या के पीछे कोई पुरानी रंजिश नहीं थी। युवक के जीजा के पड़ोसी को उसका मोबाइल पसंद आ गया था। उसे वह मोबाइल अपनी...

प्रेमिका को देने के लिए युवक से मांगा था स्मार्टफोन, मना करने पर दोस्त की मदद से कर दी हत्या 
आगरा । हिन्दुस्तान संवादMon, 11 Jan 2021 11:56 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के आगरा में अपनी बहन के घर आए युवक का शव छह जनवरी को सरसों के खेत में मिला था। हत्या के पीछे कोई पुरानी रंजिश नहीं थी। युवक के जीजा के पड़ोसी को उसका मोबाइल पसंद आ गया था। उसे वह मोबाइल अपनी प्रेमिका को तोहफे में देना था। इसलिए दोस्त के साथ मिलकर युवक को मार डाला। मोबाइल लूट लिया। पुलिस ने सोमवार को हत्याकांड का खुलासा किया। दो हत्यारोपियों को जेल भेजा गया है। एसपी ग्रामीण पश्चिम सत्यजीत गुप्ता ने बताया कि छह जनवरी को सैंया क्षेत्र में सरसों के खेत में युवक का शव मिला था। शव की पहचान जितेंद्र के रूप में हुई थी। वह चमरपुर डांग घियावली, धौलपुर का निवासी था। सैंया में अपनी बहन के घर आया था। पांच जनवरी को वहां से अपने घर के लिए निकला था। धौलपुर नहीं पहुंचने पर घरवालों ने सैंया थाने में उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई थी।

एसपी ग्रामीण ने बताया कि जितेंद्र की हत्या इमली बस्ती निवासी मोनू और सुमित ने की थी। दोनों को गिरफ्तार करके जेल भेजा गया है। हत्या की वजह सुनकर पुलिस वाले भी हैरान रह गए। मोनू ने पुलिस को बताया कि जितेंद्र के जीजा का घर उसके पड़ोस में है। जितेंद्र अपनी बहन के घर आया था। उसने देखा कि उसके पास एक अच्छा मोबाइल है। आगरा में उसकी प्रेमिका रहती है। प्रेमिका ने उससे पिछले दिनों टच स्क्रीन वाला अच्छा फोन मांगा था, ताकि दोनों वीडियो कॉल पर भी बातचीत कर सकें। उसके पास मोबाइल खरीदने के लिए रुपये नहीं थे। उसे जितेंद्र का फोन पसंद आ गया। सोच लिया कि इसे ही लूटकर अपनी प्रेमिका को दे दूंगा।

उसने अपने दोस्त सुमित से कहा कि एक काम करना है। पड़ोसी के साले का मोबाइल छीनना है। बहुत इतराता है। उसने उससे मोबाइल दिखाने को कहा था। उसने अपना मोबाइल उसके हाथ में भी नहीं दिया। बाहर से आए युवक ने उसकी बेइज्जती कर दी है। बदला लेना है। पांच जनवरी की सुबह मोनू और सुमित ने योजना के तहत जितेंद्र को खेत में घेर लिया। उसका मोबाइल छीनने लगे। विरोध करने पर उसे पीटा। उसका गला दबा दिया। मोबाइल लूटकर ले गए। पुलिस ने लूटे हुए मोबाइल से हत्या की गुत्थी सुलझाई। गांव में मोनू की हकीकत जानने के बाद हर कोई हैरान है।